Move to Jagran APP

नग्‍न साधु को स्‍टील के गिलास पर बिठाया, अनुष्‍ठान की राशि वापस मांगने पर किया अमानवीय कृत्य

मध्‍य प्रदेश के राजगढ़ से नग्‍न साधु के साथ अमानवीय कृत्य का मामला सामने आया है। कोविड काल से पहले अनुष्‍ठान के लिए जमा की गई राशि मांगने पर ग्रामीणों ने उसके साथ ये सलूक किया। साधु की हालत जब ज्‍यादा बिगड़ने पर सारा भेद खुला।

By Jagran NewsEdited By: Babita KashyapWed, 05 Oct 2022 12:25 PM (IST)
अनुष्‍ठान की राशि वापस मांगने पर नग्‍न साधु के साथ अमानवीय कृत्य

राजगढ़, जागरण आनलाइन डेस्‍क। मध्य प्रदेश के राजगढ़ से एक अनोखा मामला सामने आया है। यहां धार्मिक अनुष्‍ठान के लिए कोविड काल से पहले एकसाधु ने ग्रामीणों से चंदा एकत्रित किया था। लेकिन कोरोना प्रतिबंध के कारण कार्यक्रम का आयोजन नहीं हो सका। चंदे की राशि उन्‍होंने गांव वालों को भेंट कर दी थी। लेकिन अब वह धनराशि लेकर उससे कार्यक्रम का आयोजन करना चाहते थे।

नग्‍न अवस्‍था में साधु को स्‍टील के गिलास पर बिठाया

रुपए वापस मांगने पर अब उसे प्रताड़ित किया जा रहा है। नग्‍न अवस्‍था में उसे स्‍टील के गिलास पर बिठाया गया और गिलास उसके अंदर चला गया। तीन माह तक वह दर्द से तड़पता रहा, हालत बिगड़ने पर सारा मामला सामने आया।

एक लाख से अधिक राशि थी जमा

जिले के संडावता थाना प्रभारी बीएस भदौरिया ने बताया कि मूल रूप से बिहार के रहने वाले साधु यहां चाटूखेड़ा में रहता है। उन्होंने कोरोना काल में यज्ञ करने के लिए अमावता, कचोटिया आदि गांवों से चंदा जमा किया था। गांव के ही कुछ लोगों के पास एक लाख रुपए से अधिक की राशि रखी थी।

साधु की बिगड़ने लगी हालत

तीन महीने पहले जब वह संबंधित ग्रामीणों के पास गया और उन्हें यज्ञ करने के लिए कहा, तो उन्होंने उसकी पिटाई कर दी। उसने उनके साथ उक्त अमानवीय कृत्य किया। लोकलाज की वजह से इसकी जानकारी किसी को देने की बजाय अपने स्तर पर इलाज कराने की कोशिश की।

इसकी वजह से उसे असहनीय दर्द होने लगा। साधु की हालत जब ज्‍यादा बिगड़ने लगी तो उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। एक्स-रे में उसके पेट में स्टील का गिलास फंसा हुआ दिखने लगा।

यह भी पढ़ें-

MP में अब हिंदी में होगी MBBS की पढ़ाई, गृहमंत्री अमित शाह करेंगे मेडिकल के हिंदी पाठ्यक्रम का शुभारंभ

Dussehra Ravan Dahan: विजयदशमी पर शमी पत्र का करें ये उपाय, सुख-समृद्धि और ऐश्वर्य में होगी वृद्धि