शिमला, रामेश्वरी ठाकुर। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगे कर्फ्यू से जहां हर व्यवसाय प्रभावित हुआ है, वहीं मांगलिक कार्यो पर भी लॉक लग गया है। हर साल अप्रैल और मई में जहां शादी विवाह होते थे, लेकिन इस बार अप्रैल के विवाह उत्सवों पर कोरोना महामारी भारी पड़ गई है। 

कर्फ्यू के कारण दूल्हा-दुल्हन और स्वजनों की खुशियां फीकी हो गई हैं। ऐसे में सर्राफा बाजार में मंदी छाई हुई है। दुकानें बंद हैं, ग्राहक एडवांस देकर समय पर सोना नहीं खरीद पा रहे हैं। इस बार नवरात्र के बाद अक्षय तृतीया पर कर्फ्यू का साया बरकरार है। इस बीच अपने ग्राहकों को राहत देने के लिए शिमला के कारोबारियों ने ऑनलाइन बुकिंग लेनी शुरु कर दी है। ग्राहकों से वाट्सएप पर बुकिंग ली जा रही है। 26 अप्रैल को अक्षय तृतीया है।

तीन मई के बाद उपायुक्त से लेंगे अनुमति 

शिमला के संदीप ज्वेलर के सराफा कारोबारी उद्धम सिंह ने बताया कि कर्फ्यू के कारण कारोबार का बेहद नुकसान हो गया है। अक्षय तृतीया जैसे शुभ मुहूर्तो पर दुकान पर भीड़ लगी रहती थी। इस बार ग्राहक और दुकानदार दोनों परेशान हैं। अक्षय तृतीया के दौरान सोने की खरीदारी खूब होती थी। अगर तीन मई के बाद भी सरकार बाजार बंद रखने का फैसला लेती है तो उपायुक्त से मिलकर सोने की डिलीवरी के लिए विशेष परमिशन ली जाएगी।

लोगों को रहता है अक्षय तृतीया का इंतजार  

ठाकुर ज्वेलर के सर्राफा कारोबारी नेत्र सिंह ठाकुर ने बताया कि हिंदू  मान्यता के अनुसार अक्षय तृतीया के दिन सोने की खरीदारी का सर्वाधिक महत्व होता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन सोना खरीदने से घर में धन की कभी कमी नहीं होती है। इसलिए लोग लंबे समय से नवरात्र और अक्षय तृतीया का इंतजार करते हैं।

 Akshaya Tritiya 2020: लॉकडाउन में भी पूरे विधि विधान से होगी श्रीमंदिर में अक्षय तृतीया एवं चंदन 

यात्रा

25 साल बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फोन सुन हैरान रह गया ये दोस्‍त, साढ़े तीन मिनट हुई बात

 

Edited By: Babita kashyap