जमशेदपुर : यदि आप बेरोजगार हैं और रोजगार करना चाहते हैं तो करें पेपर कप का व्यापार। पेपर कम मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए सरकार मुद्रा योजना के तहत मदद कर रही है। देश भर में बढ़ रहे प्रदूषण को देखते हुए केंद्र सरकार ने प्लास्टिक पर बैन लगा दिया है। ऐसे में आप पेपर कप का बिजनेस शुरू कर सकते हैं। इस समय पेपर कप बिजनेस का डिमांड काफी बढ़ गया है। इस व्यापार में कम पूंजी में आप ज्यादा कमाई कर सकते हैं।

ऐसे कर सकते हैं खर्च, कर सकते हैं ज्यादा कमाई

पेपर कम मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए सरकार मुद्रा योजना के तहत प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार किया है। जिसके तहत व्यापार शुरू करने में आने वाले खर्च से लेकर होने वाले बचत के बारे में विस्तार से जानकारी दिया गया है। विशेषज्ञों के अनुसार पेपर कम मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए 500 वर्गफीट जमीन चाहिए, मशीनरी, इक्विपमेंट, फर्नीचर, डाई, इलेक्ट्रिफिकेशन, इंस्टालेशन और प्री आपरेटिव के लिए 10 लाख 70 हजार रुपये, कर्मचारियों के रखने पर कुशल और अकुशल पर प्रतिमाह खर्च 35000 रुपये, रॉ मटेरियल पर खर्च 3.75 लाख रुपये, यूटिलिटीज व अन्य खर्च पर 26500 रुपये खर्च करना होगा। यदि इस व्यापार को शुरू कर साल में 300 दिन काम करते हैं तो 2.20 करोड़ यूनिट पेपर कप या गिलास तैयार कर सकते हैं। इसे प्रति कप या गिलास को 30 पैसे के हिसाब से बिक्री कर मुनाफा कमा सकते हैं।

 

इस तरह सरकार करेगी मदद

बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए केंद्र सरकार मुद्रा लोन योजना शुरू की है। यदि आपके पास पूंजी है तो कोई बात नहीं, यदि मु्द्रा योजना का लाभ उठाना चाहते हैं। इस योजना के तहत व्यापार करने के लिए कुल प्रोजेक्ट खर्च का 75 प्रतिशत सरकार लोन देगी, जबकि 25 प्रतिशत आपको खुद लगानी होगी। पेपर कम मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए मशीन आपको दिल्ली, हैदराबाद, आगरा, अहमदाबाद समेत अन्य बड़े शहरों में मिल जाएगी। इस तरह की मशीने बनाने का काम इंजीनियरिंग काम करने वाली कंपनियां करती है।

Edited By: Jitendra Singh