जागरण संवाददाता, धनबाद: हफ्ते में चार दिन चल रही कोलकाता-जम्मूतवी एक्सप्रेस एक सितंबर से प्रतिदिन चलेगी। रेलवे ने पुरानी पारंपरिक नीले रंग की कोच के बजाय इस ट्रेन को लाल रंग के एलएचबी कोच के साथ चलाने की मंजूरी दी है। एलएचबी कोच के साथ चलने वाली ट्रेन में स्लीपर श्रेणी के यात्रियों की सीटें बदल सकती हैं। वजह यह है कि पहले जहां स्लीपर के 11 कोच जुड़ रहे थे, अब 10 कोच ही जुड़ेंगे। लिहाजा, स्लीपर के एक कोच के यात्रियों को एडजस्ट किया जाएगा। हालांकि एलएचबी कोच में सीटें अधिक होने से यात्रियों को एडजस्ट करने में परेशानी नहीं होगी। स्लीपर में सीटें बदलने की समस्या पहले से बुक टिकटों पर हो सकती हैं। ताजा बुक टिकटों पर ऐसी समस्या नहीं आएगी क्योंकि नये सिरे से बुकिंग स्लीपर के 10 कोच के लिए ही हो रही है।

दो के बजाय तीन थर्ड एसी कोच जुड़ेगा

इस ट्रेन में अभी दो थर्ड एसी कोच ही जुड़ते हैं। एक सितंबर से थर्ड एसी के तीन कोच जुड़ेंगे। यानी थर्ड एसी में सफर करने वाले यात्रियों को ट्रेन के एलएचबी कोच से चलने का बड़ा फायदा मिलेगा। रेलवे को सबसे ज्यादा कमाई थर्ड एसी कोच से ही है। यही वजह है कि अब प्रत्येक एलएचबी कोच के साथ चलने वाली ट्रेन में स्लीपर कम कर थर्ड एसी के कोच बढ़ाए जा रहे हैं।

टिकटों की बुकिंग शुरू, सितंबर-अक्टूबर की सीटें लगभग फुल

ट्रेन को नियमित चलाने की घोषणा के साथ ही टिकटों की बुकिंग भी शुरू हो गई है। सेकेंड सीटिंग से सेकेंड एसी तक बुकिंग की रफ्तार तेज है। सितंबर और अक्टूबर में इस ट्रेन में जगह मिलना अब मुश्किल है। दुर्गापूजा के दौरान वैष्णोदेवी जानेवाले यात्रियों की भीड़ इस ट्रेन में दिखने लगी है। सात अक्टूबर से शुरू हो रही नवरात्रि के दौरान सभी श्रेणियां लगभग फुल हैं।

Edited By: Atul Singh