जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। पाकिस्तान के साथ-साथ चीन की सीमा पर भी सुरक्षा तंत्र मजबूत करने के लिए केंद्र सरकार ने पूरी ताकत झोंक दी है। चीन से सटी सरहद पर सड़कों के जाल से लेकर सुरक्षा चौकियों व गांवों में बुनियादी सुविधाओं को लेकर चल रहे काम की समीक्षा मंगलवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे।

चीन सीमा पर सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता करने के उद्देश्य से हो रही इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के अलावा आइबी प्रमुख एवं आइटीबीपी के निदेशक व अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर चीन की आक्रामकता। समय-समय पर विवादित क्षेत्र में आकर झंडे गाड़ देना और शक्ति प्रदर्शन करने वाले ड्रैगन के मुकाबले भारत अपना तंत्र मजबूत करने पर जोर दे रहा है।

इसी कड़ी में सरकार ने 34 नए बार्डर पोस्ट बनाने का फैसला किया था। गृह मंत्री उसकी प्रगति की समीक्षा करेंगे। सड़कों का जाल मजबूत करने पर जोर है और अब तक हुए काम की भी समीक्षा होगी। सीमा पर सड़कों के लिए बने नेशनल हाइवे एंड डेवलपमेंट कार्पोरेशन के अधिकारी भी रिपोर्ट देंगे।

बीआरओ के साथ-साथ कार्पोरेशन बनने के बाद सीमा पर काम में बहुत ज्यादा तेजी आने की उम्मीद है। इतना ही नहीं सीमा से सटे इलाकों के विकास के लिए भी मुकम्मल योजना है, जिसे अमली जामा पहनाए जाने की समीक्षा होगी।

पढ़ें: चीन की टोह लेने उड़ा था चीता

चीन-पाक को सबक सिखाने में विफल रहे मोदी: राहुल

Edited By: Sachin k