नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। World Environment Day 2020: पृथ्वी का बढ़ता तापमान और प्रदूषण इंसानों के साथ-साथ सभी जीवों के लिए बड़ा ख़तरा बनता जा रहा है। जिसकी वजह से जीव-जन्तुओं के विलुप्त होने के साथ ही लोगों को भी सांस से लेकर कई गंभीर बीमारियां हो रही हैं। इन सबके पीछे वजह है पर्यावरण को पहुंचता नुकसान। यही, वजह है कि आज हम कोरोना वायरस के बीच विश्व पर्यावरण दिवस मना रहे हैं, ताकि पर्यावरण प्रति लोगों को जागरुक किया जा सके। यही वह वक्त है, अगर इंसान अब भी नहीं समझा तो जीव-जंतुओं के साथ हम भी पृथ्वी से जल्द ही विलुप्त हो जाएंगे।

कोरोना वायरस के फैलने के बाद हम सभी अपनी सेहत को लेकर काफी जागरुक हो गए हैं, जो इस महामारी से पहले नहीं थे। हम सभी अपने आपको स्वस्थ रखने के लिए रोज़ाना दिन में कई बार हाथ धो रहे हैं, सेहतमंद खाना खा रहे हैं या फिर शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने की कोशिश में लगे हैं, यानी हम सभी सेहतमंद रहने के लिए काफी कुछ सोच रहे हैं। हालांकि, साथ ही हमें इस बात का ख्याल रखने की भी ज़रूरत है कि कहीं हम अपनी सेहत सुधारने में पर्यावरण का नुकसान तो नहीं कर रहे? 

जानें अंजानें में हम सभी पर्यावरण के क्षरण का हिस्सा बन जाते हैं। इसलिए आज हम आपको बता रहे हैं वज़न घटाने के 5 इको-फ्रेंडली तरीके, जिससे पर्यावरण को नुकसान भी नहीं पहुंचेगा और आप सेहतमंद रह सकेंगे।

1. फल/सब्ज़ियां खुद उगाएं: बाज़ार में ज़्यादातर फल और सब्ज़ियां दूसरे शहरों या फिर देशों से आती हैं। इतने लंबे सफर से इनमें पोषण तत्व होने लगते हैं और साथ ही हानिकारक कार्बन और फोसिल फ्यूल उत्सर्जन में भी योगदान देता है। इसलिए सब्ज़ियां और फल खुद उगाएं। अगर आपके लिए मुमकिन नहीं है, तो किसी स्थानीय किसान से खरीदें। साथ ही जब सब्ज़ियां खरीदने जाएं, तो अपना कपड़े का बैग लेकर जाएं, प्लास्टिक के बैग्स को बढ़ावा न दें।

2. कचरा: जब हम काफी सारी सेहतमंद सब्ज़ियां और फल खाते हैं, हमें उसमें बचे छिलकों और बीजों को निपटाने का सही तरीका भी ढूंढ़ना चाहिए। खाने की बर्बादी से रोकने के साथ हमें उसे सही तरीके से निपटाना भी चाहिए। दोबारा उपयोग, कम उपयोग और रीसाइकल हमें याद रखना चाहिए। हमें कोशिश करनी चाहिए कि कम से कम चीज़ें कचरे में फिकें, सब्ज़ियों के छिलकों को खाद की तरह उपयोग करें और कचरे को जितना हो सके दोबारा इस्तेमाल करें।  

3. प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करें: प्लास्टिक बाकी चीज़ों की तरह कभी ख़त्म नहीं होता और पृथ्वी पर हमेशा रहता है। इसलिए हम सभी को प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करना चाहिए। जैसे प्लास्टिक टूथब्रश की जगह लकड़ी वाला टूथब्रश का इस्तेमाल करें। इससे पर्यावरण को लंबे समय तक काफी फायदा पहुंचता है। यहां, तक कि स्किपिंग रोप भी प्लास्टिक की बनी होती है, इसलिए रस्सी से बनीं रोप ही लें। 

4. खूब चलें और दौड़ें: जितना हो सके चलें। सामान खरीदने के लिए बाज़ार कार या बाइक से जाने की जगह पैदल जाएं। इससे न सिर्फ आपके पैट्रोल के पैसे बचेंगे बल्कि ये सेहतमंद तरीका भी है। साथ ही पर्यावरण के लिए फायदेमंद है क्योंकि इससे प्रदूषण नहीं होगा।

5. हफ्ते में एक दिन मांस न खाएं: जानवर भी पर्यावरण का हिस्सा हैं। उन्हें खाने से भले ही आपके शरीर में पोषण की कमी नहीं होती, लेकिन हफ्ते एक दिन ऐसा बनाएं जब सिर्फ फल और सब्ज़ियां ही खाएं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस