जयपुर। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज जयपुर में आतंकवाद पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में बोलते हुए कहा कि अल्पसंख्यक नौजवानों को आइएसआइएस से प्रभावित होने से रोकने में उनके माता-पिता सजग हैं। यही वजह है कि दुनियाभर के देशों में जहां अल्पसंख्यकों के बीच आइएसआइएस अपने पैर पसार रहा है भारत इससे अछूता है।

यह भी पढ़ें- दुष्कर्मी मुकेश के साक्षात्कार पर गृहमंत्री ने जताया ऐतराज

साइबर संसार को नियंत्रित करने के लिए गृहमंत्री ने एक कमेटी बनाकर हर जरूरी कदम उठाने का भरोसा भी दिया। उन्होंने इस बात की जानकारी भी दी कि यूएन से प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों की सूची में शामिल होने के साथ ही आइएसआइएस भारत में भी स्वतः प्रतिबंधित है।

गृह मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान इस बात से अनभिज्ञ है कि कोई आतंकवादी अच्छा या बुरा नहीं होता। आतंकवादी सिर्फ आतंकवादी होता है। उन्होंने ये भी कहा कि भारत में आतंकवाद की ज्यादातर गतिविधियां सीमा पार से होती हैं।

यह भी पढ़ें- डाक्युमेंट्री की मंजूरी देने के सवाल पर भड़के पूर्व गृहमंत्री शिंदे

राजनाथ सिंह ने इस बात पर भी जोर दिया कि भारतीय मुसलमान देशभक्त हैं और कट्टरपंथी विचारधारा में ना बहे हैं और ना बहेंगे। उन्होंने कहा कि एक देश के रूप में भारत को अपनी विविधता पर गर्व है।

Edited By: Abhishek Pratap Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट