Move to Jagran APP

Udhampur IED Blast: पाक की करतूत का हुआ पर्दाफाश, जम्मू को फिर आतंकी हिंसा में झोंकने का था षड्यंत्र

Udhampur IED Blast साल 2022 के सितंबर महीने में जम्मू-कश्मीर आईईडी धमाकों से दहल गया था। ऊधमपुर बस स्टैंड में सितंबर 2022 में दो आईईडी धमाके किए गए थे। इन धमाकों के पीछे पाकिस्तान का हाथ था और पाक का लक्ष्य जम्मू-कश्मीर को आतंकी हिंसा की आग में झोंकना था।

By Jagran NewsEdited By: Swati SinghPublished: Fri, 31 Mar 2023 09:21 AM (IST)Updated: Fri, 31 Mar 2023 09:21 AM (IST)
पाक की करतूत का हुआ पर्दाफाश, जम्मू को फिर आतंकी हिंसा में झोंकने का था षड्यंत्र

जम्मू, जागरण संवाददाता। जम्मू संभाग को फिर से आतंकी हिंसा की आग में झोंकने के षड्यंत्र के तहत ऊधमपुर बस स्टैंड में सितंबर 2022 में दो आईईडी धमाके किए गए थे। धमाकों के लिए आईईडी व अन्य विस्फोटक पाकिस्तान में बैठे लश्कर कमांडर मोहम्मद अमीन बट उर्फ पिन्ना ने ड्रोन के जरिए जिला कठुआ के सीमावर्ती हिस्से में भेजे थे। यह जानकारी ऊधमपुर धमाके की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू स्थित विशेष अदालत में दायर आरोपपत्र में दी है।

loksabha election banner

एनआईए ने आरोपपत्र में लश्कर के दो आतंकियों असलम शेख उर्फ आदिल और मोहम्मद अमीन बट उर्फ अबु खुबैब उर्फ पिन्ना को आरोपित बनाया है। ऊधमपुर बस स्टैंड में 28 सितंबर 2022 की की आधी रात के बाद बस में आईईडी धमाका हुआ था। इसके चंद घंटे बाद 29 सितंबर सुबह एक अन्य बस में भी हुए आईईडी धमाका में दो लोग जख्मी हुए थे। शुरू में मामले की जांच पुलिस ने की। 15 नवंबर 2022 को यह जांच एनआईए को सौंपी गई।

युवाओं को आतंकी बनाने की चल रही थी साजिश

एनआईए प्रवक्ता ने बताया कि असलम शेख और मोहम्मद अमीन बट ने जम्मू में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए नए आतंकियों की भर्ती करने में जुटे हैं। इन्होंने अपने लिए ओवरग्राउंड वर्करों का नेटवर्क तैयार किया। सरेंडर आतंकियों को फिर से आतंकी संगठन में सक्रिय होने के लिए उकसा रहे थे।

एनआईए ने जांच में पाया कि मोहम्मद असलम शेख पाकिस्तान में बैठ जम्मू कश्मीर में आतंकी गतिविधियां चला रहे लश्कर कमांडर मोहम्मद अमीन बट उर्फ अबु खुबैब उर्फ पिन्ना के साथ लगातार संपर्क में था। मोहम्मद अमीन बट को केंद्र सरकार ने आतंकी घोषित किया है। उसने ही आदिल को ऊधमपुर बस स्टैंड पर दो आईईडी धमाके करने का जिम्मा सौंपा था। उसने 29 सितंबर 2022 को एक बस में आईईडी लगाई थी। इससे हुए धमाके में दो लोग जख्मी हुए थे।

आईईडी लगाने का तरीका इंटरनेट से बताया था

जिला डोडा का मोहम्मद अमीन बट वर्ष 1997 में आतंकी बना था। शुरू में वह हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकी था। बाद में वह लश्कर ए तैयबा में शामिल हो गया था। वह वर्ष 2009 में पाकिस्तान भागा था। वहीं से जम्मू कश्मीर में आतंकी नेटवर्क को फिर से सक्रिय करने के षड्यंत्र में लगा है। उसने ड्रोन ये हथियारों की खेप जिला कठुआ के सीमावर्ती इलाके में पहुंचाई और वहां से उसके एक साथी ने उसे आगे आदिल तक पहुंचाया। आईईडी को कैसे लगाना है यह तरीका इंटरनेट मीडिया के जरिए आदिल को सिखाया गया है।

2022 में आईईडी धमाकों से दहला था ऊधमपुर

आदिल ने 28 सितंबर 2022 की रात को ऊधमपुर बस स्टैंड में दो यात्री बसों में आईईडी लगाई थी। एक बस में 28 सितंबर को आधी रात के बाद धमाका हुआ था। दूसरी बस में 29 सितंबर की तड़के धमाका हुआ था। पकड़े जाने पर आदिल ने पूछताछ में बताया कि उसने कुछ और बम धमाकों को भी अंजाम देना था। उसने दो आईईडी, तीन स्टिकी बम, तीन डेटोनेटर व अन्य विस्फोटक घर पर छिपा रखे हैं। पुलिस ने यह सारा सामान उसकी निशानदेही पर बरामद कर लिया।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.