Move to Jagran APP

Surat: '2017 और 2022 में मिला था भाजपा में शामिल होने का ऑफर', उम्मीदवारी रद्द होने के बाद पहली बार सामने आए नीलेश कुंभानी

Surat Lok Sabha Seat सूरत लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार नीलेश कुंभानी ने नामांकन रद्द होने के बाद पहली बार सामने आए हैं। उन्होंने कांग्रेस के स्थानीय नेताओं पर जमकर हमला बोला है। कहा कि कांग्रेस के प्रमुख नेता मेरे साथ गाड़ी में बैठने तक को तैयार नहीं थे। उन्होंने आगे कहा कि मेरे साथ कोई चुनाव प्रचार में भी शामिल नहीं हुआ।

By Jagran News Edited By: Sonu Gupta Fri, 26 Apr 2024 07:21 PM (IST)
Surat: '2017 और 2022 में मिला था भाजपा में शामिल होने का ऑफर', उम्मीदवारी रद्द होने के बाद पहली बार सामने आए नीलेश कुंभानी
नीलेश कुंभानी ने कांग्रेस पर साधा निशाना। फाइल फोटो।

जागरण न्यूज नेटवर्क, सूरत। सूरत लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार नीलेश कुंभानी ने नामांकन रद्द होने के बाद पहली बार सामने आए हैं। एक वीडियो के माध्यम से उन्होंने कांग्रेस के स्थानीय नेताओं पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के प्रमुख नेता मेरे साथ गाड़ी में बैठने तक को तैयार नहीं थे। उन्होंने आगे कहा कि मेरे साथ कोई चुनाव प्रचार में भी शामिल नहीं हुआ।

दो बार भाजपा ने दिया ऑफरः नीलेश

उन्होंने दावा किया कि साल 2017 में जब मेरा टिकट काटा गया था, उस दौरान मुझे भाजपा में शामिल होने का ऑफर मिला था। उन्होंने आगे कहा कि भाजपा ने निर्दलीय चुनाव लड़ने और कांग्रेस के खिलाफ बयान देने को कहा था, लेकिन मैंने पार्टी के अहित में एक भी बयान नहीं दिया। उन्होंने आगे कहा कि साल 2022 के विधानसभा चुनाव में भी भाजपा ने एक बार फिर से मुझे ऑफर दिया।

कई लोगों ने प्रस्ताव किया स्वीकार

नीलेश कुंभानी ने आगे दावा किया कि भाजपा ने इसके साथ मुझसे चुनाव अभियान को धीमा करने को भी कहा। उन्होंने आगे कहा कि हमारे कई सहयोगी भाजपा के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और अपना अभियान धीमा कर दिया। उन्होंने आगे कहा कि सहयोगी अपने रिश्तेदारों को भी बीजेपी को वोट देने के लिए मनाते थे।

आप के नेताओं के साथ किया प्रचार

उन्होंने आगे कहा कि जब हमने आम आदमी पार्टी के नेताओं को मंच पर बिठाकर प्रचार किया तो कांग्रेस नेताओं ने ही विरोध करना शुरू कर दिया। और कहा कि आप अपने नेताओं को एक साथ क्यों रख रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि उस समय मैं उन्हें समझाता था कि हम भारत गठबंधन में हैं और हमें आम आदमी पार्टी के नेताओं को एक साथ रखना चाहिए।

यह भी पढ़ेंः पाकिस्तानी लड़की में अब धड़केगा हिंदुस्तानी दिल, आर्थिक तंगी के बाद भी डॉक्टरों ने ऐसे किया सफल हृदय प्रत्यारोपण

यह भी पढ़ेंः Weather Update: भीषण लू से मिलेगी राहत, अगले चार दिनों तक इन राज्यों में होगी झमाझम बारिश; IMD का नया अलर्ट जारी