Move to Jagran APP

सेब और ड्रैगन फ्रूट छोड़ो... एवोकाडो फल बदल रहा हिमाचल के किसानों की किस्‍मत, कीमत जान रह जाएंगे दंग

हिमाचल प्रदेश के किसानों की किस्‍मत एवोकाडो (Avocado) बदल रहा है। बागवानी विभाग की नर्सरी से इसके पौधे लिए जा रहे हैं। यह फ्रूट प्रोटीन से भरपूर है। एवोकाडो में केले से भी ज्‍यादा कैलोरी होती है। इसे अंग्रेजों का फल कहा जाता है। 100 साल पहले अंग्रेज ही इस फल को भारत लाए थे लेकिन उस दौरान भारतीयों ने इसे नहीं अपनाया था।

By Yadvinder Sharma Edited By: Himani Sharma Thu, 11 Jul 2024 03:43 PM (IST)
एवोकाडो फल से बदल रही हिमाचल की तस्‍वीर

यादवेन्द्र शर्मा, शिमला। एवोकाडो (पर्सिया अमेरिकन) एक अनोखा फल है। इसके गूदे में तेल होता है जिसकी मात्रा किस्म के आधार पर 13 से 25 प्रतिशत तक हो सकती है। इसलिए इस फल को बटर फ्रूट भी कहा जाता है। इसके गूदे में मक्खन जैसी बनावट होती है।

फलों में एवोकाडो सबसे अधिक पौष्टिक होता है। ये फल 500 से 600 रुपए प्रति किलोग्राम या 100-125 रुपए प्रति फल बाजार में बिकता है। एवोकाडो हिमाचलियों की तकदीर बदलने के साथ तस्वीर बनेगा।

100 साल पहले भारत में लेकर आए थे अंग्रेज

प्रदेश के बागवानों को उद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय नौणी सोलन और बागवानी विभाग की कई नर्सरी से इसके पौधे दिए जा रहे हैं। लगभग 100 साल पहले अंग्रेजों ने इस फल को भारत में लाने की कोशिश की थी, लेकिन इसके फीके स्वाद के कारण भारतीय उपभोक्ताओं ने इसे अस्वीकार कर दिया था।

यह भी पढ़ें: Mandi News: 'जनता को हमसे मिलने के लिए आधार कार्ड की नहीं जरूरत...', विक्रमादित्‍य सिंह ने कंगना रनौत पर कसा तंज

भारतीयों के लिए स्वाद एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक है। इसके बावजूद एवोकाडो ने वापसी की है। वर्ष 2023 के दौरान डॉ. वाई.एस. परमार बागवानी और वानिकी विश्वविद्यालय, महाविद्यालय, नेरी, हमीरपुर ने उच्च घनत्व बागवानी और राज्य के उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में एवोकाडो फल की खेती को बढ़ावा देने के लिए एक परीक्षण किया है। जो सफल रहा है।

आखिर क्या है एवोकाडो

एवोकैडो गूदा प्रोटीन, वसा से भरपूर होता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट कम होता है। एवोकाडो विटामिन ए, बी, सी और ई से भरपूर होता है। इसलिए एवोकाडो खाना सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। एवोकाडो में केले से भी ज्यादा कैलोरी होती है।

यह भी पढ़ें: Himachal Tourism: खुशखबरी! अब और रोमांचक होगी Zoo सफारी, श्रीरेणुकाजी चिड़ियाघर में जल्द दिखेगी बाघों की जोड़ी

एवोकाडो दुनिया का एकमात्र ऐसा फल है जिसका कोई स्वाद और सुगंध नहीं है, लेकिन फिर भी इसे पूरी दुनिया में पसंद किया जाता है और खाया जाता है। सबसे लोकप्रिय किस्में हास और फुएर्टे हैं। हास के फल पकने पर बैंगनी रंग के हो जाते हैं और फुएर्टे के फल हरे रंग के होते हैं।

एवोकाडो हिमाचल प्रदेश के बागवानों कि आय को बढ़ाने के साथ उनके स्वास्थ्य को भी बेहतर करने का काम करेगा। इसकी बेहतर तरीके से पैदावार हो रही है। बागवानों को करीब 700 पौधे इसके प्रदान भी कर दिए गए हैं। -सी पाल रासु सचिव बागवानी, हिमाचल प्रदेश