धनबाद, जेएनएन : लगता है कतरास वालों से रेलवे नाराज चल रही है। एक के बाद एक ट्रेन कतरासगढ़ जैसे महत्वपूर्ण स्टेशन से छीनने का सिलसिला जारी है।सबसे पहले रांची से भागलपुर के लिए चलने वाली वनांचल एक्सप्रेस का ठहराव कतरासगढ़ से छीन लिया गया। इसके बाद कोलकाता से अजमेर जाने वाली साप्ताहिक ट्रेन का ठहराव भी कतरासगढ़ से हटा लिया।

अब दो जनवरी से चलने वाली रांची दुमका इंटरसिटी भी कतरासगढ़ में नहीं रुकेगी। रेलवे ने स्पेशल बनकर चलने वाली रांची दुमका इंटरसिटी के ठहराव स्टेशन में से कतरासगढ़ का नाम डिलीट कर दिया है। ट्रेनों का ठहराव नहीं होने से अब कतरास और उसके आसपास के यात्रियों को तकरीबन 24 से 25 किलोमीटर दूर धनबाद आकर ट्रेन पकड़नी होगी। 

 कतरासगढ़ होकर चलने वाली धनबाद चंद्रपुरा पैसेंजर को भी रेलवे अब तक नहीं चला सकी है। 15 जून 2017 को धनबाद चंद्रपुरा रेल लाइन को भूमिगत आग का खतरा बता कर हुई देश की सबसे बड़ी रेल बंदी के दौरान ही धनबाद चंद्रपुरा पैसेंजर को बंद कर दिया गया था। बाद में फरवरी 2019 से धनबाद चंद्रपुरा रेल मार्ग पर दोबारा ट्रेन चलने लगी। पर धनबाद चंद्रपुरा पैसेंजर को चलाना रेलवे भूल गई।कतरासगढ़ होकर चलने वाली ट्रेन पूरे कोयलांचल के यात्रियों के लिए लाइफ लाइन थी। पहले से बंद ट्रेन को चलाने के बजाय अब कतरासगढ़ स्टेशन पर रुकने वाली ट्रेनों का ठहराव छीनकर यात्री सुविधा लगातार छीनी जा रही है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप