Move to Jagran APP

'युद्ध कोई समाधान नहीं', पीएम मोदी और पुतिन की वार्ता से पहले भारत का रूस को संदेश

इस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रूस की दो दिवसीय यात्रा पर हैं। उन्होंने अनौपचारिक बैठक में राष्ट्रपति पुतिन से मुलाकात की। आज यानी मंगलवार को भारत और रूस के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता होगी। इससे पहले भारत की ओर से एक अहम टिप्पणी की गई। सूत्रों के अनुसार भारत ने हमेशा क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता सहित संयुक्त राष्ट्र चार्टर का सम्मान करने का आह्वान किया है।

By Agency Edited By: Nidhi Avinash Tue, 09 Jul 2024 11:11 AM (IST)
पीएम मोदी और पुतिन की वार्ता से पहले भारत का संदेश (Image: ANI)

एजेंसी, नई दिल्ली। PM Modi Russia Visit: रूस-यूक्रेन संघर्ष 2022 में शुरू होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यह पहली मॉस्को यात्रा है। इस दौरान वह राष्ट्रपति पुतिन से मिले और अनौपचारिक बैठक भी की। आज यानी मंगलवार को भारत और रूस के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता होगी।

इससे पहले सूत्रों ने ANI को बताया कि भारत ने हमेशा क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता सहित संयुक्त राष्ट्र चार्टर का सम्मान करने का आह्वान किया है। सूत्रों के अनुसार, भारतीय पक्ष रूसियों को यह बताएगा कि 'युद्ध के मैदान में कोई समाधान नहीं है' और 'बातचीत और कूटनीति ही आगे का रास्ता है।'

अमेरिका की टिप्पणी के बाद आया ये बयान

ये टिप्पणियां अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर की सोमवार को की गई प्रतिक्रिया के बाद आई हैं। दरअसल, उन्होंने कहा था कि अमेरिका भारत को रूस पर यह दबाव डालने के लिए प्रोत्साहित करेगा कि यूक्रेन संघर्ष का कोई भी समाधान संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अनुरूप हो। मिलर ने कहा कि भारत एक रणनीतिक साझेदार है जिसके साथ हम खुली और ईमानदार चर्चा करते हैं, जिसमें रूस के साथ उसके संबंधों के बारे में हमारी चिंताएं भी शामिल हैं।'

पीएम मोदी और पुतिन की अनौपचारिक बैठक

बता दें कि मिलर की यह टिप्पणी पीएम मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच सोमवार को नोवो-ओगारियोवो निवास पर हुई अनौपचारिक बैठक के बाद आई है। इस बैठक में दोनों देशों के बीच संबंधों के आगे विकास की संभावनाओं पर चर्चा की गई।

इस बैठक के दौरान दोनों नेताओं ने यूक्रेन की स्थिति पर चर्चा की और मंगलवार को आगे की विस्तृत चर्चा होगी। सरकारी सूत्रों के अनुसार, भारत का दृष्टिकोण है कि यूक्रेन संघर्ष का समाधान युद्ध के मैदान में नहीं खोजा जा सकता। स्वाभाविक रूप से संघर्ष के समाधान के लिए दोनों पक्षों को बातचीत और कूटनीति के माध्यम से आगे आना चाहिए।

पीएम मोदी को इस बात की प्रतीक्षा

एक्स पर अपने पोस्ट में पीएम मोदी ने कहा कि वह मंगलवार को होने वाली विस्तृत चर्चाओं की प्रतीक्षा कर रहे हैं, 'आज शाम नोवो-ओगारियोवो में मेरी मेजबानी करने के लिए राष्ट्रपति पुतिन का आभार। कल की हमारी वार्ताओं की भी प्रतीक्षा कर रहा हूं, जो निश्चित रूप से भारत और रूस के बीच मैत्री के बंधन को और मजबूत करने में एक लंबा रास्ता तय करेगी।'

यह भी पढ़ें: PM Modi Russia Visit: पीएम मोदी और पुतिन की मुलाकात से टेंशन में क्यों आया अमेरिका, सता रहा इस बात का डर

यह भी पढ़ें; PM Modi और Putin के साथ साये की तरह रही ये महिला कौन हैं, दोनों नेताओं के लिए किया ये अहम काम