कटड़ा, राकेश शर्मा। सबकुछ योजना के अनुसार हुआ तो माता वैष्णो देवी की यात्रा जून के दूसरे सप्ताह में शुरू हो सकती है। खास बात यह है कि श्रद्धालुओं को यात्रा के दौरान कटड़ा से सांझीछत्त के बीच हेलीकॉप्टर सेवा, आद्कुंवारी से भवन तक बैटरी कार और भवन से भैरो घाटी तक पैसेंजर केवल कार की सुविधा भी मिलेगी। लेकिन श्रद्धालुओं को हेलीकॉप्टर सेवा का बढ़ा हुआ किराया देना पड़ेगा।

हेलीकॉप्टर सेवा के लिए नए टेंडर की प्रकिया पूरी होने के बाद किराया करीब 65 फीसद तक बढ़ गया है। इसके अलावा श्रद्धालु घोड़ा, पालकी पर भी यात्रा कर सकते हैं। माना जा रहा है कि शुरुआत में सीमित संख्या में स्थानीय श्रद्धालुओं को ही यात्रा करने का मौका मिलेगा। बाद में हालात की समीक्षा कर यात्रा को बढ़ाया जाएगा।

श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने अपनी तरफ से सभी तैयारियां शुरू कर दी हैं, लेकिन फैसलों पर अंतिम मुहर बोर्ड मीटिंग में श्राइन बोर्ड के चेयरमैन और उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू की ओर से ही लगाई जाएगी। पूरी तैयारी है कि यात्रा शुरू होने के साथ ही हेलीकॉप्टर सेवा, बैटरी कार और पैसेंजर केबल कार सेवा भी शुरू की जाएगी, लेकिन हेलीकॉप्टर सेवा का लाभ उठाने वाले श्रद्धालुओं को बढ़ा हुआ किराया अदा करना पड़ेगा।

तीन साल के उपरांत एक बार फिर हेलीकॉप्टर सेवा को लेकर कंपनियों के नए टेंडर हो गए हैं। नए टेंडर के मुताबिक, पहले से श्रद्धालुओं को सेवा दे रहीं हिमालयन हेली तथा ग्लोबल वेक्ट्रा कंपनियां ही अपनी सेवाएं जारी रखेंगी।

हेलीकॉप्टर की करंट बुकिंग होगी, यात्री भी तीन बैठाए जाएंगे :

सूत्रों के मुताबिक, हेलीकाप्टर सेवा, बैटरी कार और पैसेंजर का लाभ लेने वाले श्रद्धालुओं को भी शारीरिक दूरी का विशेष ध्यान रखना पड़ेगा। इन सभी सेवाओं में यात्रियों को बैठाने की संख्या कम कर दी गई है। हेलीकॉप्टर में अब पांच के बजाए तीन श्रद्धालु सवार होंगे। बैटरी कार में सात के बजाए चार से पांच और पैसेंजर केबल कार में 40 के बजाए 15 से 20 श्रद्धालुओं को बैठाया जाएगा। शुरुआत में हेलीकाप्टर और बैटरी कार सेवा की आनलाइन के बजाए करंट बुकिंग होगी।

सैनिटाइजर यूनिट बनाने के साथ अन्य तैयारियां तेज :

मौजूदा समय में कटड़ा से भवन तक श्रद्धालुओं में शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए चिन्हित जगहों पर निशान लगाने का काम जारी है। सूत्रों के अनुसार, कटड़ा और सांझीछत्त हेलीपैड पर शारीरिक दूरी के लिए छह फुट की दूरी पर निशान लगा दिए गए हैं। वैष्णो देवी भवन पर भी गेट नंबर एक से लेकर गेट नंबर तीन तक निशान लगा दिए गए हैं। भवन पर साफ-सफाई के साथ ही रंग-रोगन का कार्य भी जारी है। यात्रा के पारंपरिक 13 किलोमीटर लंबे मार्ग पर प्रत्येक तीन किलोमीटर की दूरी पर सैनिटाइजर यूनिट का कार्य भी जारी है। भवन मार्ग पर घोड़ा, पिट्ठू, पालकी आदि के रूप में कार्य करने वाले मजदूरों के साथ ही घोड़ों के सैंपल भी टेस्ट किए जा रहे हैं, ताकि यात्रा शुरू करने से लेकर सभी जरूरी तैयारियां पूरी की जा सकें।

सूत्रों के अनुसार, भवन तथा भैरव घाटी के बीच चलने वाली पैसेंजर केबल कार का ट्रायल टेस्ट भी शुरू हो गया है। सूत्रों के अनुसार, श्राइन बोर्ड ने अपने सभी कर्मचारियों की तैनाती फिर शुरू कर दी है। तमाम कर्मचारियों का अपने-अपने कामों पर लौटना शुरू हो गया है। हालांकि श्राइन बोर्ड के फैसलों की अभी किसी अधिकारी ने आधिकारिक पुष्टि नहीं की है।

हेलीकॉप्टर का किराया :अब :-

कटड़ा से सांझीछत : 1730 रुपये प्रति सवारी (एकतरफा), कटड़ा-सांझीछत : 3460 रुपये प्रति सवारी (आना-जाना)

पहले :-कटड़ा से सांझीछत : 1045 रुपये प्रति सवारी (एकतरफा) -कटड़ा-सांझीछत : 2090 रुपये रुपये प्रति सवारी (आना-जाना)

हेलीकॉप्टर के साथ बैटरी कार व केवल कार सेवा भी शुरू की जाएगी-

श्रद्धालु घोड़ा और पालकी पर भी कर सकते हैं यात्रा, तैयारियां तेज-श्राइन बोर्ड ने अपने सभी कर्मचारियों की तैनाती फिर शुरू की-शुरुआत में सीमित संख्या में स्थानीय यात्रियों को मिलेगा मौका

 

Edited By: Preeti jha