नई दिल्ली, एजेंसी: इंटेलिजेंस ब्यूरो (The Intelligence Bureau) ने 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) से पहले लश्कर-ए-तैयबा (LeT), जैश-ए-मोहम्मद (JeM) और अन्य कट्टरपंथी समूहों द्वारा संभावित आतंकी हमले (Terror attack) के लिए अलर्ट जारी किया है।

LeT, JeM और अन्य कट्टरपंथी समूहों से है खतरा

आइबी (IB) की 10 पन्नों की रिपोर्ट में कहा गया है कि लश्कर, जैश और अन्य कट्टरपंथी समूहों से खतरा है। रिपोर्ट में दिल्ली पुलिस को 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस से पहले लाल किले में सख्त प्रवेश नियम (strict entry rules) लागू करने का निर्देश दिया गया है।

बता दें कि इस रिपोर्ट में जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे (former Prime Minister of Japan Shinzo Abe) पर हमले और उदयपुर और अमरावती की घटनाओं का उल्लेख किया गया है।

15 अगस्त को कार्यक्रम स्थल पर सख्त प्रवेश नियम लागू

 आइबी (The Intelligence Bureau) ने दिल्ली पुलिस (Delhi police) को अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया है। दिल्ली पुलिस को 15 अगस्त को कार्यक्रम स्थल पर सख्त प्रवेश नियम लागू करने के लिए भी कहा गया है।

खुफिया एजेंसियों ने उदयपुर (Udaipur Incident) और अमरावती (Amravati Incident) में हुई घटनाओं का जिक्र करते हुए पुलिस को उग्रवादी समूहों और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर उनकी गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए हैं।

पाकिस्तान ISI आतंकियों को भड़का रहा

रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान आइएसआइ जैश और लश्कर के आतंकियों को लाजिस्टिक सपोर्ट देकर आतंकी हमलों को भड़का रहा है। JeM (Jaish-e-Mohammed) और LeT (Lashkar-e-Taiba) को बड़े नेताओं और अहम जगहों को निशाना बनाने की हिदायत दी जा रही है।

आइबी (IB) ने अपनी रिपोर्ट में दिल्ली पुलिस और अन्य राज्यों को स्वतंत्रता दिवस (Independence Day 2022) से पहले कट्टरपंथी समूहों पर नजर रखने का निर्देश दिया है। ISI द्वारा बनाए गए लश्कर-ए-खालसा में अफगान फाइटर को शामिल किया गया है। यह आतंकी संगठन जम्मू-कश्मीर में बड़े आतंकी हमले को अंजाम दे सकता है।

BSF को दिए गए अलर्ट पर रहने के निर्देश

रिपोर्ट में कहा गया है कि आतंकवादी संगठन लश्कर और जेइएम हमले के लिए यूएवी (मानव रहित हवाई वाहन) और पैराग्लाइडर का इस्तेमाल कर सकते हैं, इसलिए बीएसएफ (Border Security Force) को अलर्ट रहने को कहा गया है।

आइबी (IB) की रिपोर्ट में दिल्ली के उन इलाकों पर भी कड़ी निगरानी रखने के निर्देश दिए गए हैं जहां रोहिंग्या, अफगानिस्तान राष्ट्रीय सूडान के लोग रह रहे हैं। इसके साथ ही आइबी ने पुलिस को टिफिन बम (Tiffin bomb), चिपचिपे बम (sticky bomb) और वीवीआइइडी (VVIED) के खतरे से निपटने के लिए अलर्ट रहने का निर्देश दिया है।

लाल किले के आस-पास लगेंगे 1000 से अधिक CCTV कैमरे

स्वतंत्रता दिवस समारोह को बाधित करने की चेतावनी देने वाले विभिन्न आतंकवादी संगठनों की धमकियों के बीच, दिल्ली पुलिस ने यहां लाल किले और उसके आसपास 1,000 से अधिक इंटरनेट प्रोटोकॉल (आइपी) आधारित सीसीटीवी कैमरे लगाने का फैसला किया है।

एएनआइ द्वारा एक्सेस किए गए दस्तावेज़ में लिखा है कि कुल आवश्यकता में से, आइपी-आधारित 2-मेगापिक्सेल के 80 प्रतिशत सीसीटीवी कैमरे और आइपी-आधारित 4-मेगापिक्सेल के 20 प्रतिशत सीसीटीवी कैमरे आयोजन स्थल के हर कोने पर लगाए जाएंगे।

आइपी-आधारित 4-मेगापिक्सेल के ये 20 प्रतिशत सीसीटीवी कैमरे रणनीतिक स्थानों पर स्थापित किए जाएंगे, जिन्हें स्थापना के समय संबंधित डीसीपी द्वारा सूचित किया जाएगा और शेष 80 प्रतिशत स्थानों को आइपी-आधारित 2-मेगा पिक्सेल सीसीटीवी कैमरे द्वारा कवर किया जाएगा।

Edited By: Versha Singh