मुंबई। मुंबई महानगरपालिका चुनाव में जीत के बाद भाजपा में जबरदस्त उत्साह है। पार्टी ने अब इस जीत को भुनाने की कवायद शुरू कर दी है। पार्टी ने देश भर के सभी जिला कार्यालय में 25 फरवरी को 'विजय उत्सव' मनाने का निर्णय लिया है।

वहीं मुंबई महानगरपालिका चुनाव परिणाम आने के बाद यहां के मेयर पद की लड़ाई दिलचस्प हो गई है। 227 सदस्यीय बीएमसी में शिवसेना और भाजपा का प्रदर्शन शानदार रहा है, लेकिन कोई भी पार्टी बहुमत तक नहीं पहुंच पाई। अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या भाजपा और शिवसेना फिर साथ आएंगे? ऐसा हुआ तो मेयर किसका होगा? क्या शिवसेना इस फॉर्मूले पर राजी होगी कि ढाई-ढाई साल के लिए दोनों पार्टी का मेयर रहे?

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे कह चुके हैं कि उनकी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, इसलिए मेयर तो उनका ही होगा। भाजपा ने भी मेयर पद पर अपना दावा कर दिया है।

इस बीच, ये अटकलें भी तेज हो गई हैं कि शिवसेना और भाजपा साथ नहीं आते हैं तो क्या होगा? हालांकि इसके बाद जो समीकरण दिखाए जा रहे हैं, उन पर विश्वास नहीं हो रहा है, क्योंकि भाजपा और शिवसेना को छोड़कर बाकी किसी दल से इनका गठबंधन होगा, ऐसा लगता नहीं। हां, मनसे जरूर भाजपा के साथ जा सकती है, लेकिन उसके पास महज 7 सीटें हैं। बहरहाल, पूरी गहमागमी में शुक्रवार का दिन अहम हो सकता है।

महाराष्ट्र स्थानीय निकाय के नतीजे

मुंबई-227 सीटें

शिवसेना 84

भाजपा 80

कांग्रेस 31

एनसीपी 9

एमएनएस 7

पुणे

भाजपा 41

शिवसेना 5

कांग्रेस 10

नागपुर- 151 सीटें

भाजपा 54

कांग्रेस 14

बसपा 4

नासिक

भाजपा 22

शिवसेना 7

कांग्रेस 2

पिंपरी चिंचवाड

भाजपा 13

शिवसेना 4

ठाणे

शिवसेना 15

भाजपा 8

सोलापुर

भाजपा 18

शिवसेना 13

कांग्रेस 3

अमरावती

भाजपा 6

शिवसेना 0

कांग्रेस 1

अकोला

भाजपा 9

कांग्रेस 6

शिवसेना 0

Posted By: Gunateet Ojha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप