चुराह (चंबा), संवाद सहयोगी। जिला चंबा के चुराह उपमंडल की ग्राम पंचायत बिहाली के करातोट (जुगरा) गांव में 14 सितंबर के दिन सामने आई दर्दनाक घटना अग्निकांड की नहीं, बल्कि सुनियोजित तरीके से की गई हत्या थी। मौके के हालातों व पोस्टमार्टम रिपोर्ट चिकित्सक की ओर से पुलिस को सौंपे जाने के बाद पुलिस ने हत्या की आरोपित मृतक की पत्नी भूरा और करातोट गांव के जमात अली को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार करने के बाद दोनों को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से दोनों आरोपितों को 28 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया है।

रिमांड मिलने के बाद पुलिस आरोपितों से पूछताछ करने के साथ अनसुलझे पहलुओं सुलझाने में जुट गई है। हालांकि, अभी तक फारेंसिक रिपोर्ट आना बाकी है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर चिकित्सकों की ओर से जताए गए संदेह पर कार्रवाई अमल में लाई गई है।

14 सितंबर की रात को करातोट गांव में एक मकान के कमरे में आग लगने से मोहम्मद रफी (आारोपित महिला का पति) व साथ सोए उनके तीन मासूमों की मौत हो गई थी, जबकि इस दर्दनाक घटना में मृतक की पत्नी भूरा बच निकली थी। उसी समय यह घटना संदिग्ध प्रतीत हो रही थी। इस पर कई लोग सवाल खड़े कर इसकी उचित जांच की मांग कर रहे थे। साथ ही मोहम्मद रफी के माता-पिता ने भी इसे साजिश करार देते हुए बहू पर गंभीर आरोप लगाते हुए इसकी गहनता से जांच कर दोषियों को कठोर सजा की मांग कर रहे थे। ससुर ने बहू और पड़ोसी पर हत्या का केस भी दर्ज करवाया है।

उधर, डीएसपी सलूणी मयंक चौधरी का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में चिकित्सकों की ओर से जताए गए संदेश व मौके के हालातों को देखते हुए यह अग्निकांड की घटना नहीं, बल्कि सुनियोजित ढंग से घटना को दिया गया अंजाम है। ऐसे में पुलिस ने आरोपित भूरा और करातोट गांव के जमात अली को गिरफ्तार कर लिया है। उन्हें न्यायालय में पेश करने के बाद 28 सितंबर तक तीन दिन के रिमांड पर लिया गया है। मामले की फोरेंसिक रिपोर्ट आना अभी बाकी है।

Edited By: Virender Kumar