शिमला, जेएनएन। हिमाचल की राजधानी शिमला के मालरोड पर स्थित इंडियन कॉफी हाउस आज तक कई ऐतिहासिक पलों का गवाह बन चुका है। ये कॉफी हाउस उतना ही पुराना है जितनी की हिमाचल की सियासत। यहां सुबह से शाम तक लोगों की भीड़ रहती है। बुद्धिजीवी इस कॉफी हाउस में घंटों बैठकर राजनीति से लेकर सामाजिक चर्चाएं करते नजर आते हैं। अन्य रेस्टोरेंट में आप लंबे समय तक नहीं बैठ सकते, लेकिन इंडियन कॉफी हाउस में भले ही आप एक कॉफी पीएं, पर दिनभर बैठ सकते हैं। ये सेवानिवृत्त कर्मियों की भी पसंदीदा जगह में से एक हैं जहां दोस्तों सहित गप्पें लड़ाने के लिए वे आते हैं। साथ ही युवा भी दोस्तों के साथ बेहतरीन समय गुजारने के लिए कॉफी टेबल बुक करवाते हैं। यहां सुबह से लेकर शाम तक भीड़ लगी रहती है। लोगों को कॉफी टेबल खाली होने के लिए कई बार दुकान के बाहर इंतजार करना पड़ता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने काफिला रुकवाकर पी थी कॉफी 

साल 2017 में प्रदेश में भाजपा सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिमला की जनता का अभिवादन किया तो इसके बाद एक ऐसा मौका आया जब प्रधानमंत्री काफिला रोककर अपनी पसंद की जगह पर कॉफी पीने पहुंचे। उस समय प्रधानमंत्री की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी जिसमें वे कॉफी पीते नजर। मोदी जब हिमाचल भाजपा के प्रभारी थे, तो वह अकसर यहां कॉफी पीते थे। 

कॉफी हाउस के लिए बेच दिए थे संस्थापकों ने गहने 

इंडियन कॉफी हाउस भारत में एक रेस्तरां श्रृंखला है, जो श्रमिक सहकारी समितियों द्वारा चलती है। इसके दुनियाभर में 400 मजबूत हाउस हैं। कहा जाता है कि इंडियन कॉफी हाउस शिमला के संस्थापकों ने इसे शुरू करने के लिए अपनी पत्नियों के आभूषण बेच दिए थे। साल 1957 में महज दो रुपये में एक कॉफी का कप मिलता था, जो अब 25 रुपये का हो गया है।

अनेक सियासतदान रह चुके हैं मुरीद

देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की भी ये पसंदीदा जगह थी। इतना ही नहीं इंदिरा गांधी और लालकृष्ण आडवाणी भी इसके मुरीद रह चुके हैं, वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी इस कॉफी हाउस से विशेष लगाव है। अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई यहां अकसर आते थे। सियासी चर्चाओं के लिए यह इंडियन कॉफी हाउस काफी मशहूर है। अंग्रेजों के जमाने से ही इंडियन कॉफी हाउस सियासतदानों के लिए पंसदीदा जगह है। उस जमाने में बड़े-बड़े अंग्रेज अधिकारी और रसूख वाले लोग ही यहां पर आया करते थे। देश के पहले प्रधानमंत्री से लेकर वर्तमान पीएम नरेंद्र मोदी तक यहां आ चुके हैं।

शैवाल एयर प्यूरीफायर, 98 प्रतिशत तक हानिकारक गैसों का करेगा खात्मा

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021