रांची, राज्य ब्यूरो। चारा घोटाले में सजायाफ्ता राजद प्रमुख लालू प्रसाद परेशान हैं। कई बीमारियों से संघर्ष कर रहे लालू पारिवारिक मुश्किलों से ज्यादा चिंतित और विचलित हैं। इस वक्त उन्हें परिवार से दूर रहना काफी खल रहा है। राजद प्रमुख के करीबियों की मानें तो पारिवारिक विवाद इतना तूल नहीं पकड़ता अगर लालू प्रसाद बाहर होते।

बड़े पुत्र तेजप्रताप के तलाक पर अडऩे की भी नौबत नहीं आती। यही वजह है कि यहां रिम्स में इलाज करा रहे लालू प्रसाद को घर-परिवार से दूर रहना उनके बड़े कुनबे के लिए भारी पड़ रहा है। छठ के मौके पर भी वे अपने लोगों के साथ नहीं थे जिसके कारण इस महत्वपूर्ण आयोजन तक से परिवार वंचित रहा।

बड़े पुत्र तेजप्रताप का रुख लालू प्रसाद की सोच के मुताबिक नहीं है। तेजप्रताप जब पत्नी से तलाक की अर्जी कोर्ट में लगाने के बाद पिता से मुलाकात करने पहुंचे थे तो उन्होंने समझाने के साथ-साथ फटकारा भी था। हालांकि इसका कुछ खास असर नहीं पड़ा। तेजप्रताप अभी भी अपनी जिद्द पर अड़े हैं।

पांव का घाव ठीक हुआ, इंफेक्शन कम नहीं हो रहा : लालू प्रसाद की तबीयत में लगातार उतार-चढ़ाव हो रहा है। उनके पांव का घाव सूख चुका है जो डाक्टरों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ था। हालांकि शरीर में संक्रमण कम नहीं हो रहा है। रक्त में क्रिएटिनिन की मात्रा  1.51 है जो सामान्य परिस्थिति में 1.3 होना चाहिए। रक्त में शुगर की मात्रा में भी घटता-बढ़ता रहता है। फिलहाल उनका स्वास्थ्य पूर्व के मुकाबले बेहतर है लेकिन संक्रमण कम नहीं होने से मुश्किलें बरकरार हैं। 

Posted By: Alok Shahi