Move to Jagran APP

Omar Abdullah: 'आर्टिकल 370 हटाया, राम मंदिर बनाया फिर भी क्यों घट गईं सीटें', उमर अब्दुल्ला ने मोदी सरकार पर कसा तंज

देश में तीसरी बार मोदी सरकार बनने पर जम्मू-कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) ने तंज कसते हुए कहा कि वो गठबंधन का मजाक बनाते रहे और आज बिना एलायंस किए सरकार नहीं बना सकते हैं। वो पहली बार गठबंधन की सरकार चला रहे हैं। उन्होंने बीते पांच सालों में वो सब किया जो जनता चाहती थी फिर भी लोगों ने उनकी सीटें घटा दी।

By Agency Edited By: Deepak Saxena Published: Mon, 10 Jun 2024 04:38 PM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 04:38 PM (IST)
उमर अब्दुल्ला ने मोदी सरकार पर कसा तंज (फाइल फोटो)

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला (Omar abdullah) ने पीएम मोदी की तीसरी बार सरकार बनने को लेकर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि ये पहली बार है कि वो गठबंधन की सरकार चला रहे है। अब देखने वाली बात ये होगी कि इसका मुल्क पर क्या असर होगा। बीजेपी की कार्यप्रणाली पर क्या असर होगा।

पीएम पहली बार चला रहे गठबंधन की सरकार- उमर अब्दुल्ला

जम्मू-कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने कहा कि वो (पीएम मोदी) तीसरी बार सरकार बना रहे हैं लेकिन पहली बार वह गठबंधन सरकार चला रहे हैं। जब वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब कोई गठबंधन नहीं था, जब वह 10 साल तक प्रधानमंत्री थे, तब भी कोई गठबंधन नहीं था। यह पहली बार है कि वह गठबंधन सरकार चला रहे हैं...

ये भी पढ़ें: Reasi Terror Attack: पहले भी आतंकियों ने दिया था ऐसी ही घटना को अंजाम, मेटाडोर पर की थी फायरिंग

जनता के वादे पूरे करने के बाद भी घट गईं सीटें- उमर अब्दुल्ला

उन्होंने कहा कि पिछले पांच सालों में उन्होंने वो सब कुछ किया जिसका वादा वह सालों से करते आ रहे थे, चाहे वह अनुच्छेद 370 हो, या राम मंदिर, लेकिन इतना सब करने के बाद भी उनकी सीटें बढ़ने की बजाय घट गईं... जो लोग 400 पार करने की बात कर रहे थे, वे 300 भी पार नहीं कर पाए..."

पीएम मोदी ने एनडीए गठबंधन के आधार पर तीसरी बार अपनी सरकार बना ली है। वहीं, अगर बात उमर अब्दुल्ला की करें तो उन्होंने बारामूला सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा लेकिन वो निर्दलीय प्रत्याशी इंजीनियर राशिद से हार गए।

ये भी पढ़ें: Reasi Terror Attack: कहां है रियासी, आतंकियों ने कैसे शिव खोड़ी से वैष्णो देवी जा रही बस को बनाया अपना शिकार?


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.