इंदौर (नईदुनिया)। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक केके शर्मा ने कहा कि आठ से 10 लाख रोहिंग्या बांग्लादेश से भारत में घुसपैठ करने की तैयारी में हैं, लेकिन बीएसएफ ने इन्हें सफलतापूर्वक रोका हुआ है। घुसपैठ रोकने के लिए जल्द ही पाकिस्तान-बांग्लादेश की 2000 किलोमीटर सीमा पर हाईटेक बाड़ लगाई जाएगी। शर्मा शनिवार को बीएसएफ के इंदौर कमांड सेंटर में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि बांग्लादेश सीमा पर अधिकांश जगह पर फैंसिंग कर दी गई है। म्यांमार से निष्कासित आठ से 10 लाख रोहिंग्या बांग्लादेश में आ गए हैं। जहां से वे भारत में आने के प्रयास में हैं, लेकिन हमने उन्हें रोका हुआ है। बांग्लादेश सरकार, भारत की मदद से उन्हें लौटाने का प्रयास कर रही है।

शर्मा ने कहा कि 17 सितंबर को जम्मू में पाकिस्तान सीमा पर 11 किमी हिस्से में लगाए गए हाईटेक बॉर्डर का केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह शुभांरभ करेंगे। जल्द ही इसका विस्तार करते हुए इसे दो हजार किमी लंबी पाकिस्तान और बांग्लादेश से लगी भारतीय सीमा पर लगाया जाएगा। व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली (सीआइबीएमएस) के तहत पहले पाकिस्तान से लगी सीमा पर इन स्मार्ट उपकरणों को लगाया जाएगा। ब्रह्मपुत्र के पार धुबरी में पूर्वी सीमा पर 55-60 किलोमीटर के खंड पर भी तकनीकी उपकरण लगाए जा रहे हैं। यह उपकरण हमने इजरायल, अमेरिका और यूरोप से खरीदे हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से लगी सीमा पर अब फिर से गोलीबारी और घुसपैठ शुरू हो गई है, लेकिन हम इससे निपट रहे हैं।

ऐसे काम करेगी हाईटेक बाड़

बाड़ का निर्माण इलेक्ट्रॉनिक निगरानी वाले उपकरणों से किया जाएगा। इनमें सीसीटीवी कैमरे, नाइट विजन उपकरण, हैंड-हेल्ड थर्मल इमेज, युद्ध क्षेत्र में निगरानी रखने वाले राडार, ग्राउंड सेंसर, हाई पावर टेलीस्कोप आदि उपकरण होंगे। अगर कोई भी बाड़ के नजदीक आएगा तो तुरंत ही इसकी जानकारी क्विक रिस्पांस सिस्टम को मिल जाएगी।

Posted By: Arti Yadav