नई दिल्ली, जेएनएन। दुनिया भर जानवरों की तमाम प्रजातियां पाई जाती हैं। कुछ बहुत खतरनाक होती हैं तो वहीं कुछ बेहद प्यारी। वहीं कुछ जानवर ऐसे भी हैं जो अलग- अलग होने के बावजूद एक जैसे ही दिखाई देते हैं। ऐसे जानवरों में अंतर कर पाना आसान नहीं होता है। जैसे कि तेंदुआ, जगुआर, चीता,और बाघ इन सभी में जानवरों में बहुत ही बारीक अंतर होता है। आम जनता के लिए इनमें पहचान कर पाना लगभग असंभव यदि आपको उनके अंतर के बारे में न पता हो तो। तो चलिए इस खबर में आपको इन दोनों के बीच के अंतर को समझाते हैं-

कैसा होते हैं तेंदुए

आपको तेंदुए के बारे में बताएं उससे पहले जान लीजिए कि यह प्रजाति संसार से विलुप्त होने के कगार पर है। पैंथेरा परिवार की अब पांच प्रजातियां ही मौजूद हैं। इसे अंतरराष्ट्रीय प्राकृति संरक्षण संघ (IUCN) ने रेड लिस्ट में शामिल किया है। तेंदुए के शरीर पर हल्के पीले से गहरे सुनहरे रंग में नरम और मोटे फर होते हैं। इसके अलावा इनकी शरीर पर फूल के आकार की तरह धब्बे भी देखने को मिलते हैं। यह मांसाहारी जीव होते हैं और इनमें 40 किलोग्राम तक के किसी वन्यजीव को अपना शिकार बनाने की क्षमता होती है।

1. तेंदुए की एक खासियत होती है वे अपने क्षेत्र में सीमित ही रहते हैं। यह अन्य तेंदुओं को चेतावनी देने के लिए अपने ही क्षेत्र में कोई न कोई निशानी बनाते हैं, जिसमें मल-मूत्र की गंध व पेड़ों पर बनाई जाने वाली खरोच भी शामिल है।

2. तेंदुओं की शरीर पर बने धब्बों को 'रोसेट्स' कहा जाता है। इसके पीछे इन धब्बों का आकार होता है, जो फूल के होते हैं। बता दें कि कुछ तेंदुए काले भी होते हैं।

3. तेंदुए बहुत फुर्तीले होते हैं और यही कारण है कि ये आसानी से पर्वत पर चढ़ जाते हैं। इसके अलावा, ये पेड़ों पर भी चढ़कर आराम करते हैं।

4. तेंदुए अलग-अलग तरह के तमाम शिकार करते हैं, जिसमें हिरण, मछली, कीड़े, बंदर व अन्य कई वन्यजीव शामिल हैं। इसके अलावा तेंदुए मगरमच्छों को भी शिकार बनाते हैं।

5. वहीं मादा तेंदुआ साल में कभी भी प्रजनन कर सकती है। इसके साथ ही यह हर बार दो या तीन शावकों को जन्म देती है।

कैसा होते हैं जगुआर

तेंदुए की तरह दिखने वाले जगुआर बड़ी बिल्ली प्रजातियों के सदस्य होते हैं। बता दें कि यह अमेरिका में तीसरी सबसे बड़ी बिल्ली की प्रजाति है, जिसका वजन 158 किलोग्राम तक होता है। इसके अलावा, यह 1.85 मीटर तक बढ़ सकते हैं। जगुआर के शरीर पर फर कोट होते हैं, जो हल्के पीले रंग से अलावा भूरे रंग के भी होते हैं। इनका पूरा शरीर फूल की तरह दिखने वाले गोल धब्बों से ढका होता है। हालांकि, यह धब्बे तेंदुए और चीते से थोड़े अलग होते हैं।

1. जगुआर अपने शक्तिशाली प्रहार के लिए जाना जाता है। इसके दांत इतने नुकीले होते हैं और यह इतनी शक्ति से किसी भी चीज को कांट सकता।

2. तेंदुए की तुलना में जगुआर काफी बड़े सिर वाले होते हैं। इस पर बने धब्बों के बीच में एक काला बिंदु होता है।

3. जगुआर को पानी बेहद पसंद होता है और यह पानी में भी तैर लेता है। इसके अलावा इन्हें गीली जगहों पर भी रहना पसंद होता है।

5. जगुआर की आवाज बड़ी कस्कसी सी होती है और यह कई बार आरी की तरह सुनाई देती है।

ये भी पढ़ें- Budget 2023-24: सस्ता बीमा और आयुष्मान भारत की कवरेज बढ़ाने से सबको मिलेगी स्वास्थ्य सुरक्षा

ये भी पढ़ें- Fact Check Story: सलमान और सोनाक्षी सिन्हा की शादी का दावा फेक

Edited By: Ashisha Singh Rajput

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट