Move to Jagran APP

Indian Air Force Day: 8 अक्टूबर को ही क्यों मनाया जाता है भारतीय वायु सेना दिवस, जानें इससे जुड़ी खास बातें

Indian Air Force Day 2022 आज भारतीय वायु सेना का 90वां स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। भारतीय वायु सेना में शामिल होने के लिए लाखों युवा आवेदन भेजते हैं लेकिन कुछ ही ऐसे लोग होते हैं। जिन्हें भारतीय वायु सेना में जगह मिल पाती है।

By Mohd FaisalEdited By: Published: Sat, 08 Oct 2022 11:31 AM (IST)Updated: Sat, 08 Oct 2022 11:31 AM (IST)
Indian Air Force Day: 8 अक्टूबर को ही क्यों मनाया जाता है भारतीय वायु सेना दिवस (फोटो एएफपी)

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय वायु सेना का आज 90वां स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। भारतीय वायु सेना के इतिहास में पहली बार एयरफोर्स डे की परेड का आयोजन चंडीगढ़ में हो रहा है। इससे पहले वायु सेना की एयरफोर्स डे की परेड का आयोजन गाजियाबाद के हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर ही होता रहा है।

loksabha election banner

वायु सेना से जुड़ी इन बातों को जानें

ऐसे में आपको भारतीय वायु सेना के स्थापना दिवस से जुड़ी कुछ खास बातों को जरुर जानना चाहिए। आखिर 8 अक्टूबर को ही वायु सेना दिवस क्यों मनाया जाता है।

1932 में हुई थी भारतीय वायु सेना की स्थापना

भारतीय वायु सेना की स्थापना 1932 में हुई थी। उस वक्त देश में अंग्रेजों की हुकूमत थी। उस दौरान भारतीय वायु सेना को रॉयल इंडियन एयर फोर्स के नाम से जाना जाता था। हालांकि, जब देश आजाद हुआ तो रॉयल शब्द हटा दिया गया। जिसके बाद इसे भारतीय एयर फोर्स के नाम से जाना गया। इसलिए 8 अक्टूबर के दिन वायु सेना दिवस मनाया जाता है।

दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना

बता दें कि भारतीय एयरफोर्स दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में स्थित हिंडन वायु सेना स्टेशन एशिया में सबसे बड़ा है।

कई युद्ध में दमखम दिखा चुकी है वायु सेना

भारतीय वायु सेना अपनी स्थापना के बाद से अब तक कई युद्धों में शामिल हो चुकी है। भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के खिलाफ चार बार युद्ध में हिस्सा लिया है। पहली बार वायु सेना ने 1948, उसके बाद 1965 और 1971 व 1999 में युद्ध में हिस्सा लिया। इसके अलावा, वायु सेना 1962 में चीन के सामने अपना दम दिखा चुकी है।

चीफ ऑफ एयर स्टाफ के पास होती है अहम जिम्मेदारी

भारतीय वायुसेना का प्रमुख अधिकारी चीफ ऑफ एयर स्टाफ कहलाता है और इसका पद चीफ एयर मार्शल का होता है। वायुसेना का मुख्यालय दिल्ली में स्थित है। चीफ ऑफ एयर स्टाफ की सहायता के लिए एयर मार्शल तथा वाइस एयर मार्शल, या एयर कमोडोर पद के मुख्य चार स्टाफ अफसर होते हैं। ये वायुसेना की प्रमुख शाखाओं पर नियंत्रण रखते हैं।

कैसे कर सकते हैं आवेदन

भारतीय वायु सेना में शामिल होने के लिए लाखों युवा आवेदन भेजते हैं, लेकिन कुछ ही ऐसे लोग होते हैं। जिन्हें भारतीय वायु सेना में जगह मिल पाती है। हालांकि, भारतीय वायु सेना में करियर बनाने के लिए बहुत अधिक योग्यता की आवश्यकता नहीं होती है। जो शख्स IAF के मानदंडो को पूरा कर पाता है, वह भर्ती के लिए आवेदन कर सकता है।

NDA परीक्षा करनी होगी क्वालीफाई

बता दें कि 12वीं के बाद अगर आप भी इंडियन एयर फोर्स ज्वाइन करना चाहते हैं तो NDA परीक्षा क्वालीफाई करने के बाद भारतीय वायु सेना में शामिल हो सकते हैं। भारतीय वायु सेना की वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के अनुसार, 17.5 से 19.5 वर्ष के बीच के उम्मीदवार ही वायु सेना के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

Indian Air Force Day: अंग्रेजों के जमाने का एयरबेस, 103 साल पुराना, चंडीगढ़ एयर शो में अंबाला से भरेंगे उड़ान

पीएम मोदी ने वीडियो शेयर कर भारतीय वायुसेना के योद्धाओं को दी बधाई, कहा- इन्होंने राष्ट्र को रखा है सुरक्षित


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.