Move to Jagran APP

Haryana News: 'IAS बनने की बात पर दोस्तों ने उड़ाया था मजाक...', हेमंत पारिक ने UPSC क्रैक कर दिया करारा जवाब

Haryana News हेमंत पारिक (Hemant Pareek) ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर अपने परिवार का नाम रोशन किया। हेमंत ने बताया कि वह गांव बीरान के एक साधारण परिवार से संबंध रखते हैं। उसने एग्रीकल्चर में ग्रेजुएशन की है। सहपाठियों के साथ एक चर्चा दौरान जीवन में कुछ बनने की बात चली तो मैंने आइएएस बनने की बात कह दी।

By Surender Kumar Edited By: Himani Sharma Fri, 26 Apr 2024 04:26 PM (IST)
हेमंत पारिक ने UPSC क्रैक कर दिए सफलता के टिप्‍स

जागरण संवाददाता, डबवाली। अगर मन में कुछ कर दिखाने का जज्बा हो तो कड़ी मेहनत से कोई भी मुकाम हासिल किया जा सकता है। राजस्थान में भादरा क्षेत्र के एक छोटे से गांव बीरान के हेमंत पारीक ने यूपीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण कर इसे साबित किया है। हेमंत ने परीक्षा में 884वां रैंक हासिल कर अपने गांव व परिवार का नाम रोशन किया है।

गुरुवार शाम को हेमंत जब डबवाली में हरियाणा बीज विकास निगम के चेयरमैन देव कुमार शर्मा के निवास पर पहुंचे तो वहां जुटे शहर के लोगों ने उनका अभिनंदन किया। इस मौके पर हेमंत पारीक ने सभी को अपनी सफलता की कहानी खुद सुनाई।

साधारण परिवार से संबंध रखते हैं हेमंत

हेमंत ने बताया कि वह गांव बीरान के एक साधारण परिवार से संबंध रखते हैं। उसने एग्रीकल्चर में ग्रेजुएशन की है। सहपाठियों के साथ एक चर्चा दौरान जीवन में कुछ बनने की बात चली तो मैंने आइएएस बनने की बात कह दी। इस पर जब उसका मजाक उड़ाया गया तो मैंने उसे चैलेंज के रूप में लेकर यूपीएससी की परीक्षा के लिए मेहनत करनी शुरू कर दी। इसी का नतीजा है कि मैं अनेक तरह की दिक्कतों की बावजूद यूपीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण करने में सफल रहा।

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election: 'हरियाणा में कांग्रेस और BJP के बीच सीधी टक्‍कर', भूपेंद्र हुड्डा ने अन्‍य दलों को बताया 'वोट काटू'

यूपीएससी की परीक्षा पास कर दी मिसाल

हरियाणा बीज विकास निगम के चेयरमैन देव कुमार शर्मा ने कहा कि हेमंत ने मेहनत के बल पर यूपीएससी की परीक्षा पास कर एक मिसाल कायम की है। हेमंत ने साधारण परिवारों के बच्चे को जीवन में सफलता पाने की राह दिखाई है कि वे भी आइएएस, आइपीएस बनने का सपना देखकर उसे अपनी मेहनत से साकार कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Election 2024: रोचक है इस सीट का इतिहास, लगातार दो बार हारने के बाद प्रत्याशी ने बनाया था जीत का रिकॉर्ड

इस मौके पर जनस्वास्थ्य विभाग के पूर्व चीफ इंजीनियर केके वर्मा, बलदेव सिंह मांगेआना, विजय वधवा, शाम लाल जिंदल, प्रवीण सिंगला, संजीव शाद, डा. विवेक करीर, सुदर्शन मित्तल, मुकंद लाल सेठी, लवली आशु, संजय मिड्ढा, प्रीती बांसल, अश्विनी बांसल, संजय, शिव सचदेवा शंभु, दीपक बांसल, रिंकु, सदीप गर्ग, मुकेश गोयल, पंकज मोंगा, इंद्र शर्मा, चाणक्य पारीक, उद्यन शर्मा, इंजीनियर दिव्य मिड्ढा, भजन लाल जोशी, पुलकित जिंदल मौजूद थे।