नई दिल्ली, प्रेट्र। सरकार नाथू ला के रास्ते कैलास मानसरोवर यात्रा को लेकर चीन के साथ बातचीत कर रही है। विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में यह जानकारी दी। भारत और चीन के बीच डोकलाम गतिरोध के बाद इस रास्ते से कैलास मानसरोवर यात्रा को चीन ने रोक दिया था।

सिंह ने कहा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने चीन के अपने समकक्ष वांग ली के साथ एक पखवाड़े पहले हुई बैठक के दौरान इस मुद्दे को उठाया था। उन्होंने कहा कि 2017 में नाथू ला के रास्ते कैलास मानसरोवर यात्रा नहीं हुई। इसके लिए चीन ने सुरक्षा की दृष्टि से विपरीत परिस्थितियों का हवाला दिया था। डोकलाम गतिरोध 16 जून को शुरू हुआ।

भारतीय सेना ने भारत के पूर्वी राज्यों में सुरक्षा खतरे को देखते हुए भूटान के क्षेत्र में चीन की सेना के सड़क निर्माण को रोक दिया था। इसको लेकर हुए गतिरोध के बाद चीन ने नाथू ला दर्रे से होकर कैलास मानसरोवर यात्रा को रोक दिया था। 28 अगस्त को डोकलाम गतिरोध खत्म हुआ। 

चीन की गतिविधि पर चिंता

इस बीच लोकसभा में भारत के पड़ोसी देशों में चीन की गतिविधियों को लेकर चिंता जताई गई। गुरुवार को शून्य काल में कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने यह मामला उठाया। उन्होंने कहा कि चीन भारत के चारोतरफ अपनी गतिविधि चला रहा है। यह सुरक्षा की दृष्टि से चिंताजनक है। उन्होंने पड़ोसी देशों के साथ नए सिरे से नीति बनाने पर जोर दिया।

यह भी पढ़ें: अब कैलास मानसरोवर यात्रा को महंगा करने की तैयारी

Posted By: Manish Negi

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस