Move to Jagran APP

Reasi Terror Attack: 'आतंकी हिंसा तब तक जारी रहेगी जब तक...', रियासी बस हमले को लेकर फारूक अब्दुल्ला ने दिया ये बड़ा बयान

रियासी में आतंकी हमले को लेकर नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) ने कहा कि हमारी सरहदें अभी भी पूरी तरह बंद नहीं हैं वहां से घुसपैठ होती है। आतंकी हिंसा तब तक जारी रहेगी जब तक पाकिस्तान के साथ सटी सीमा से घुसपैठ होती रहेगी। इस कृत्य को अंजाम देने वालों को दोजख का रास्ता दिखाए। फारूक अब्दुल्ला ने कड़ी निंदा की।

By naveen sharma Edited By: Deepak Saxena Published: Tue, 11 Jun 2024 08:49 PM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 08:49 PM (IST)
रियासी हमले पर फारूक अब्दुल्ला ने दी प्रतिक्रिया।

राज्य ब्यूरो, श्रीनगर। नेशनल कान्फ्रेंस के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने रियाशी आतंकी हमले को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि बेशक प्रदेश में सुरक्षा परिदृश्य में सुधार आया है, लेकिन आतंकी हिंसा तब तक जारी रहेगी जब तक पाकिस्तान के साथ सटी सीमा से घुसपैठ होती रहेगी। उन्होंने रियासी में श्रद्धालुओं पर आतंकी हमले की निंदा करते हुए कहा कि खुदा ऐसे लोगों को भेजे जो इस कृत्य को अंजाम देने वालों को दोजख का रास्ता दिखाए।

सरहदें अभी भी पूरी तरह से बंद नहीं- फारूक अब्दुल्ला

आज बारामूला में पत्रकारों के साथ बातचीत में डॉ. फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) ने कहा कि बेशक यहां सुरक्षा परिदृश्य में सुधार आया है, लेकिन यहां आतंकवाद भी है। हमारी सरहदें अभी भी पूरी तरह बंद नहीं हैं, वहां से घुसपैठ होती है। सरहदों को पूरी तरह सील नहीं किया जा सकता। आप हर जगह नजर नहीं रख सकते। पाकिस्तान के साथ सटी अंतरराष्ट्रीय सीमा और एलओसी पर घुसपैठ होती है और जब तक यह बंद नहीं होगी, यहां आतंकी हिंसा समाप्त नहीं होगी।

रियासी में हमला एक निंदनीय कृत्य- फारूक अब्दुल्ला

रियासी में श्रद्धालुओं पर हमले (Reasi Terror Attack) के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह एक निंदनीय कृत्य है। जम्मू कश्मीर के प्रत्येक नागरिक को इस कृत्य की निंदा करनी चाहिए। इसमें जो भी शामिल हैं वो जम्मू कश्मीर, इस्लाम और इंसानियत के सबसे बड़े दुश्मन हैं। उन्होंने इसी माह के अंत में शुरू हो रही श्री अमरनाथ की पवित्र गुफा की वार्षिक तीर्थयात्रा का उल्लेख करते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर जनता श्रद्धालुओं के स्वागत के लिए तैयार है।

ये भी पढ़ें: Reasi Terror Attack: घने जंगल हो या ऊंचे पहाड़..., चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबल तैनात; आतंकियों का बचना अब मुश्किल

उन्होंने कहा कि यह तीर्थयात्रा जम्मू कश्मीर की सदियों पुरानी बहुलवादी और सांप्रदायिक सौहार्द की परम्परा का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि अगर खुदा ने चाहा तो यह तीर्थयात्रा एक शांत, सुरक्षित और सौहार्दपूर्ण वातावरण में संपन्न होगी।

भारत पाक के बीच हो दोस्ती और सौहार्दपूर्ण संबंध- फारूक अब्दुल्ला

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को तीसरी बार सत्तासीन होने पर दी गई बधाई पर डॉ. फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि दोनों मुल्कों के प्रधानमंत्री एक दूसरे को बधाईयां देते रहे हैं। यह एक परम्परा है कि जब किसी मुल्क में कोई नई सरकार बनती है तो दूसरे मुल्क की तरफ से बधाई दी जाती है। मैं चाहूंगा कि यह भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री दोनों मिलकर इस पूरे क्षेत्र में ,भारत-पाकिस्तान के बीच दोस्ती और सौहार्दपूर्ण संबंध बनाने के लिए काम करें।

ये भी पढ़ें: Reasi Terror Attack के बाद कठुआ और सीमाओं पर सुरक्षा चाक-चौबंद, पुलिस को नाकों पर चौकन्ना रहने के निर्देश जारी


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.