Move to Jagran APP

Haryana News: पानी पर रार! सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद भी हिमाचल ने दिल्ली के लिए नहीं छोड़ा अतिरिक्त पानी

सुप्रीम कोर्ट ने तीन दिन पहले हिमाचल प्रदेश को 137 क्यूसिक अतिरिक्त पानी छोड़ने के निर्देश दिए थे। ये पानी हरियाणा के रास्ते दिल्ली पहुंचाने के निर्देशित था। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद भी हिमाचल प्रदेश ने 137 क्यूसिक पानी अभी तक नहीं छोड़ा है। इसको लेकर हरियाणा के मुख्य सचिव ने हिमाचल प्रदेश के मुख्य सचिव से बात की है।

By Jagran News Edited By: Deepak Saxena Published: Mon, 10 Jun 2024 03:05 PM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 03:05 PM (IST)
सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद भी हिमाचल ने दिल्ली के लिए नहीं छोड़ा अतिरिक्त पानी।

जागरण टीम, चंडीगढ़/यमुनानगर। दिल्ली के लोगों की प्यास बुझाने के लिए अभी तक हिमाचल प्रदेश ने 137 क्यूसिक पानी भेजना आरंभ नहीं किया है। सुप्रीम कोर्ट ने तीन दिन पहले हिमाचल प्रदेश को पूर्व में छोड़े जा रहे पानी से अतिरिक्त 137 क्यूसिक पानी हरियाणा के रास्ते दिल्ली पहुंचाने के निर्देश दिए थे। हरियाणा के मुख्य सचिव टीवीएसएन प्रसाद ने हिमाचल प्रदेश से मिलने वाले पानी में हो रही देरी पर वहां के मुख्य सचिव से वार्ता की है।

सिंचाई विभाग ने मांगी हिमाचल से जानकारी

उन्होंने कहा कि जब वे दिल्ली के लिए पानी छोड़ें तो हरियाणा को अवगत करा दें, जिससे विभिन्न स्थानों पर टीम यह जांच कर सके कि पानी पूरा छोड़ा गया है या नहीं। टीवीएसएन प्रसाद ने कहा है कि हम दिल्ली को पानी सुरक्षित तरीके से पहुंचाने के लिए कटिबद्ध हैं। सभी प्रमुख गेज सेंटरों पर अपने अधिकारी तैनात कर दिए हैं। हिमाचल प्रदेश की ओर से जितना पानी उपलब्ध कराया जाएगा, वह नाप में आ जाएगा और पश्चिमी यमुना नहर के माध्यम से वजीराबाद चैनल के जरिये दिल्ली को पानी पहुंचा देंगे।

प्रसाद ने कहा कि हिमाचल के मुख्य सचिव से शनिवार को बात हुई थी। तब तक ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं थी कि पानी छोड़ दिया गया है। वहीं, सिंचाई विभाग, यमुनानगर के एक्सईएन विजय गर्ग ने बताया कि हिमाचल प्रदेश से अभी पानी नहीं छोड़ा गया है। यह भी स्पष्ट नहीं है कि हिमाचल प्रदेश की किस जगह से पानी छोड़ा जाएगा। इसके लिए हमने पत्र लिखकर जानकारी मांगी है।

हथनीकुंड बैराज पर बहाव की स्थिति

हथनीकुंड बैराज से यमुना नदी, पश्चिमी यमुना नहर, पूर्वी यमुना नहर में पानी का डायवर्जन होता है। बैराज पर जल बहाव 70 हजार क्यूसिक से ज्यादा होने पर सभी गेट खोल दिए जाते हैं। रविवार को यहां पानी का बहाव 2264 क्यूसिक रहा। इसमें से 352 क्यूसिक पानी यमुना नदी, 1694 क्यूसिक पश्चिमी यमुना नहर, 218 क्यूसिक पूर्वी यमुना नहर में बह रहा है।

761 क्यूसिक पानी दिल्ली का है, जोकि पश्चिमी यमुना नहर के माध्यम से करनाल के मुनक पानीपत और सोनीपत से होते हुए दिल्ली जाता है। नहरों में बहाव घटता-बढ़ता रहता है। सुबह बहाव कम होता है क्योंकि हिमाचल में पन बिजली इकाइयां चलाने के लिए पानी रोक लिया जाता है।

ये भी पढ़ें: Haryana News: बीजेपी सरकार को बर्खास्त करने के लिए दबाव बनाएंगे कांग्रेस विधायक, राज्यपाल से करेंगे राष्ट्रपति शासन की मांग

300 क्यूसिक अधिक पानी उपलब्ध करा रहा हरियाणा

मुख्यमंत्री सैनी ने दिल्ली सरकार हमेशा पानी के मुद्दे पर सभी को गुमराह करती है। जल समझौते में दिल्ली को 750 क्यूसिक पानी का आवटन किया गया है, लेकिन हरियाणा 300 क्यूसिक अधिक यानी 1050 क्यूसिक पानी उपलब्ध करा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली व पंजाब दोनों जगह आम आदमी पार्टी की सरकार है। ये दोनों सरकारें मिलकर हरियाणा को एसवाईएल का पानी दे दें तो उससे न केवल हरियाणा की प्यास बुझेगी, बल्कि हम दिल्ली को भी अतिरिक्त पानी दे सकेंगे। कहा कि हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है। आप और कांग्रेस दोनों एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं।

ये भी पढ़ें: Haryana Weather Update: भीषण गर्मी के प्रकोप से आमजन लाचार, पारा पहुंचा 42 पार; बिजली-पानी का संकट भी मंडराया


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.