चंडीगढ़, जेएनएन/एएनआइ। कोरोना संकट को बढ़ाने वाले तब्‍लीगी जमातियों से निपटने में जुटी हरियाणा सरकार के लिए दिल्‍ली के कर्मचारी चिंता के कारण बन गए हैं। ऐसे में हरियाणा सरकार ने दिल्ली से सटी अपने प्रदेश की सीमाएं सील करने के बाद वहां की सरकार से बात की है। दरअसल हरियाणा में दिल्‍ली के कई कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं और दूसरे लाेगों में भी उनके कारण इस वायरस का संक्रमण फैला है। हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि ये कर्मचारी दिल्‍ली से कोरोना लाकर हरियाणा में बांट रहे हैं।

तब्लीगी जमातियों के बाद चिंता बढ़ा रहे दिल्ली के कर्मचारी, विज ने पास देने पर नाराजगी जताई

अनिल विज ने साेमवार को कहा,  दिल्‍ली में काम करने वाले का काफी कर्मचारी हरियाणा में रहते हैं। ये लोग दिल्‍ली से हरियाणा में कोरोना के वाहक बन गए हैं। मैंने दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल से अपील की है कि वे इन कर्मचारियों के दिल्‍ली में ही ठहरने की व्‍यवस्‍था करें। दिल्‍ली को अपने यहां कार्य करने वालों के लिए अपने यहां व्‍यवस्‍था करनी चाहिए। दिल्‍ली ऐसे लोगों को हरियाणा में आने के लिए यात्रा पास जारी न करे। इस कारण हरियाणा में कोरोना वायरस COVID-19 के केस बढ़ रहे हैं।

हरियाणा ने की दिल्ली से सटी सीमाएं सील, मुख्य सचिव ने दिल्ली के मुख्य सचिव से बात की

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज के निर्देश पर मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने दिल्ली के मुख्य सचिव से बात कर धड़ाधड़ बांटे जा रहे पास पर कड़ी नाराजगी भी जताई है। हरियाणा ने दिल्ली से कहा है कि पुलिस कर्मियों और सरकारी विभागों के कर्मचारियों की आवाजाही से प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मरीज बढ़ रहे हैं। इसलिए न तो नए पास जारी किए जाएं और न ही किसी कर्मचारी को आवाजाही की अनुमति प्रदान की जाए।

हरियाणा पहले तब्लीगी जमातियों के चोरी छिपे भर जाने से परेशान था। अब दिल्ली में नौकरी करने वाले हरियाणा के कर्मचारियों की आवाजही ने प्रदेश सरकार की चिंता बढ़ा दी है। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज पहले ही दिल्ली सरकार की इस ढिलाई पर नाराजगी जता चुके हैं। सोनीपत में 13 केस ऐसे सामने आए हैं, जो दिल्ली से संक्रमित हुए हैं। पानीपत में इनकी संख्या चार हो गई।

सोनीपत का जो पुलिसकर्मी दिल्ली में काम करता है, वह वहीं से संक्रमित होकर आया। उसकी बहन समालखा थाने में एसआई है। वह भी कोरोना संक्रमित हो गई, जिसकी वजह से उनके परिवार के बाकी दो सदस्य भी संक्रमित हो गए। हरियाणा सरकार को समालखा थाने के सत्तर पुलिस कर्मचारियों व तमाम स्टाफ को क्वारंटाइन करना पड़ा है।

प्रधानमंत्री के सामने पेश होगी पूरी रिपोर्ट, केंद्र ने की हरियाणा की तारीफ, लॉकडाउन खुलने की संभावना नहीं

अनिल विज ने बताया कि हरियाणा के हजारों कर्मचारी और पुलिस बल दिल्ली में काम करता है। उन्हें वहीं पर रोके रखे जाने की व्यवस्था की जानी चाहिए। विज के अनुसार मुख्य सचिव ने हरियाणा सरकार की बात रख दी है। अभी वहां से कोई जवाब नहीं आया है। यदि दिल्ली सरकार कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने में हरियाणा का कोई सहयोग नहीं करती तो अगली कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। इस बारे में केंद्र सरकार को सूचित किया जाएगा।

एक सवाल के जवाब में अनिल विज ने कहा कि अभी सरकारी अस्पतालों में ओपीडी खोलने का कोई इरादा नहीं है, क्योंकि इससे संक्रमण फैलने का खतरा बना रहेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में इस समय आठ लैब चल रही हैं। चार लैब और खुल सकती हैं। हर रोज करीब तीन हजार टेस्ट हो रहे हैं। अभी तक 21 हजार टेस्ट हो चुके हैं।

अनिल विज ने एक सवाल के जवाब में बताया कि सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ होने वाली राज्यों की वीडियो कांफ्रेंस में पूरी रिपोर्ट पेश की जाएगी। केंद्र की ओर से अभी तक प्रदेश को 75 करोड़ रुपये की राहत राशि मिल चुकी है। उन्होंने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना संक्रमित मरीजों की रिकवरी के मामले में हरियाणा को देश के टाप तीन राज्यों में शामिल करते हुए सरकार के कामकाज की तारीफ की है। उन्होंने संभावना जताई कि तीन मई को लाॅकडाउन खुलने की उम्मीद नजर नहीं आ रही है।

यह भी पढ़ें: पंजाब में कोराना से 18वीं मौत, नौ और पॉजिटिव मरीज मिले, कुल केस 322 हुए

 

यह भी पढ़ें: मरीज और बीमारी की हिस्ट्री सब फर्जी, एंबुलेंस से दूसरे राज्यों में भेजे जा रहे श्रमिक


यह भी पढ़ें: रेलवे का बड़ा कदम: अब ऑनलाइन रेल टिकट बुकिंग पर रोक, सिर्फ टिकट रद करा सकेंगे


यह भी पढ़ें: चौटाला परिवार में हरियाणा में शराब ठेकों पर छिड़ा घमासान, दुष्‍यंत व अजय की अभय से भिड़ंत


पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप