नई दिल्‍ली [जागरण स्‍पेशल]। शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Shiv Sena Chief Uddhav Thackeray) गुरुवार को महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री (Maharashtra Chief Minister) पद की शपथ लेंगे। इसके साथ ही वह ठाकरे परिवार के दूसरे ऐसे नेता बन जाएंगे जो सरकार का हिस्‍सा होंगे। उनके बेटे आदित्‍य ठाकरे परिवार के पहले ऐसे सदस्‍य हैं जो सक्रिय राजनीति में आने के साथ विधानसभा का हिस्‍सा बने हैं। इससे पहले तक ठाकरे परिवार मातोश्री से ही शिवसेना की अगुआई करता आ रहा था। वक्‍त के साथ अब शिवसेना की नीतियां और उसकी कार्यशैली में भी बदलाव आता दिखाई दे रहा है। 

उद्धव को काफी शांत स्‍वभाव का व्‍यक्ति माना जाता है। य‍ह छवि उनके पिता बाला साहब ठाकरे से बिल्‍कुल उलट है। यदि इन दोनों के भाषणों पर भी निगाह डालेंगे तो भी यह साफ जाहिर हो जाएगा कि बाला साहब ठाकरे हिंदुत्‍व को लेकर जिस तरह से कट्टर स्‍वभाव के थे उस तरह से उद्धव नहीं हैं। यह उनकी व्‍यक्तित्‍व से जुड़ा एक बड़ा पहलू है। उद्धव को कभी भी बाला साहब ठाकरे की तरह तीखी बयानबाजी करते नहीं देखा गया है। 

बाला साहब ठाकरे के बाद पार्टी की राजनीति में भी बड़ा उलटफेर देखने को मिला है। इसी उलटफेर की वजह से शिव सेना भाजपा के निशाने पर है। शिवसेना भाजपा से तीन दशक पुराना गठबंधन तोड़कर पहली बार एनसीपी-कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना रही है। बहरहाल, अब जबकि उद्धव राज्‍य की कमान संभालने वाले हैं तो यह जानना जरूरी आखिर राज्‍य के इस भावी मुखिया की पसंद और नापसंद क्‍या हैं। 

  • सबसे पहले आपको बता दें कि बाला साहब ठाकरे की ही तरह उद्धव ठाकरे को फोटोग्राफी का काफी शौक है। बेहद कम लोग जानते हैं कि उनके द्वारा खींची गई महाराष्‍ट्र के विभिन्‍न किलों की एरियल फोटो को वर्ष 2004 जहांगीर आर्ट गैलरी में प्रदर्शित किया गया था। इसके अलावा महाराष्‍ट्र देश के नाम से एक फोटो बुक भी वर्ष 2010 में पब्लिश हुई थी। इसके अलावा 2011 में पहवा विठ्ठल नाम से जारी एक किताब में महाराष्‍ट्र की भिन्‍न-भिन्‍न खूबियों के बारे में जानकारी दी गई थी। आपको यहां पर ये भी बता दें कि बाला साहब बहुत अच्‍छे पेंटर और कार्टूनिस्‍ट भी थे।     
  • उद्धव ठाकरे ज्‍यादातर कुर्ता पायजामा पहनना पसंद करते हैं और उनका फेवरेट कलर ऑरेंज है। यही वजह है कि जब वह राज्‍यपाल से सरकार बनाने का दावा करने के लिए मिलने पहुंचे थे तो उन्‍होंने इसी फेवरेट कलर का कुर्ता पहना था।   
  • इसके अलावा उन्‍हें म्‍यूजिक सुनना भी अच्‍छा लगता है। इसमें भी वह भक्ति संगीत सुनना ज्‍यादा पसंद करते हैं। इसके अलावा फिल्‍मी गाने और गजल भी सुनना उन्‍हें पसंद है। 
  • बेहद कम लोग ये जानते हैं कि बाला साहब ठाकरे ने जैन धर्म से प्रभावित होकर नॉनवेज को पूरी तरह से त्‍याग दिया था। वहीं उद्धव ठाकरे की यदि बात करें तो वह शुरुआत से ही शाकाहारी हैं। 
  • बाला साहब को उनके अंतिम वर्षों में लोगों ने जब देखा तो उनके चेहरे पर दाढ़ी रहती थी, लेकिन उद्धव क्‍लीन शेव रहना पसंद करते हैं। 
  • उद्धव को ड्राइविंग और तैराकी का भी शौक है। बेहद कम लोग ये जानते हैं कि वो नियमित तौर पर योगा करते हैं। लेकिन खाने में वह बेहद संयमित हैं। हां, लेकिन फलों की बात करें तो केला उन्‍हें काफी पसंद है। उन्‍हें ऑरेंज कलर काफी पसंद है। 
  • 27 जुलाई 1960 को मुंबई में जन्‍मे उद्धव की राशि सिंह है। उनका कद करीब 5 फीट दस इंच है। उन्‍होंने मुंबई के बालमोहन विद्यामंदिर से पढ़ाई करने के बाद सर जेजे स्‍कूल ऑफ आर्ट से ग्रजुएशन किया है। 
  • वर्ष 2012 में उद्धव ठाकरे को सीने में दर्द की वजह से लीलावती अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, जहां पर उनके एंजियोप्‍लास्‍टी हुई थी। इस दौरान उनकी आर्टरीज में तीन ब्‍लॉकेज को सफलतापूर्वक खोला गया था।
  • 2002 में बृहनमुंबई कॉर्पोरेशन में जीत मिलने के बाद उन्‍हें जनवरी 2003 में पार्टी का कार्यकारी अध्‍यक्ष बनाया गया था। 
  • उद्धव ने ही नारायण राणे को पार्टी में बगावत करने पर बाहर का रास्‍ता दिखाया था। वर्ष 2006 में राज ठाकरे ने शिव सेना से अलगाव होने पर महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना बनाई थी।

यह भी पढ़ें:- 

जानें- आखिर Cartosat-3 सैटेलाइट को क्‍यों कहा जा रहा है अंतरिक्ष में भारत की आंख

2020 में भी सबसे खतरनाक टूरिस्‍ट डेस्टिनेशन की सूची में पाकिस्‍तान, कई अन्‍य देश भी शामिल  

अब महज चार घंटे में तय होगी करीब 6 हजार किमी की दूरी, किराया भी होगा पहले से कम

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस