Move to Jagran APP

Human Trafficking: 15 साल की नाबालिग के साथ Executive Engineer गिरफ्तार, लेकर जा रहे थे दिल्ली

Human Trafficking ग्रामीण विकास विभाग के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर 15 साल की एक नाबालिग के साथ ह्यूमन ट्रैफिकिंग (Human Trafficking) के शक में रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर धराए। पुलिस को आशंका है कि एक्सक्यूटिव इंजीनियर बच्ची को काम दिलाने के लिए दिल्ली ले जा रहे थे।

By Sanjay KumarEdited By: Wed, 09 Mar 2022 01:28 PM (IST)
Human Trafficking: 15 साल की नाबालिग के साथ Executive Engineer गिरफ्तार, लेकर जा रहे थे दिल्ली
Human Trafficking: 15 साल की नाबालिग के साथ Executive Engineer गिरफ्तार

रांची, जासं। Human Trafficking झारखंड की राजधानी रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर ग्रामीण विकास विभाग के एक्सक्यूटिव इंजीनियर जीतेंद्र पासवान एक 15 साल की नाबालिग बच्ची के साथ पकड़े गए हैं। वे देवघर में पोस्टेड हैं। ह्यूमन ट्रैफिकिंग के शक में इंजीनियर को हिरासत में लिया गया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। जानकारी के अनुसार बच्ची को लेकर वे मंगलवार की शाम विमान से दिल्ली जा रहे थे। सूचना मिलने के बाद एयरपोर्ट थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने एक्सक्यूटिव इंजीनियर को हिरासत में लिया और बच्ची को भी रेस्क्यू किया। बताया जा रहा है कि बच्ची देवघर जिले की रहने वाली है। पुलिस को आशंका है कि एक्सक्यूटिव इंजीनियर बच्ची को काम दिलाने के लिए दिल्ली ले जा रहे थे।

बच्ची का लिया गया बयान

आपको बता दें कि मामले में चाइल्ड लाइन के अधिकारियों की मौजूदगी में पुलिस द्वारा बच्ची का बयान लिया गया। बच्ची को अधिकारियों के साथ चाइल्ड लाइन भेज दिया गया है। बुधवार यानी आज बच्ची का सीडब्ल्यूसी के समक्ष बयान दर्ज होगा। वहीं बच्ची के माता-पिता को भी पुलिस ने बुलाया है। उनका भी कोर्ट में बयान दर्ज कराया जाएगा।

मामले में दर्ज नहीं हुई है एफआईआर

ये भी बता दें कि हिरासत में लिए गए एक्सक्यूटिव इंजीनियर से पुलिस पूछताछ कर रही है। फिलहाल मामले में कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुई है। पूछताछ के बाद और सीडब्ल्यूसी के निर्देश पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

नाबालिग सीडब्ल्यूसी में प्रस्तुत, दर्ज होगा बयान

ग्रामीण विकास विभाग के एक्सक्यूटिव इंजीनियर जीतेंद्र पासवान के पास से रेस्क्यू की गई 15 साल की नाबालिग बच्ची को बुधवार को सीडब्ल्यूसी के समक्ष प्रस्तुत किया गया। सीडब्ल्यूसी की बेंच बच्ची का बयान कलमबद्ध करेगी। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।