नई दिल्‍ली जागरण स्‍पेशल। ईरान और अमेरिका के बीच तनाव से अब कोई देश अछूता नहीं रहा है। मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद ईरान में उबाल है। वहीं अमेरिका भी समय के साथ अपनी तैयारियां तेज कर रहा है। मध्‍य पूर्व में अमेरिका की मौजूदगी और यहां के देशों से उसका टकराव कोई नया नहीं है। ईरान ही नहीं इराक, सीरिया, लीबिया समेत अफगानिस्‍तान ने इसको करीब से महसूस किया भी है और वर्तमान में भी कर रहे हैं। वहीं विदेश मामलों के विशेषज्ञ इस बात को लेकर एक राय रखते हैं कि अमेरिका की यहां पर मौजूदगी केवल अपने निजी हितों की पूर्ति के लिए ही है। उसके यह निजी हित तभी पूरे हो सकते हैं जब इन देशों में अमेरिकी परस्‍त हुकूमत (Pro-US Government) काबिज हो। इराक में सद्दाम हुसैन के पतन के बाद अमेरिका की सरपरस्‍ती में उसकी पसंद की सरकार बनी थी, लेकिन अन्‍य जगहों पर ऐसा नहीं हो सका।

वहीं ईरानी कमांडर (Iranian Major-General Qassem Soleimani) की मौत के बाद अब इराक भी अमेरिकी फौज को देश से बाहर निकालना चाहता है। जानकारों की राय में अमेरिका ईरान में भी अपनी ही पंसद की सरकार चाहता है, जो उसके हितों के लिए काम करे। लेकिन, ईरान के सर्वोच्‍च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई की मौजूदगी में यह संभव नहीं है। लेकिन आपको ये भी बता दें कि कभी ईरान में भी अमेरिका की पसंदीदा सरकार हुआ करती थी। आपको जानकर हैरत होगी इस हुकूमत को एक भारतीय मूल के शख्‍स ने ही चुनौती दी थी जो बाद में देश का सर्वोच्‍च नेता भी बना था। इनका नाम था अयातुल्‍लाह रुहोल्लाह खामेनेई (Ayatollah Ali Khamenei)।  

बाराबंकी से ईरान गए थे सर्वोच्‍च नेता के दादा 

अयातुल्‍लाह खामेनेई के दादा सैय्यद अहमद मसूवी उत्तर प्रदेश के बाराबंकी के रहने वाले थे। 1830 के दशक में वह अवध के नवाब के साथ धार्मिक यात्रा पर इराक और फिर ईरान गए थे। लेकिन इसके बाद यहां से उनके लौटने का ही मन नहीं किया और वो वहां के खामेनेई गांव में बस गए। डाइचे वेले के मुताबिक उनके बाद की पीढ़ी ने खामेनेई को अपने सरनेम की तरह इस्‍तेमाल किया और आज ये नाम ईरान के सबसे ताकतवर शख्‍स के साथ जुड़ा है। ईरान की क्रांति के सफल होने से पहले तक ईरान के शाह की हुकूमत में खामेनेई को भारतीय मुल्‍ला और एजेंट तक भी कहा जाता था। आपको बता दें कि अयातुल्‍लाह को गजल सुनने का शौक था। एक लेख में इस शौक को केलर अयातुल्‍लाह को काफी बुराभला कहा गया था। लेकिन शाह का ये दांव उलटा साबित हुआ और जनता उनके ही खिलाफ सड़कों पर उतर आई थी। 

यू लिखी वर्तमान ईरान की पटकथा 

ईरान की सफल क्रांति की बात चली है तो आपको इस इतिहास में ले चलते हैं। बदलते ईरान की पटकथा पहले और दूसरे विश्‍व युद्ध के दौरान लिखी गई थी जब यहां पर तेल के बड़े भंडार की खोज हुई थी। इस खोज को ब्रिटेन एंग्‍लो-फारसी ऑयल कंपनी ने अंजाम दिया था।  जापान की हार के साथ जब दूसरा विश्‍व युद्ध खत्‍म हुआ तब ईरान में पहलवी राजवंश का राज था वहां के राजा मोहम्मद रजा शाह पहलवी ने 1949 में ईरान में नया संविधान लागू किया था। इसके लागू होने के बाद सात पीएम बने लेकिन इनका कार्यकाल बेहद कम समय के लिए रहा। इनमें अली मंसूर, अली रजमारा, खलील फाहिमी, हुसैन अला, मोहम्‍मद मोसद्दिक और अहमद कवाम का नाम शामिल है। मोसद्दिक ने 1952 में तेल की कंपनियों का राष्‍ट्रीयकरण लिया तो इस फैसले के खिलाफ ब्रिटेन ने मोर्चा खोल दिया था। इसी फैसले की वजह से ब्रिटेन ने अमेरिका के साथ मिलकर उनकी सरकार का तख्‍ता पलट कर दिया था। इसके बाद भी यूं तो देश में पीएम बने लेकिन उनका भी कार्यकाल कुछ माह या साल भर का ही रहा। इसकी वजह से देश में पीएम की अहमियत न के ही बराबर था और सारा कंट्रोल मोहम्मद रजा शाह पहलवी के ही पास था।

बगावत की सुगबुगाहट

यही वो वजह थी जिसकी वजह से शाह के खिलाफ आम जनता में बगावत को लेकर सुगबुगाहट तेज हो चली थी। दरअसल, जनता इस बात से भी खफा थी कि शाह लगातार अमेरिकी परस्‍त हो रहे थे और जनता की चुनी सरकारों को लगातार तख्‍ता पलट कर गिराया जा रहा था। जनता को लगने लगा था कि शाह अमेरिका की कठपुतली बन गए हैं। जनता के इसी गुस्‍से का फायदा उस वक्‍त के इस्‍लामिक नेता अयातुल्‍लाह रुहोल्लाह खामेनेई ने भरपूर उठाया। वह यूं भी शाह के मुखर विरोधी थे। शाह ने छह सूत्री कार्यक्रम के तहत 1963 में श्वेत क्रांति का एलान किया। सुधारों को लेकर बनाई गई नीतियां पश्चिम देशों की तर्ज पर आधारित थीं, जिनका बड़े पैमाने पर विरोध हुआ और इसकी अगुआई खामेनेई ने की। इससे नाराज होकर शाह ने 1964 में खामेनेई को देश से निकाल दिया। आदेश के बाद खामेनेई फ्रांस चले गए थे, लेकिन वहां जाने के बाद भी वह अपने समर्थकों को दिशा-निर्देश देते रहे। 

देश छोड़ भागे शाह 

1973 में वैश्विक बाजार में कच्‍चे तेल की कीमतों में आई भारी गिरावट की वजह से शाह की श्‍वेत क्रांति को लेकर मंशा पूरी नहीं हो सकी। सितंबर 1978 में ईरान के शाह के खिलाफ तेहरान के शाहयाद चौक पर हजारों की संख्‍या में लोगों ने एकत्रित होकर प्रदर्शन किया। इससे घबराकर ही शाह (Schah Mohammed Resa Pahlewi) ने ईरान में मार्शल लॉ लगा दिया था। शाह के इस तानाशाही रवैये के बाद लगातार हालात शाह की पकड़ से बाहर हो रहे थे। जनता सड़कों पर उतरकर खामेनेई को वापस बुलाने की मांग कर रही थी। यह प्रदर्शन इस कदर बढ़ गए थे कि इसके सामने मार्शल लॉ नाकाफी साबित होने लगा था। ईरानी जनता वहां के शासक ही नहीं प्रशासन और सेना पर भी भारी पड़ रही थी। शाह को अपने साथ अनहोनी होने का डर सताने लगा था। इसी डर की वजह से वह ईरान की सत्‍ता शापोर बख्तियार को सौंपकर 16 जनवरी 1979 को अमेरिका भाग खड़े हुए थे। 

देश में दो पीएम

पीएम बनने बाद शापोर ने जनता के दबाव में आकर खामेनेई को वापस आने की इजाजत दे दी। 12 फरवरी 1979 को खामेनेई फ्रांस से वापस स्‍वदेश लौट आए। उनकी वापसी का देश की जनता ने जबरदस्‍त स्‍वागत किया। जनता को खामेनेई से बड़ी उम्‍मीद थी। खामेनेई के तेवर जनता के समर्थन और उनकी वापसी के साथ और बढ़ गए थे।  उन्‍होंने देश में बख्तियार के अलावा मेहदी बाजारगान को नया प्रधानमंत्री घोषित कर दिया। इस फैसले के बाद देश एक अजीबो-गरीब स्थिति में पहुंच गया था। वहां पर दो पीएम थे। सेना भी बंट चुकी थी। शाह और पीएम समर्थन वाली इंपीरियल गार्ड्स और खामेनेई के समर्थन वाली वायुसेना के बीच सत्‍ता को लेकर युद्ध छिड़ गया जिसमें शाह समर्थक सेना की करारी हार हुई। 1979 में एक जनमत संग्रह के बाद ईरान को इस्लामी गणतंत्र घोषित किया गया। इसके साथ ही खामेनेई को देश का सर्वोच्च नेता चुना गया।

खत्‍म किया पीएम का पद

उन्‍होंने पीएम का पद खत्‍म कर इसकी जगह राष्‍ट्र‍पति का पद कायम किया। खामेनेई की ताजपोशी के साथ ही ईरान से अमेरिकी पसंद का साया भी पूरी तरह से खत्‍म हो चुका था। इसके जवाब में अमेरिका ने ईरान से सारे संबंध तोड़ लिए। इसकी ही जवाबी कार्रवाई में ईरान ने अमेरिकी दूतावास में 52 अमेरिकी नागरिकों को बंधक बना लिया, जिन्‍हें 444 दिनों बाद 1981 में रोनाल्ड रीगन के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने पर छोड़ा गया था। खामेनेई का कद लगातार ईरान में बढ़ता चला गया। 

अयातुल्‍लाह के बाद अली बने सर्वोच्‍च नेता

1980 में इराक ने ईरान पर हमला (Gulf War) किया तो उसका साथ रूस अमेरिका और ब्रिटेन ने दिया। लेकिन आठ साल तक चले इस युद्ध में अमेरिका को कुछ हासिल नहीं हो सका। आखिरकार अमेरिका को मजबूरन समझौता करना पड़ा। इसके बाद यह दुश्‍मनी तब और बढ़ गई जब 1988 में ईरान के एक यात्री विमान को अमेरिका ने मार गिराया था। इसमें दस भारतीय समेत कुल 290 यात्री सवार थे। इस हत्‍या के खिलाफ ईरान इंटरनेशनल कोर्ट (International Court of Justice) तक गया था। खामेनेई ने इसके बाद देश को नई ताकत देने के लिए परमाणु कार्यक्रम शुरू किया। उनके ही कार्यकाल में देश के मौजूदा सर्वोच्‍च नेता अली खमनेई राष्‍ट्रपति थे। 1989 में खामेनेई के निधन के बाद अली (Sayyid Ali Hosseini Khamenei) को देश का सवोच्‍च नेता बनाया गया। वह 1981 से 1989 तक देश के राष्ट्रपति रहे थे। 

यह भी पढ़ें:- 

अखबार बांटने वाले के बेटे का स्‍टार्टअप अब है अंतरिक्ष में रूचि रखने वालों के लिए बेहद खास   

Delhi Election: कांग्रेस के लिए 2013 की गलती बनी घातक, 2020 में AAP को कौन देगा टक्‍कर 

Expert Views: तेल के कारोबार और अपना वर्चस्‍व बढ़ाने के लिए US ने खतरे में डाला पूरा मिडिल ईस्‍ट 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस