Move to Jagran APP

कृषि मंत्री का कार्यभार संभालते ही एक्शन में दीपिका पांडेय सिंह, पहले ही दिन किसानों को दे दी ये बड़ी गुड न्यूज

झारखंड सरकार में कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग का कार्यभार संभालते ही दीपिका पांडेय सिंह एक्शन में हैं। उन्होंने अधिकारियों को कृषि से संबंधित योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने का निर्देश दिया है। दीपिका ने कहा कि कृषि ऋण माफी योजना के तहत सरकार ने अब 50 हजार की राशि बढ़ाकर दो लाख कर दिया है। विभाग इसके क्रियान्वयन के लिए कैबिनेट के समक्ष जल्द प्रस्ताव भेजे।

By Manoj Singh Edited By: Mohit Tripathi Wed, 10 Jul 2024 03:57 PM (IST)
किसानों को राहत देने की योजना पर जल्द हो काम: दीपिका पांडेय। (फाइल फोटो)

राज्य ब्यूरो, रांची। कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह ने कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग का कार्यभार संभाल लिया है। विभाग का कार्यभार संभालते ही दीपिका पांडेय सिंह ने विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक में किसानों को सीधा लाभ पहुंचाने के लिए कृषि संबंधी योजनाओं पर तेज गति से कार्य करने के निर्देश दिए।

मंत्री ने कहा कि कृषि ऋण माफी योजना के तहत सरकार ने अब 50 हजार की राशि बढ़ाकर दो लाख रुपये कर दी है। विभाग इस योजना के क्रियान्वयन के लिए कैबिनेट के समक्ष शीघ्र प्रस्ताव भेजे।

उन्होंने कृषक मित्रों के मानदेय को एक हजार रुपये से बढ़ाकर दो हजार रुपये करने के लिए शीघ्र प्रस्ताव बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

मंत्री ने निर्देश दिया कि मुख्यमंत्री सुखाड़ राहत योजना के तहत आपदा प्रबंधन विभाग को लंबित भुगतान के लिए अधियाचना भेजी जाए।

योजनाओं का लाभ सीधे लाभुकों तक पहुंचाने का दिया निर्देश

मंत्री ने प्रखंड स्तर पर विभाग द्वारा चलायी जा रही लाभुक जनित योजनाओं के प्रचार-प्रसार तथा सीधा लाभुक तक योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए प्रखंड स्तर पर बृहद रूप से कार्यक्रम आयोजित करने के भी निर्देश दिए।

उन्होंने राज्य में तालाबों की संख्या बढ़ाने का तथा वर्तमान परकोलेशन टैंक में संशोधन करने का सुझाव दिया, जिससे योजना की सफल क्रियान्वयन में गति लाई जा सके।

बीज ग्राम के संबंध में भी दिया निर्देश

मंत्री ने बीज ग्राम के संबंध में कृषि निदेशक आवश्यक निर्देश देते हुए कहा कि पूर्व में चल रहे बीज ग्राम को फिर से एक्टिव करने के लिए आवश्यक कार्य योजना तैयार की जाए, जिससे अच्छे कार्य करने वाले बीज ग्रामों की सेवा ली जा सके।

उन्होंने कृषि निदेशक को निर्देश दिया कि उर्वरक का नियत दर से ऊंचे दर पर बिक्री पर रोक लगाई जाए। साथ ही नकली उर्वरकों की बिक्री रोकने पर भी सख्त कदम उठाएं।

सुखाड़ से निपटने के सर्वोत्तम उपायों के क्रियान्वयन का दिया निर्देश

मंत्री ने कहा कि राज्य में वर्षा की कमी देखी गई है। वर्षा में कमी के मद्देनजर योजना तैयार कर सुखाड़ की स्थिति उत्पन्न होने पर सर्वोत्तम उपायों के क्रियान्वयन के लिए विभाग को तैयार रहना चाहिए। मंत्री ने कहा कि राज्य में लैंप्स पैक्स को और अधिक सुदृढ़ करने की दिशा काम किया जाए।

उन्होंने किसानों को सीधा लाभ पहुचाने, प्रणालीगत योजना बनाने और जमीनी स्तर की भागीदारी पर उनके ध्यान केंद्रित करने से किसानों के जीवन को सुधारने और कृषि विकास सुनिश्चित करने का निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें: 'लुटेरी है यह सरकार...', हेमंत सोरेन पर फिर बरसे बाबूलाल मरांडी, भाजपा कार्यकर्ताओं को दिया ये बड़ा टारगेट

Hemant Soren '...जितना तपाओगे, उतना निखरेंगे', ED के सुप्रीम कोर्ट जाने पर भड़की JMM, चमरा लिंडा पर कही ऐसी बात