Move to Jagran APP

'तमिलनाडु में दलितों के साथ हो रहा अत्याचार, नेता भी सुरक्षित नहीं, 'केंद्रीय मंत्री ने DMK पर साधा निशाना

केंद्रीय मंत्री एल मुरुगन ने तमिलनाडु में एक सम्मेलन के दौरान दलितों को लेकर बात की। मुरुगन ने कहा मई 2021 में डीएमके के सत्ता में आने के बाद तमिलनाडु में दलितों के खिलाफ अत्याचार में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। एक सर्वे बता रहा है कि राज्य में हर साल दलितों के खिलाफ अत्याचार के 2000 से ज्यादा मामले दर्ज होते हैं।

By Agency Edited By: Shubhrangi Goyal Tue, 09 Jul 2024 04:30 PM (IST)
मुख्यमंत्री एमके स्टालिन पर केंद्रीय मंत्री ने साधा निशाना (फाइल फोटो)

पीटीआई, नई दिल्ली।  केंद्रीय मंत्री एल मुरुगन ने तमिलनाडु में एक सम्मेलन के दौरान दलितों को लेकर बात की। उन्होंने कहा, दलितों के खिलाफ बड़े पैमाने पर अत्याचार हो रहे हैं और दावा किया कि DMK सरकार के तहत राज्य में राजनीतिक नेता भी सुरक्षित नहीं हैं। सम्मेलन में दुरईसामी समेत भाजपा तमिलनाडु इकाई के वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

मुरुगन ने ये भी कहा कि पार्टी के राज्य उपाध्यक्ष वीपी दुरईसामी के नेतृत्व में तमिलनाडु भाजपा इकाई का एक प्रतिनिधिमंडल बाद में राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से संपर्क करेगा और उनसे मामले में उचित कार्रवाई करने का आग्रह करेगा।

दलितों के खिलाफ अत्याचार के 2,000 से ज्यादा मामले

मुरुगन ने कहा, मई 2021 में डीएमके के सत्ता में आने के बाद तमिलनाडु में दलितों के खिलाफ अत्याचार में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। एक सर्वे बता रहा है कि राज्य में हर साल दलितों के खिलाफ अत्याचार के 2,000 से ज्यादा मामले दर्ज होते हैं।

उन्होंने 2022 के बाद से दलितों के खिलाफ कथित अत्याचार की घटनाओं और राज्य में भाजपा नेताओं के कुछ हमलों और हत्याओं का भी जिक्र किया और इसके लिए मुख्यमंत्री एमके स्टालिन को दोषी ठहराया। उन्होंने अपने संबोधन में एक दलित नेता और बसपा के प्रदेश अध्यक्ष के आर्मस्ट्रांग की हत्या का भी जिक्र किया। उन्होंने आरोप लगाया कि द्रमुक शासन के तहत राज्य में राजनीतिक नेता भी सुरक्षित नहीं हैं।

कांग्रेस पर भी निशाना साधा

भाजपा की तमिलनाडु इकाई के पूर्व अध्यक्ष उरुगन ने द्रमुक की सहयोगी कांग्रेस पर भी निशाना साधा और हाल ही में हुई जहरीली शराब त्रासदी पर पार्टी की चुप्पी पर सवाल उठाया, जिसमें राज्य में कई लोगों की जान चली गई। उन्होंने कहा,'कल्लाकुरिची में हुई उस घटना में लगभग 70 लोगों की मौत हो गई। उनमें से 40 प्रतिशत से अधिक लोग अनुसूचित जाति के थे। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और पार्टी नेता राहुल गांधी वहां नहीं गए।'

यह भी पढ़ें: तमिलनाडु में जीत के बाद एम.के स्टालिन ने दिया मीडियाकर्मियों की तरफ ध्यान, बोले- फ्रंटलाइन वर्कर माने जाने पर हो विचार