चेन्नई (जेएनएन)। तमिलनाडु में चल रहा राजनीतिक घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। राज्य के कार्यकारी मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम और एआईएडीएमके की महासचिव शशिकला में वर्चस्व की लड़ाई तेज हो गयी है। एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक, बुधवार को पन्नीरसेल्वम ने शशिकला को बड़ा झटका देते हुए बैंक ऑफ इंडिया को पत्र लिखकर आदेश दिया है कि उनकी सहमति के बगैर पार्टी कोई भी खाता संचालित ना किया जाए। एआईएडीएमके का खाता बैंक ऑफ इंडिया में है।

पन्नीरसेल्वम का कहना है कि वह अभी भी एआईएडीएमके के कोषाध्यक्ष हैं। पन्नीरसेल्वम ने यहां स्थित दो बैंकों को पत्र लिखकर निर्देश दिया है कि जब तक उनकी लिखित अनुमति बैंकों के पास ना पहुंच जाए तब तक वे किसी भी व्यक्ति को पार्टी के खातों को संचालित करने की अनुमति ना दें।

यह भी पढ़ें: शशिकला के खिलाफ सेलवम, द्रमुक की साजिश या BJP का प्रयास, जानें- मुख्य बातें

पन्नीरसेल्वम ने मैलापोर एरिया में स्थित दोनों बैंकों को अलग-अलग पत्र लिखकर कहा है कि पार्टी के प्रासंगिक नियम के अनुसार वह अभी भी एआईएडीएमके के कोषाध्यक्ष हैं। पत्र करुर व्यासा बैंक और बैंक आफ इंडिया के मुख्य प्रबंधकों को संबोधित किया गया था।

पन्नीरसेल्वम ने अपने पत्र में लिखा है कि जयललिता की निधन के बाद पार्टी का महासचिव पद अभी भी खाली है क्योंकि उपरोक्त पद के लिए चयन पार्टी संविधान के नियम 20, उपखंड दो के तहत अभी होना बाकी है। पनीरसेल्वम ने कहा कि पार्टी महासचिव द्वारा नामित पदाधिकारी जैसे केंद्रीय कार्यकारी समिति के सदस्य, उप महासचिव, कोषाध्यक्ष और पार्टी मुख्यालय सचिव तब तक पद पर बने रहेंगे जब तक कि एक नए महासचिव का चुनाव प्रासंगिक नियमों एवं उप नियमों के तहत नहीं किया जाता।

यह भी पढ़ें: पन्नीरसेल्वम का छलका दर्द, कहा- करीबियों ने ही किया अपमानित

Posted By: Kishor Joshi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस