झज्जर, (विज्ञप्ति) : सीएमजीजीए कार्यक्रम के प्रोजेक्ट डायरेक्टर व सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक डा. अमित अग्रवाल ने कहा कि सुशासन सहयोगी कार्यक्रम के जरिए सरकारी सेवाओं की सुगमता बढे़गी। अमित अग्रवाल ने कहा कि योजनाओं को मूर्तरूप देने में सीएमजीजीए उल्लेखनीय भूमिका निभा रहे हैं, लेकिन हमें आने वाली चुनौतियों के लिए भी तैयार रहना होगा। वे वीरवार को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से झज्जर सहित राज्य के अन्य जिलों के जिला उपायुक्तों के साथ आनलाइन सेवाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने वीसी में पीसी-पीएनडीटी एक्ट, एमटीपी एक्ट, पोक्सो अधिनियम, सीएम विण्डो, एसएमजीटी, अंत्योदय सरल केंद्र, सक्षम हरियाणा के तहत की जाने वाली गतिविधियों की जिलावार समीक्षा की।

वीडियों कांफ्रेंस में डा. अमित अग्रवाल ने ई-ऑफिस सहित अन्य ऑनलाइन सेवाओं में जिला झज्जर की सराहना भी की। परिवार पहचान पत्र, वेलफेयर स्कीम और मेरी फसल मेरा ब्यौरा की भी समीक्षा हुई। अग्रवाल ने बताया कि इस बात से सुशासन सहयोगी मेरी फसल मेरा ब्यौरा कार्यक्रम को भी जमीनी स्तर तक लागू कराने में सहयोग करेंगे। डीसी श्याम लाल पूनिया ने जिला की विभिन्न गतिविधियों की जानकारी दी। ई-आफिस में झज्जर पूरे हरियाणा में पहले स्थान पर है। इसके साथ-साथ बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं कार्यक्रम के तहत भी जिला प्रदेश के लिगानुपात को बढ़ाने में सकारात्मक भूमिका निभा रहा है। इसके अलावा सरल केंद्रों के माध्यम से भी सरकार की सभी सेवाएं आमजन तक आसानी से पहुंच सके इसके लिए भी जिला प्रशासन प्रयासरत हैं।

डीसी ने वीडियों कांफ्रेंस के बाद अधिकारियों की बैठक ली। जिसमें उन्होंने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जिला में जिन गांवों में लिगानुपात की दर कम आ रही है। उन गांवों में पीएनडीटी एक्ट का सख्ती से पालन किया जाए। साथ ही शिक्षा विभाग ने नेशनल एचीवमेंट सर्वें की तैयारियों की रिर्पोट जल्दी से दें।

इस अवसर पर एसीपी विक्रांत भूषण, एसडीएम झज्जर शिखा, एसडीएम बादली विशाल कुमार, एसडीएम बहादुरगढ़ भूपेंद्र सिंह, सीटीएम रेणुका नांदल, सीएमजीजीए तान्या जैन, डीआरओ बस्ती राम, डीआईपीआरओ राजन शर्मा व उपनिदेशक कृषि डा. इंद्र सिंह सहित संबंधित विभागों के अधिकारीगण मौजूद रहे।

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट