Move to Jagran APP

Kathua Encounter: जम्मू कश्मीर में आतंकी हमले के खिलाफ गुस्सा, लोगों ने पाकिस्तान का पुतला फूंका

जम्मू कश्मीर के कठुआ जिले में हुए आतंकी हमले के बाद आक्रोशित लोगों ने पाकिस्तान का पुतला जलाया। लोगों ने कहा कि जम्मू- कश्मीर में आतंकी धकेले जा रहे हैं। डोगरा फ्रंट शिवसेना के प्रदेश अध्यक्ष ने सरकार से पाकिस्तान को सबक सिखाने की मांग की। नेशनल कॉन्फ्रेंस ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह हमले सरकार के शांति के दावों की पोल खोल रहे हैं।

By guldev raj Edited By: Rajiv Mishra Wed, 10 Jul 2024 03:31 PM (IST)
आतंकी हमले से गुस्साए लोगों ने पाकिस्तान का पुतला फूंका

जागरण टीम, जम्मू। कठुआ में सैन्य वाहनों पर आतंकी हमले में पांच जवानों के बलिदान होने पर लोगों में दुख और हमले में शामिल आतंकियों के खिलाफ गुस्सा है। मंगलवार को कई संगठनों ने घटना पर रोष प्रकट करते हुए प्रदर्शन किया और पाकिस्तान का पुतला जलाया।

यही नहीं लोगों ने सरकार से पाकिस्तान को कड़ा सबक सिखाने की मांग की। डोगरा फ्रंट शिवसेना ने मंगलवार को प्रदर्शन किया और पाकिस्तान का पुतला जलाया। रानी पार्क में कार्यकर्ता एकत्र हुए और नारेबाजी की।

पाकिस्तान लगातार जम्मू-कश्मीर में हालात बिगाड़ रहा है

कार्यकर्ताओं ने कहा कि पाकिस्तान लगातार जम्मू-कश्मीर में हालात बिगाड़ने में जुटा हुआ है। यहां पर आतंकी धकेले जा रहे हैं। जम्मू-कश्मीर में आतंकियों को पनाह देने वाले लोगों की पहचान की जाए और उनको जेलों में डाला जाए।

प्रदेश अध्यक्ष अशोक गुप्ता ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में आए दिन आतंकी घटना को अंजाम दे रहे हैं। जो आतंकियों के मददगार हैं, उन लोगों की भी पहचान होनी चाहिए। अशोक गुप्ता ने कहा कि जो लोग आतंकियों को पनाह देते हैं, वे देशद्रोही हैं और उनको सबक सिखाने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि सरकार पता कराए कि जम्मू-कश्मीर में कौन ऐसे लोग हैं जो कि आतंकियों को पाल रहे हैं। उन्होंने मांग की कि पाकिस्तान को भी सबक सिखाने की जरूरत है जो कि अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा। कार्यकर्ताओं ने मौके पर रैली भी निकाली और सरकार से मांग की आतंकियों से सख्ती से निपटा जाए।

नेकां ने सरकार को आड़े हाथ लिया

जम्मू में बढ़ते आतंकी हमलों को लेकर नेशनल कॉन्फ्रेंस ने सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि यह हमले सरकार के शांति के दावों की पोल खोल रहे हैं। सरकार को झूठे दावे ठोकने के बजाय जमीनी हकीकत को स्वीकार करना चाहिए।

आतंकी घटनाओं पर अंकुश लगाने की दिशा में ठोस कार्रवाई करनी चाहिए। नेकां के संभागीय अध्यक्ष रतन लाल गुप्ता ने कठुआ जिले में हुए आतंकी हमले की निंदा की।

पाकिस्तान से बदला लेने की मांग

आरएसपुरा में समाज सेवक इंदरजीत सूदन के नेतृत्व में युवाओं ने दलजीत सिंह चौक में प्रदर्शन करते हुए पाकिस्तान का पुतला जलाया। प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भारतीय सेना के जवानों के बलिदान होने का पाकिस्तान से बदला लेने की मांग की।

मीरां साहिब क्षेत्र के भौर कैंप चट्ठा बस्ती में कांग्रेस की पार्टी के राज्य सचिव पवन भगत की मौजूदगी में केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया गया और कठुआ में आंतकी हमले में बलिदान जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। पार्टी के राज्य सचिव ने कहा कि जम्मू संभाग में गंभीर स्थिति उत्पन्न हो गई है।

आए दिन आतंकी लोगों, सेना के जवानों को निशाना बना रहे हैं। इस समय अमरनाथ यात्रा चल रही है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को सबक सिखाया जाना चाहिए। उधर, किसान नेता सुभाष दसगोत्रा ने कठुआ में आतंकवादियों द्वारा सेना की गाड़ी पर हमला कर जवानों को बलिदान करने की निंदा की।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से कहा कि अब पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा निर्णय लेने का समय आ गया है। अब तो सीधे पाकिस्तान पर हमला होना चाहिए।

यह भी पढ़ें- Jammu Kashmir News: डोडा में फिर शुरू हुआ तलाशी अभियान, आतंकियों के ठिकानों का पता लगाने में जुटे सुरक्षाबल

केंद्र सरकार से की ये मांग

कस्बे में आयोजित पत्रकार वार्ता में किसान नेता ने कहा कि अब तो जम्मू संभाग सीधा-सीधा आतंकवादियों के निशाने पर आया है। कभी राजौरी में हमला हो रहा है, कभी रियासी में और कभी कठुआ में। जम्मू के शांतिप्रिय माहौल को खराब करने का पाकिस्तान भरपूर प्रयास कर रहा है।

ऐसे में केंद्र सरकार को अब कोई भी कोताही नहीं करनी चाहिए। विजयपुर में पूर्व पंचायत प्रतिनिधि राम पाल शर्मा, यशपाल खजूरिया, विजय चौधरी, तीर्थ राम, मोहन सिंह भट्टी, कुलदीप वर्मा, जगदीश भट्टी, रूप चंद, दर्शन चौधरी ने हमले में बलिदानी सैनिकों व उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना जताई।

साथ ही केंद्र सरकार से जम्मू प्रांत में बढ़ती आतंकी घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए कारगर नीति अमल में लाने की मांग की। उन्होंने कहा कि जिस तरह जम्मू में आतंकी घटनाएं बढ़ रही हैं, उससे लोग असुरक्षित महसूस करने लगे हैं।

यह भी पढ़ें- Kathua Encounter: 'मुसलमानों का मसीहा बनना बंद करे पाकिस्तान', कठुआ आतंकी हमले पर फूटा फारूक अब्दुल्ला का गुस्सा