संवाद सूत्र, जुलाना : स्थानीय रेलवे स्टेशन पर गोग्रास सेवा समिति के पदाधिकारी रेल यात्रियों को शीतल जल पिलाकर पूरे प्रदेश में पहचान बना चुके हैं। रोज रेलवे स्टेशन पर चार सौ कैंपर पानी यात्रियों को पिलाया जाता है। यात्रियों को भाग कर रेल में पानी पिलाते हैं और बोतलों को भरते हैं, ताकि यात्रियों को रास्ते में कोई परेशानी ना हो सके, लेकिन रोज दोपहर के समय रेलवे स्टेशन पर मालगाड़ी क्रॉसिग को लेकर रुक जाती है और समिति के सदस्यों को प्लेटफार्म दो पर जाने के लिए रेल के नीचे से गुजरना पड़ता है।

जुलाना में पानी पिलाने के नाम पर समिति के सदस्य पूरे प्रदेश में एक अनोखी सेवा भावना की छाप छोड़ रहे हैं, लेकिन मालगाड़ी के नीचे से गुजरना उनके लिए खतरे से खाली नहीं है। मार्च में जुलाना के लोगों ने जुलाना रेलवे स्टेशन पर आए जीएम से मांग की थी कि रेलवे स्टेशन पर फुटओवर ब्रिज बनाया जाए, लेकिन आज तक ब्रिज बनाने का काम ठंडे बस्ते में पड़ा है। जीएम ने आश्वासन दिया था कि आचार संहिता के हटने के बाद जुलाना रेलवे स्टेशन पर ब्रिज बनाया जाएगा। समिति के सदस्यों की मांग है कि स्टेशन पर ब्रिज बनाया जाए या फिर जुलाना रुकने वाली मालगाड़ी को क्रॉसिग के लिए किलाजफरगढ़ के रेलवे स्टेशन पर रोका जाए।

----------------------------------

मार्च में जुलाना स्टेशन पर निरीक्षण करने पहुंचे रेलवे जीएम से मांग की गई थी कि रेलवे स्टेशन पर फुटओवर ब्रिज बनाया जाए ताकि यात्रियों को किसी प्रकार की कोई परेशानी ना हो सके। इसके अलावा लाइनपार के वार्ड 12 और 13 के सैकड़ों बच्चे भी फुटओवर ब्रिज न होने के कारण रेल के नीचे से ही गुजरने पर मजबूर होते हैं। कस्बे के लोगों की मांग है कि जल्द जुलाना के रेलवे स्टेशन पर फुटओवर ब्रिज बनाया जाए।

-रमेश जिदल, प्रधान किरयाना एसोसिएशन, जुलाना

-------------------------------------

कस्बे के लोगों ने जीएम को ओवरब्रिज बनाने के लिए मांग पत्र सौंपा था, लेकिन इसको बनाने में अभी एक साल का समय ओर लगेगा। मांगपत्र पर अभी तक कोई कार्य नहीं किया गया है।

-रामफल स्टेशन मास्टर, जुलाना।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Edited By: Jagran