Move to Jagran APP

गरीबों के अनाज पर डाका? लाभुकों को नहीं मिल रहा राशन, हंगामे के बाद डीलर ने उठाया ये कदम

गोड्डा में राशन की कालाबाजारी को लेकर ग्रामीण लगातार विरोध कर रहे हैं। इस बार ग्रामीणों के विरोध के बाद पीडीएस डीलर ने अनाज के बदले नकद राशि ही बांट दी। इससे पहले भी एक मामला सामने आया था जहां पीडीएस डीलर को अनाज नहीं बांटने पर ग्रामीणों नें पेंड से बांध दिया था जिसके बाद उसने नकद राशि देने की बात कही थी।

By Vidhu Vinod Edited By: Shashank Shekhar Sat, 11 May 2024 01:04 PM (IST)
गरीबों के अनाज पर डाका? लाभुकों को नहीं मिल रहा राशन (फाइल फोटो)

जागरण संवाददाता, गोड्डा। गोड्डा सदर प्रखंड की सुंडमारा पंचायत में जनवितरण प्रणाली की दुकान से कार्डधारियों को अनाज के बदले नकद राशि बांट दी गई है। इससे पहले नुनबट्टा पंचायत में भी ऐसा ही मामला सामने आया था। खुलेआम अनाज की कालाबाजारी और ग्रामीणों के विरोध के बाद नकद राशि बांटने के मामले में विभाग की ओर से अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

बीते दिनों नुनबटा पंचायत के मोहली टोला के डीलर खगेंद्र महतो को ग्रामीणों ने करीब छह घंटे तक पेड़ से बांधे रखा था। जब डीलर ने दो माह के राशन के बदले नकद राशि सभी कार्डधारियों को देने का वादा किया तब जाकर ग्रामीणों ने डीलर को मुक्त किया था। अब ताजा प्रकरण सुंडमारा पंचायत से जुड़ गया है।

क्या है पूरा मामला

यहां नंदुपहाड़ी स्वयं सहायता समूह की ओर से मार्च माह का राशन नहीं बांटा गया। हंगामा हुआ तो समूह ने विभाग को दुकान सरेंडर करने का आवेदन दे दिया। विभाग ने दुकान बंद कर पंचायत के दूसरे डीलर शैलेंद्र राम को टैग कर दिया। समूह की ओर से मार्च माह के अनाज के लिए शैलेंद्र राम को 30 हजार रुपये नकद दिया गया।

डीलर शैलेंद्र के पास भी पर्याप्त अनाज नहीं था। उन्होंने वहां 150 से अधिक कार्डधारियों को आवंटन से आधा अनाज देकर शेष अनाज के लिए प्रति किलो 20 रुपये की दर से नकद राशि बांट दी।

प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी ने क्या कहा

सदर प्रखंड की सुंडमारा पंचायत में जनवितरण प्रणाली की दुकान से कार्डधारियों को अनाज के बदले नकद राशि बांटे जाने की जानकारी नहीं है। अगर ऐसी शिकायत मिलेगी तो कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। शैलेंद्र राम द्वारा नकद राशि दिए जाने के मामले की जांच की जाएगी।- विक्रम रोबिंसन सोरेन, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी, गोड्डा सदर प्रखंड

ये भी पढ़ें- 

अब तक कितने पर हुई कार्रवाई? जमशेदपुर में अवैध निर्माण पर झारखंड हाईकोर्ट सख्त, SDO से मांगी जानकारी

Jharkhand Crime: होटल में प्रतिबंधित मांस परोसने पर हंगामा, थाना पहुंचा मामला तो पुलिस ने दी ये दलील