करनाल, [पवन शर्मा]। लॉकडाउन के बीच सीएम सिटी करनाल में अजीबोगरीब दृश्‍य देखने को मिला। शहर में सड़क के किनारे एक डॉक्‍टर अपनी नवविवाहित पत्‍नी के साथ ठेले पर चाय बनाकर बेच रहे हैं। जो भीयह देखता है वहां ठिठक जाता है। यह  है डॉ. गाैरव शर्मा। वह एक निजी अस्‍पताल में डॉक्‍टर थे। उन्‍होंने अपनी दो माह की बकाया सैलरी मांगी तो उनका पहले तबादला किया गया और विरोध करने पर नौकरी से ही निकाल दिया गया।

डॉ. गौरव शर्मा एक निजी कंपनी द्वारा संचालित अस्पताल में नौकरी कर रहे थे। आरोप है कि उनको दो माह की सैलरी नहीं दी गई और सैलरी मांगने पर नौकरी से निकाल दिया गया।  इससे परेशान डा. गौरव शर्मा ने नवविवाहिता पत्नी के साथ चाय का ठेला लगा दिया। अस्पताल की ड्रेस पहनकर सेक्टर-13 में उन्होंने ठेले पर चाय बनाकर लोगों को दी। यहां से आने-जाने वाले लोगों ने उनके साथ हुई घटना की जानकारी ली तो भीड़ जुट गई। उन्होंने सरकार से संबंधित कंपनी के खिलाफ कार्यवाही की मांग की।

जानकारी के मुताबिक डा. गौरव शर्मा सेक्टर-13 स्थित प्राइवेट कंपनी के अस्पताल में आरएमओ के पद पर तैनात थे। वह आइसीयू का काम देखते थे। आरोप है कि फरवरी व मार्च में कंपनी की ओर से सैलरी नहीं दी गई। फिलहाल डा. गौरव को एक माह लीव विदआउट पे पर रहने को कहा था। लेकिन इसे उन्होंने स्वीकार न‍हीं किया।

डॉ. गौरव का कहना है कि उन्‍होंने कंपनी मुख्यालय में इस बारे बातचीत की, लेकिन बात नहीं सुनी गई। वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्क किया तो उनका ट्रांसफर गाजियाबाद कर दिया। विवाद बढ़ गया तो उनको नौकरी से निकाल दिया गया। इससे आहत डाॅ. गौरव ने हरियाणा के सीएम विंडो पर भी शिकायत की लेकिन न्याय न मिलता देख उन्‍होंने अस्‍पताल के सामने ही ठेले पर चाय बेचने लगे। शनिवार को अपनी पत्‍नी के साथ सेक्टर-13 में सुबह एक रेहड़ी लेकर आए और चाय बेचने लगे। 

डॉ. नीरज शर्मा ने अस्पताल के समीप ही ठेला लगा लिया और नवविवाहित पत्‍नी के साथ चाय बनाकर लोगों को सर्व की। विरोध के इस अनूठे तरीके को लेकर लोग हैरान रह गए। डाॅ. गौरव शर्मा ने बताया कि बीते दिसंबर में उनकी शादी हुई थी। उनकी पत्‍नी भी साथ में चाय बना रही हैं।

कंपनी के यूनिट हेड ने कहा- लाॅकडाउन के कारण सैलरी देने में आ रही हैं दिक्‍कत

कंपनी की करनाल यूनिट के हेड ने कहा कि लॉकडाउन में सैलरी देने में दिक्कतें आ रही हैं। डाॅ. गौरव ने जो स्टेटमेंट दी है, वह ठीक नहीं है। वह कई बार गैरकानूनी काम करते पाए गए, जिसे लेकर तीन-चार नोटिस जारी कर चेतावनी दी जा चुकी है। कंपनी के सीनियर अधिकारी उनसे मिलने गए लेकिन डाॅ. गौरव शर्मा ने मिलने से मना कर दिया। कोई मामला है तो वह बैठकर ही सुलझाया जा सकता है। दूसरी तरफ, श्रम विभाग के अधिकारियों ने मामले में फिलहाल आधिकारिक रूप से कुछ कहने से इन्‍कार कर दिया लेकिन इतना अवश्य बताया कि उच्च स्तर से आदेश मिले तो जांच की जा सकती है।  

----------------

'' इस बारे में मेरे पास शिकायत आई है। इस संबंध में कुछ कहना जल्दबाजी होगी। यह जांच का विषय है। जांच पूरी होने के बाद ही इस विषय को स्पष्ट कर सकूंगा।

                                                                                             - डाॅ. अश्विनी आहुजा, सिविल सर्जन।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस