Move to Jagran APP

Board Exam 2024 Preparation: परीक्षा के दौरान माता-पिता ऐसे दें अपने बच्चों का साथ, कोसों दूर रहेगा डिप्रेशन

परीक्षाओं के दौरान माता पिता की भूमिका किसी भी बच्चे के लिए सबसे अहम हो जाती है। इसलिए इस दौरान आपको अपने बच्चे का हर छोटी से बड़ी चीज में साथ देकर उन्हें मोटिवेट करना है ताकी वे शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ रहें। किसी भी समस्या से लड़ने के लिए अविभावकों को बच्चों के साथ दोस्ताना व्यवहार रखना होगा।

By Amit YadavEdited By: Amit YadavThu, 29 Feb 2024 06:46 PM (IST)
Board Exam 2024 Preparation: एग्जाम के दौरान अविभावक इन बातों का रखें विशेष ध्यान। (Image-freepik)

एजुकेशन डेस्क, नई दिल्ली। किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए एक विद्यार्थी के साथ उसके टीचर्स, उसके दोस्त, उसका परिवार का साथ बेहद आवश्यक है, लेकिन इन सभी में अगर सबसे महत्वपूर्ण भूमिका माता-पिता की होती है। स्टूडेंट्स को लक्ष्य तक पहुंचाने में अविभावकों के महत्वपूर्ण भूमिका है।

अगर इस दौरान माता-पिता अपने बच्चों पर ध्यान नहीं देते हैं तो कई बार ऐसे देखा गया है कि स्टूडेंट्स निरंतर पीछे छूटता चला जाता है और धीरे-धीरे वह अवसाद ग्रस्त ही हो जाता है। इन सबसे अपने बच्चों को बचाने के लिए आपको उनकी हर छोटी-बड़ी चीज का ध्यान रखना होगा।

परीक्षा के दौरान उनका साथ दें

कुछ माता-पिता अपने बच्चों को पढ़ाई के लिए अकेला छोड़ देते हैं। लेकिन आपको ऐसा करने से बचना चाहिए। 24 घंटे में कम से कम 2 से 4 घंटे अपने बच्चों को अवश्य दें और उनकी बातें सुनें। अगर इस दौरान अगर उनको किसी भी प्रकार की समस्या हो रही है तो उसे दूर करने का प्रयास करें।

दोस्ताना रखें व्यवहार

एग्जाम के दौरान अपने बच्चे को हमेशा डांटने से बचें। माता-पिता अपने बच्चे से दोस्ताना व्यवहार करें और एक दोस्त की तरह उनकी समस्याएं सुनें और समय पर हंसी-मजाक भी करें जिससे उसका मूड लाइट रह सके।

(Image-freepik)

दूसरे बच्चों के साथ न करें तुलना

किसी भी अविभावक को अपने बच्चों की तुलना दूसरे बच्चों से नहीं करनी चाहिए। इससे आपका बच्चा डिमोटिवेट होता है और उसके मन में हीन भावना जन्म लेने लगती है जो उसके भविष्य के लिए हानिकारक साबित होगी।

खान-पान का विशेष रूप से रखें ध्यान

परीक्षा के दौरान माता-पिता अपने बच्चों के खान-पान का विशेष रूप से ध्यान रखें जिससे वे इस दौरान शारीरिक रूप और मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकें। शारीरिक स्वास्थ्य के लिए उन्हें व्यायाम या अन्य चीजें खेलने के लिए प्रेरित करें।

यह भी पढ़ें- Board Exam Result: नंबर्स को लेकर बच्चों पर न बनाएं दवाब, वर्तमान परिस्थिति में ज्यादा अंक भी टैलेंट को मापने में अक्षम