जागरण संवाददाता, धनबाद। लोकसभा में झारखंड से भाजपा के 12 सांसद हैं। सभी सांसद अपने-अपने संसदीय क्षेत्र की जनता के लिए सक्रिय रहते हैं। राज्य में भाजपा की सरकार नहीं है। ऐसे में केंद्र सरकार से जनता को अधिक से अधिक फायदा मिले इसके लिए इन दिनों सभी सांसदों के बीच होड़ लगी है। यह होड़ रेल के मोर्चे पर देखी जा सकती है। गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे तो इस मामले में सबसे आगे हैं। उन्होंने आजादी के इतने साल बाद इसी साल गोड्डा मुख्यालय तक रेल लाइन पहुंचवा दी। अब गोड्डा से भी ट्रेनें चलने लगी हैं। उनके प्रयास से झारखंड के संताल परगना को हाल के दिनों में कई ट्रेनें मिली हैं। रेल की राजनीति में रांची के सांसद संजय सेठ और कोडरमा की सांसद केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री अन्नपूर्णा देवी भी पीछे नहीं हैं। दोनों ने रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से मिलकर मांग पत्र साैंपा है। इन सबके इतर जनता के बीच भाईजी के नाम से प्रसिद्ध धनबाद के सांसद पीएन सिंह आराम की मुद्रा में हैं। वह जानते हैं कि भाजपा सांसदों के प्रयास का फल उनके क्षेत्र की जनता को ही मिलेगा। क्योंकि ट्रेनें धनबाद होकर ही गुजरेंगी।

धनबाद के सांसद पीएन सिंह और भाजपा नेता कृष्णा अग्रवाल

बंद ट्रेनों को चालू करने की मांग

धनबाद पर पड़ोसी सांसद मेहरबान हैं। माननीयों की इस मेहरबानी का सियासी गलियारे में क्या असर है, यह तो सियासतदार ही बताएंगे। पर उनकी दरियादिली से कोयलांचल और आसपास के लोग गदगद हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर सांसदों ने ऐसा क्या कर दिया। तो मामला कुछ यूं हैं कि गोड्डा, रांची और कोडरमा की सांसद और केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री ने रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव से मिलकर बंद ट्रेनों को शुरू करने और नई ट्रेनें चलाने की सिफारिश कर डाली है। वकालत करने वाले तीनों भारतीय जनता पार्टी के सांसद हैं। लिहाजा, रेलमंत्री ने उनके प्रस्तावों पर शीघ्र पहल का भरोसा भी दिया है। दुर्गापूजा में अब चंद दिन ही शेष हैं। माना जा रहा है कि संबंधित रेल जोनों से बातचीत कर ट्रेनों को चलाने की संभावना तलाशी जाएगी। 

धनबाद दौरे पर आयी थीं अन्नपूर्णा, दे दिया आशीर्वाद

कोडरमा सांसद और केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री अन्नपूर्णा देवी हाल में ही आशीर्वाद यात्रा के दौरान धनबाद पहुंची थी। अब उन्होंने धनबाद को अपना आशीर्वाद भी दे दिया है। रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव से मिलकर धनबाद से सूरत के लिए सीधी ट्रेन चलाने का प्रस्ताव सौंपा है। झारखंड में रेल सुविधाओं के विस्तार का भी आग्रह किया है। धनबाद समेत पूरे संताल से हजारों की संख्या में कामगार काम की तलाश में गुजरात जाते हैं। बावजूद गुजरात के लिए एक भी नियमित ट्रेन नहीं है। मालदा टाउन से सूरत के बीच चलने वाली साप्ताहिक ट्रेन ही विकल्प है। लिहाजा, इस ट्रेन में चार महीने पहले तक कंफर्म टिकट नहीं मिलते हैं। धनबाद से सूरत के लिए नई ट्रेन मिलने से झारखंड के बड़े हिस्से को इसका लाभ मिलेगा। 

गोड्डा सांसद ने दिया गोआ और गोड्डा की सीधी ट्रेन

गोड्डा सांसद डा. निशिकांत दुबे ने बाबा नगरी देवघर से गोआ के लिए सीधी ट्रेन मांगी थी जिस पर मंजूरी मिल गई। अपने फेसबुक पर उन्होंने ट्रेन चलने की तारीख का भी एलान कर दिया है। इसके साथ ही रांची से भागलपुर के बीच चलने वाली ट्रेन का गोड्डा तक विस्तार की भी मंंजूरी मिल गई है। ट्रेन 26 से चलेगी। इन दोनों का फायदा धनबाद और आसपास के यात्रियों को मिलेगा। गोआ जाने के लिए पूरे झारखंड से एक भी ट्रेन नहीं है। जसीडीह-वास्को-द-गामा पहली ट्रेन होगी। जसीडीह से पुणे और बरौनी-अहमदाबाद का मधुपुर तक विस्तार क लाभ भी यात्रियों को मिलेगा। 

रांची सांसद ने पाटलीपुत्र, देवघर इंटरसिटी के साथ मांगा न्यू जलपाईगुड़ी की ट्रेन

रांची सांसद संजय सेठ ने रांची से बाबा नगरी देवघर जानेवाली इंटरसिटी एक्सप्रेस को चलाने का प्रस्ताव दिया है। इसके साथ ही हटिया-पटना पाटलीपुत्र एक्सप्रेस को भी पटरी पर लाने की मांग सौंपी है। दोनों ट्रेनें धनबाद और आसपास के लिए महत्वपूर्ण है। 15 जून 2017 को धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन बंद होने से बंद हुई रांची- न्यू जलपाईगुड़ी साप्ताहिक ट्रेन को दोबारा चलाने समेत रेल सेवा विस्तार के कई प्रस्ताव सौंपे हैं। रांची-न्यू जलपाईगुड़ी एक्सप्रेस के चलने से उत्तर बंगाल के साथ उत्तर बिहार के कटिहार, किशनगंज समेत कई हिस्से तक पहुंचने की राह आसान होगी।

Edited By: Mritunjay