जागरण संवाददाता, यमुनानगर :

संघ कार्यकर्ता की बेटी की शादी के तीन दस्तावेज पुलिस के पास हैं। इन सभी में अलग-अलग जगह पर निकाह और शादी होना बताया है। चंडीगढ़ में लड़की के अपहरण के दो दिन बाद पुलिस के पास डाक से एक दस्तावेज पहुंचा। इसमें लड़की ने हिदू रीति-रिवाज से चंडीगढ़ में शादी करने की बात कहते हुए सुरक्षा मांगी थी। अब उसने मजिस्ट्रेट के सामने 164 के बयानों में कालका में नबील के साथ निकाह करने की बात कही है। इससे पहले हाई कोर्ट में प्रोटेक्शन के लिए लगाए दस्तावेजों के अनुसार पिजौर की मदीना मस्जिद में उन्होंने निकाह किया। अंबाला में भी निकाह का एक दस्तावेज पुलिस को मिला है। फिलहाल लड़की करनाल के नारी निकेतन में है। पुलिस सोमवार को जेएमआइसी रजत वर्मा की कोर्ट में पेश होगी।

दस जून को संघ कार्यकर्ता की बेटी का अपहरण कर लिया गया था। इस मामले में हमीदा निवासी नबील, उसकी बहन नाबिया और दोस्तों परवेज और जावेद पर केस दर्ज हुआ था। 12 जून को लड़की की ओर से हाईकोर्ट में प्रोटेक्शन के लिए याचिका लगाई गई। दस्तावेज दिए गए कि हुमायरा (बदला हुआ नाम) बालिग है। उसने नबील से पिजौर की मदीना मस्जिद में निकाह कर लिया है। इस मामले में 17 जून को सुनवाई होनी थी। इसी बीच लड़की का चंडीगढ़ से फिर अपहरण हो गया। नबील ने बताया था कि लड़की के माता, पिता और भाई उसे अपने साथ ले गए। पौंटा साहिब से निकल गई थी लड़की

पांच जुलाई को लड़की बिहारीगढ़ की जामा मस्जिद से पुलिस ने बरामद की। सीआइए टू के इंचार्ज श्रीभगवान यादव ने बताया कि परिजन और अन्य के साथ लड़की पौंटा साहिब चली गई थी। इस बीच वह किसी तरह से वहां से निकल आई। पहले वह बस स्टैंड पहुंची। यहां पर उसने हरिद्वार का टिकट लिया। उसने किसी से फोन लेकर बात की और इस दौरान काउंटर पर ही उसने टिकट बदल दिया। वह बिहारीगढ़ जाने वाली बस में बैठ गई थी। पुलिस को पता लगा तो तुरंत सहारनपुर पुलिस से संपर्क कर बिहारीगढ़ पहुंचे। यहां पर लड़की जामा मस्जिद से बरामद हुई। उसे यहां पर लेकर आए और कोर्ट में उसके बयान करवाए। यह दिए लड़की ने बयान

मजिस्ट्रेट के सामने लड़की ने बयान दिए कि वह किसी पर कार्रवाई नहीं कराना चाहती। उसने कालका में नबील से निकाह किया था। सुरक्षा के लिए चंडीगढ़ हाईकोर्ट में अर्जी लगाई थी, लेकिन दस्तावेजों में कमी होने की वजह से आगे की तारीख मिल गई। इस दौरान वह चंडीगढ़ होटल में रूके और अमृतसर भी गए। 17 जून को वह कोर्ट में अपने अधिवक्ता के पास जा रहे थे, तभी परिजन व अन्य उसे अपने साथ ले गए। इसके बाद वह पौंटा साहिब से बिहारीगढ़ आ गई और पुलिस उसे यहां ले आई। वहीं, सीआइए टू के इंचार्ज का यह भी कहना है कि लड़की ने जो दस्तावेज दिए हैं, वह एकत्र कर रहे हैं। हमें इन दस्तावेजों पर शक है, क्योंकि हाईकोर्ट में जो दस्तावेज दिए गए थे। उनमें निकाह की तारीख दस जून 2018 है। इस समय में नबील विदेश में था।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस