नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। निर्भया सामूहिक दुष्कर्म कांड के दोषी मुकेश के तिहाड़ जेल में इंटरव्यू और डॉक्यूमेंट्री मीडिया में आने पर बुधवार को संसद में जोरदार हंगामा हुआ। सरकार को आश्वासन देना पड़ा कि वह किसी भी हालत में फिल्म के प्रसारण की अनुमति नहीं देगी। दोनों सदनों में दिए बयान में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि मामले की जांच होगी और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। 'सरकार इस कृत्य की कड़े शब्दों में भत्र्सना करती है। किसी भी संगठन को इस प्रकार के वाकिये का वाणिज्यिक लाभ उठाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।'

यह मामला संसद के दोनों सदनों में उठा। राज्यसभा में जदयू के केसी त्यागी ने पूछा कि उच्च सुरक्षा वाली जेल के भीतर एक जघन्य कांड के दोषी का इंटरव्यू करने उसे प्रकाशित करने की इजाजत कैसे दी गई। दोषी ने जिस तरह अपने कृत्य को जायज व लड़की को जिम्मेदार ठहराया है उसे देखते हुए विशेष अदालत लगाकर उसे तत्काल फांसी पर लटकाया जाना चाहिए। जया बच्चन व सपा समेत अन्य दलों की महिला सदस्य तिहाड़ जेल के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए पहले वेल में पहुंच गईं। बाद में उन्होंने सदन से वाकआउट किया। इस दौरान उप सभापति को कुछ समय के लिए कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी।लोकसभा में भी सदस्यों ने पार्टी लाइन से हटकर घटना पर विरोध जताया और फिल्म का प्रसारण रोकने व दोषियों पर कार्रवाई की मांग की।

बाद में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कल जब घटना का पता चला तो सन्न होने के साथ मुझे गहरी ठेस लगी। मैंने तत्काल अधिकारियों से बात कर सुनिश्चित किया कि डॉक्यूमेंट्री का प्रसारण न होने पाए। उन्हें पता चला है कि बीबीसी-4 इसका प्रसारण 8 मार्च को करने वाला है। उन्होंने सदस्योंं को भरोसा दिया कि किसी भी हालत में डॉक्यूमेंट्री के प्रसारण की अनुमति नहीं दी जाएगी। इस संबंध में आवश्यक निर्देश जारी किए गए हैं। अब जेल के भीतर फिल्म शूट करने के मौजूदा जेल नियमों की समीक्षा की जाएगी और कोई खामी हुई तो उसे दूर किया जाएगा, ताकि ऐसा दोबारा न हो। घटना से संसद ही नहीं, पूरा देश शर्मिंदा है।

देश की छवि बिगाडऩे की कोशिश: वेंकैया

लोकसभा में संसदीय कार्य मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने देश में फिल्म के प्रसारण पर प्रतिबंध पर चर्चा के दौरान कहा कि सरकार इस पर भी विचार कर रही है कि विदेशों में इस फिल्म के प्रसारण को कैसे रोका जाए। केंद्र सरकार का कहना है कि भारत की छवि को खराब करने के इरादे से इस डॉक्यूमेंट्री को बनाया गया है। और इसी इरादे से इसका प्रसारण भी किया जाएगा। उन्होंने बताया कि गृह मंत्री ने कहा कि वह इस विषय में सूचना प्रसारण मंत्रालय से भी बात की जाएगी।

-घटना से संसद ही नहीं, पूरा देश शर्मिंदा। सरकार महिलाओं की अस्मिता की रक्षा को वचनबद्ध। -राजनाथ सिंह, गृह मंत्री

-दोषी के जाहिर विचार वह पहले संसद में भी सुन चुके हैं। अच्छा है डाक्यूमेंट्री बनी... देश में करोड़ों पुरुषों को पता चला है कि वह एक दुष्कर्मी की तरह सोचते हैं। -जावेद अख्तर, लेखक व राज्यसभा सदस्य

-ऐसे अपराधियों को 5 मिनट भी धूप देखने देना गलत है। भला उनका इंटरव्यू कैसे लिया जा सकता है। -अंबिका सोनी, कांग्रेस नेता

Edited By: Rajesh Niranjan

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट