नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। देश के सबसे बड़े राज्य में दो बड़ी पार्टियों ने लोकसभा चुनाव में जीत हासिल करने के लिए गठबंधन किया मगर उसका रिजल्ट उनकी उम्मीदों के मुताबिक नहीं रहा। अब परिणाम आ जाने के बाद दोनों दल अपनी हार जीत का हिसाब किताब लगा रहे हैं। बसपा तो अपनी हार के लिए सपा को जिम्मेदार ठहरा रही है। सुप्रीमो मायावती का कहना है कि जो सोचकर उन्होंने सपा के साथ गठबंधन किया था वो वोट बैंक उनको नहीं मिल पाए इस वजह से वो उम्मीद के मुताबिक सीटें नहीं जीत पाई। बीते दो दिनों से सपा बसपा गठबंधन टूटने की कगार पर है। मायावती अब आने वाले उपचुनाव में अकेले ही ताल ठोंकने की तैयारी कर रही है। दो दिन पहले हुई बैठक में वो इसके संकेत दे चुकी हैं।

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में यादव वोट बीएसपी के पक्ष में ट्रांसफर नहीं हुए हैं इसलिए बीएसपी अब उत्तर प्रदेश में 11 सीटों पर होने वाले विधानसभा उप चुनाव में अकेले लड़ेगी। उन्होंने कहा कि शिवपाल यादव ने यादवों का वोट काटा है। बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले बड़ी तैयारी के बाद एसपी, बीएसपी और आरएलडी के बीच गठबंधन हुआ था। तीनों दलों ने यूपी में 50 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा किया था। लेकिन लोकसभा चुनावों के परिणाम उम्मीदों के उलट रहे, बीएसपी केवल 10 सीटों पर ही जीत सकी जबकि एसपी को केवल 5 सीटें मिलीं। इतना ही नहीं सपा के दुर्ग कहे जाने वाले कन्नौज, बदायूं और फिरोजाबाद में मुलायम परिवार के सदस्य तक चुनाव हार गए। उनको भी इस तरह के परिणाम की उम्मीद नहीं थी।

कई लोगों का यह भी कहना है कि गठबंधन के सीट बंटवारे में मायावती ने मन मुताबिक सीटें ले लीं। वोटों के अदान-प्रदान के लहजे से देखें तो जिन 10 सीटों पर बसपा ने जीत दर्ज की है, वहां सपा 2014 में दूसरे स्थान पर थी। इसी कारण सपा को असफलता मिली। नगीना, बिजनौर, श्रावस्ती, गाजीपुर सीटों पर सपा के पक्ष में समीकरण था। एक दूसरा बड़ा कारण गठबंधन की केमेस्ट्री जमीन तक नहीं पहुंच पाई जिसका नतीजा ये रहा। चुनाव के दौरान रैलियों और सभाओं में जो भीड़ उम़ड़ी उसको देखकर इन्हें लगा कि हमारे वोट एक-दूसरे को ट्रांसफर हो जाएंगे। लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। चुनावी पंडित हार जीत का गणित लगाते रहे मगर परिणाम इसके एकदम उलट आए।

मायावती को यह मालूम था कि मुस्लिम वोटरों पर मुलायम की वजह से सपा की अच्छी पकड़ है। इसका फायदा मायावती को हुआ। गठबंधन के बाद मायावती ने अपने हिसाब से सीटें ली, उन्होंने जीतने वाली सीटें अपने खाते में ले ली। इसके बाद भी कई सीटों पर बसपा उम्मीदवार बहुत मामूली अंतर से हार गए। इन सीटों में मेरठ और मछली शहर शामिल हैं। मछली शहर में बसपा उम्मीदवार टी. राम भाजपा प्रतिद्वंद्वी बी.पी. सरोस से मात्र 181 मतों से हार गए। बीजेपी के नेतृत्व में एनडीए गठबंधन ने 64 सीटों पर जीत दर्ज की। इस बार के लोकसभा चुनाव में बीएसपी 38, एसपी 37 और आरएलडी 3 सीटों पर मिलकर चुनाव लड़ी मगर नतीजा खराब रहा। गठबंधन ने अमेठी और रायबरेली की सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ दी थी। अमेठी सीट भी कांग्रेस हार गई, यहां भाजपा ने जीत हासिल की।

तीनों पार्टियों ने चुनाव जीतने के लिए एक नारा भी दिया था जिसमें एक भी वोट ना जाने पाएं, एक भी वोट ना बटने पाए, का स्लोगन दिया गया था। इसका मतलब था कि मुस्लिम, यादव, दलित और जाट वोट मिलकर चुनाव जीतवा देंगे। अब यदि बसपा को दी गई सीटों पर वोट बैंक की चर्चा करें तो मात्र एक सीट पर ही उनको कम वोट मिले। बाकी 37 सीटों पर वोट प्रतिशत बढ़ा हुआ रहा है। साल 2014 में सहारनपुर में 19.67 फीसदी वोट मिले थे जबकि साल 2019 में 41.74 वोट मिले। इसी तरह से बाकी के अन्य लोकसभा क्षेत्रों में भी इसी तरह से वोट फीसद में बढ़ोतरी हुई मगर सीटें हासिल नहीं हो पाई।

..........

लोकसभा                              साल 2014                               साल 2019

सहारनपुर                              19.67                                     41.74

बिजनौर                                 21.7                                       50.97

नगीना                                   26.06                                     56.31

अमरोहा                                  14.87                                     51.41

मेरठ                                     27                                            47.8

गौतमबुद्धनगर                         16.53                                     35.46

बुलंदशहर                                 18.06                                    34.82

अलीगढ़                                     21.4                                    36.71

आगरा                                       26.48                                  38.01

फतेहपुर सीकरी                           26.18                                  16.2

आंवला                                       19.1                                    40.27

शाहजहांपुर                                  25.62                                  35.46

धौरहरा                                       22.13                                   33.12

सीतापुर                                     35.69                                    38.86

मिश्रीख                                      32.58                                    42.25

मोहनलाल गंज                            27.75                                    42.51

सुल्तानपुर                                   23.98                                    44.45

प्रतापगढ़                                     23.2                                      34.83

फरूर्खाबाद                                   11.8                                       34.72

अकबरपुर                                     20.85                                    29.86

जालौन                                        23.57                                     37.47

हमीरपुर                                       18.03                                     29.96

फतेहपुर                                        28.26                                     35.24

अंबेडकर नगर                                28.29                                     51.75

कैसरगंज                                      15.55                                      32.58

श्रावस्ती                                        19.88                                     44.31

डुमरियागंज                                    20.88                                    39.27

बस्ती                                             27.06                                    41.8

संत कबीर नगर                               24.79                                     40.61

देवरिया                                          23.77                                     32.57

बांसगांव                                         26.02                                     40.57

लालगंज                                         26.01                                      54.01

घोसी                                             22.48                                       50.3

सलेमपुर                                         18.68                                       38.52

जौनपुर                                           21.93                                       50.08

मछलीशहर                                      26.66                                       47.17

गाजीपुर                                          24.49                                       51.2

भदौही                                             25                                             44.87

नोट- साल 2014 के मुकाबले 2019 में बढ़े वोट फीसद। 

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vinay Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस