Move to Jagran APP

ट्रेन में चढ़ने से पहले आरपीएफ ने बदहवास लड़की को पकड़ा, घरवालों से पता चली चौंकाने वाली बात

RPF News Railway Protection Force रेलवे स्टेशन पर चेकिंग के दौरान बदहवास एक नाबालिग लड़की को अकेले बैठे देख आरपीएफ की महिला बल ने उससे पूछताछ की। उसने अपना नाम और पता बताया। लड़की सुबह पिता की डांट की वजह से घर से बिना कुछ बताए भाग गई थी।

By Alok ShahiEdited By: Thu, 19 May 2022 05:23 PM (IST)
RPF News, Railway Protection Force: रेलवे सुरक्षा बल ने नाबालिग लड़की को बचाया।

रांची, जासं। RPF News, Railway Protection Force ऑपरेशन नन्हे फरिश्ते के तहत रेल सुरक्षा बल लोहरदगा द्वारा एक नाबालिग लड़की को बचाया गया। एसआई हेमंत कुमार और उनकी टीम द्वारा लोहरदगा रेलवे स्टेशन चेकिंग के दौरान प्लेटफॉर्म संख्या एक पर एक नाबालिग लड़की को अकेले बैठे देखा गया। संदेह होने पर महिला कर्मचारियों ने उससे पूछताछ की, उसने अपना नाम और पता बताया। लोहरदगा की रहने वाली लड़की सुबह पिता के डांट की वजह से घर से अपने परिवार को बिना कुछ बताए भाग गई थी। बाद में नबालिग लड़की की सुरक्षा के लिए चाइल्ड लाइन लोहरदगा को विधिवत सौंप दिया गया।

स्टेशन पर लड़की को दी गई चिकित्सकीय सुविधा

ऑपरेशन सेवा के तहत हटिया के रेल सुरक्षा बल पोस्ट के अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा छोटी बच्ची को चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराई गई । हटिया रेलवे स्टेशन महिला प्रतीक्षालय में लगभग नौ बजे एक महिला यात्री पूनम देवी, संबलपुर (ओडिशा) ने सूचित किया कि उनकी बेटी संगम रानी जिसकी उम्र लगभग 11 वर्ष है, उसे बुखार है। तत्काल रेल सुरक्षा बल हटिया के लेडी कांस्टेबल मनखुशी विश्वास, लेडी कांस्टेबल काजली विश्वास तथा पीके दुबे ने लड़की (रोगी) को चिकित्सा सहायता के लिए हटिया स्टेशन के उप स्टेशन अधीक्षक को सूचित किया तत्पश्चात रेलवे चिकित्सक द्वारा जांच की गई तथा चिकित्सा उपचार दिया गया।

सात साल की बच्ची को पहले तल्ले से फेंका

रांची के काेकर बांधगाड़ी स्थित पंचवटीपूरम सोसाइटी में बढ़ई मिस्त्री का काम कर रहे व्यक्ति ने फ्लैट में चोरी की कोशिश की। इस दौरान पहले तल्ले से सात साल की बच्ची को फेंक दिया। जिसकी उंचाई करीब 15 फीट है। ऐन वक्त पर फ्लैट में मौजूद लोगों ने बच्ची की जान बचाई। इसके बाद मिस्त्री को पकड़ लिया और पुलिस को सौंप दिया। आरोपित का नाम हरिशंकर कुमार है, वह बिहार के मोतिहारी का रहने वाला है।

आरोपित सोसाइटी के सी ब्लॉक स्थित फ्लैट में बढ़ई का काम कर रहा था। इस मामले में बच्ची के पिता राजू कुमार सिंह ने सदर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी है। राजू ने पुलिस को बताया कि बीते सोमवार को वह कुछ काम से घर से निकले हुए थे। घर पर उनकी सात साल की बेटी अकेली थी। दिन के करीब 11 बजे आरोपित बढ़ई उनके घर में घुसा। चोरी करने की कोशिश की। मगर उसे कुछ मिला नहीं।

इसी क्रम में आरोपित ने उनकी बच्ची को पहले तल से नीचे फेंकने का प्रयास किया। स्थानीय लोगों ने उन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। इधर, आरोपित के भाई गौरी शकर कुमार ने भी सदर थाने में राजू सिंह, पिंटू सिंह, रानी देवी, प्रकाश, डीपी सिंह के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज की है। उनका आरोप है कि बकाया पैसा मांगने गए थे तो उक्त लोगों ने उनके भाई के साथ मारपीट की है। पुलिस ने दोनों मामलों में केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।