मंडी, जागरण संवाददाता। Himachal Pradesh Road Blocked, हिमाचल प्रदेश में लगातार हो रही बारिश ने भारी तबाही मचाई है। भारी बारिश के बाद हुए भूस्‍खलन के कारण कुल्लू जिले का सपंर्क पांच घंटे तक कट गया। कीरतपुर-मनाली राष्ट्रीय राजमार्ग पर हणोगी के पास भूस्खलन से मार्ग बंद रहा। वहीं, कांढ़ी-कटौला मार्ग भी मलबा आने के कारण बाधित है। प्रशासन मार्ग को बहाल करने में जुटा है। बारिश के कारण हणोगी माता मंदिर के पास पहाड़ से भारी मलबा और लगातार पत्थर गिरने के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों की आवाजाही रोक दी गई थी, जिसे पांच घंटे बाद बहाल किया गया। बजौरा के पास ही वाहन चालकों को आगे न जाने को कहा गया था। इस कारण बसों सहित मालवाहक वाहन और पर्यटक भी फंसे रहे।

यह भी पढ़ें: Cloudburst: लाहुल में बादल फटा, बाढ़ में बह गए 10 लोग, उपायुक्‍त ने मांगी एनडीआरएफ की मदद

 

कुल्लू जिला को रोजमर्रा की जरूरतों दूध, दहीं, ब्रेड आदि के सामान की सप्लाई बाधित रही। वहीं कांढ़ी-कटौला मार्ग के बंद होने से यहां भी कई गाड़ियां घंटों फंसी रहीं। कीरतपुर-मनाली एनएच के बंद होने पर इसी मार्ग को वैकल्पिक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। वहीं मंडी शहर के विक्टोरिया पुल के साथ भी पहाड़ से पत्थर गिरने के कारण कुछ समय के लिए वाहनों की आवाजाही को रोका गया थाा। डीसी मंडी अरिंदम चौधरी औऱ डीसी कुल्लू आशुतोष गर्ग ने बताया कि मार्गों को बहाल करने का काम जारी है। पांच घंटे बाद हणोगी में मार्ग बहाल कर दिया है।

पंडोह बांध के गेट खोले

लगातार हो रही भारी बारिश के कारण ब्यास नदी में पानी की आवक 30000 क्यूसिक तक पहुंच गई है। ऐसे में बीबीएमबी प्रबंधन ने पंडोह बांध से 22000 क्यूसिक पानी छोड़ दिया गया है। मंडी प्रसाशन ने लोगों से ब्यास नदी किनारे न जाने का आग्रह किया है। साथ ही अन्य जिलों को भी अलर्ट कर दिया गया है। ब्‍यास नदी कांगड़ा व हमीरपुर के कुछ भाग से होकर बहती है व पौंग डैम में मिल जाती है। ऐसे में दोनों जिलों के लोगों को अलर्ट किया गया है।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma