जागरण संवाददाता, हिसार : प्रधानमंत्री फसल योजना में बीमा कंपनी की तरफ से किसानों से धोखाधड़ी करके अरबों रुपये हड़पने, बीमा कंपनी एवं बैंकों पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करने, सरकारी गिरदावरी अनुसार किसानों को मुआवजा दिया जाए। गेहूं की पूरी खरीद, उठान और भुगतान, नहरों में पानी छोड़ना व पशुओं के लिए जोहड़ों में पानी भरने की मांग को लेकर जिला किसान सभा का उपायुक्त कार्यालय पर शुरू हुआ अनिश्चितकालीन धरना चौथे दिन में प्रवेश कर गया। किसान सभा के प्रेस सचिव सूबेसिंह बूरा ने बताया कि किसान नेता कृष्ण कुमार सावंत व राजीव मलिक की संयुक्त अध्यक्षता में किसानों ने धरना दिया। मंच संचालन जिला सचिव सतबीर धायल ने किया। किसानों को संबोधित करते हुए जिला प्रधान शमशेर सिंह नंबरदार ने कहा कि वर्तमान सरकार व जिला प्रशासन ने भ्रष्टाचारियों को बचाने के लिए राखी शाहपुर में धरने पर बैठे किसानों पर जो मुकदमें दर्ज किए हैं। पैक्स के अधिकारियों पर किसानों की लूट का मुकदमा दर्ज हो, किसानों की फसल का पूरा मुआवजा दिलवाया जाए। उन्होंने प्रशासन को चेतावनी दी है कि अगर बैंक पैक्स के अधिकारियों पर लूट एवं डाके का केस दर्ज नहीं होगा तो यह आंदोलन पूरे जिले का आंदोलन होगा और उपमंडल अधिकारी का घेराव किया जाएगा। जिला सचिव सतबीर धायल ने कहा कि किसानों द्वारा मुआवजा व पानी की मांग के अतिरिक्त अपने हकों की लड़ाई भी लड़ी जा रही है। धरने को बारुराम मुकलान, विरेंद्र बगला, रतन सिंह मात्रश्याम, बलजीत सरसाना, सुरेश सिवर मोड़ाखेड़ा, किशोरी लाल गंगवा, अजीत सिंह, रूपा कड़वासरा, सुनील पृथ्वीसिंह गोरखपुरिया, रामफल, बजरंग, संतलाल, अजीत सिंह पूनिया आदि ने संबोधित किया।

Edited By: Jagran