मुंबई। आयुष्मान खुराना की 'बधाई हो' ने 2 नवंबर को 16 दिनों का सफ़र पूरा कर लिया और लगभग ₹96 करोड़ बॉक्स ऑफ़िस कलेक्शन कर चुकी है। नई फ़िल्मों की रिलीज़ का भी 'बधाई हो' की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ा है और अपनी रफ़्तार से दौड़ रही है और अब 100 करोड़ क्लब की दहलीज़ पर खड़ी है।

अमित आर शर्मा निर्देशित 'बधाई हो' साल 2018 की उन फ़िल्मों में शामिल है, जिन्होंने अपने कंटेंट के दम पर अपनी साख बनायी और धाक जमायी है। फ़िल्म 2 नवंबर को तीसरे हफ़्ते में दाख़िल हो गयी है। तीसरे शुक्रवार को बधाई हो ने 2.35 करोड़ का कारोबार किया और इसके साथ ही इसका 16 दिनों का कलेक्शन 96.60 करोड़ हो चुका है। फ़िल्म को 100 करोड़ करने के लिए अब बस ₹3.40 करोड़ ही चाहिए, जो इस वीकेंड में ही निश्चित रूप से मिल जाएगा। आमिर ख़ान की 'ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान' रिलीज़ होने से पहले 'बधाई हो' 100 करोड़ का पड़ाव पार कर चुकी होगी। ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान 8 नवंबर को रिलीज़ हो रही है। वैसे तो 2 नवंबर को भी कुछ कम बजट की फ़िल्में रिलीज़ हुई हैं, लेकिन बधाई हो पर इसका असर नहीं पड़ा। ग़ौरतलब है कि बीते शुक्रवार (26 अक्टूबर) को भी 'बधाई हो' के सामने 4 नई फ़िल्मों बाज़ार, काशी- इन सर्च ऑफ़ गंगा, दशहरा और 5 वेडिंग्स की चुनौती थी, मगर 'बधाई हो' को किसी चुनौती का सामना नहीं करना पड़ा था। 

दूसरे हफ़्ते में 28.15 करोड़

26 अक्टूबर (शुक्रवार) को बधाई हो की रिलीज़ का दूसरा हफ़्ता शुरु हो गया, क्योंकि फ़िल्म गुरुवार (18 अक्टूबर) को रिलीज़ हुई थी, जिसकी वजह से पहले हफ़्ते को एक दिन का विस्तार मिला था। दूसरे शुक्रवार को फ़िल्म ने ₹3.40 करोड़ जमा किये। शनिवार को आंकड़ों में उछाल आया और फ़िल्म ने ₹6.60 करोड़ का कलेक्शन किया, जबकि रविवार को तो फ़िल्म ने ग़ज़ब ही कर दिया और ₹8.15 करोड़ का कलेक्शन कर लिया, जो इसके ओपनिंग कलेक्शन से भी अधिक है। सोमवार को फ़िल्म के कलेक्शंस में गिरावट आयी, फिर भी ₹2.60 करोड़ जमा कर ही लिये और मंगलवार को फ़िल्म का कलेक्शन ₹2.50 करोड़ रहा, जबकि बुधवार को फ़िल्म ने 2.35 करोड़ जमा किये। गुरुवार को फ़िल्म ने 2.55 करोड़ जमा किये और इसके साथ ही फ़िल्म का 15 दिनों का कलेक्शन 94.25 करोड़ हो गया है। 

पहले हफ़्ते में जमा किये ₹66 करोड़

यह भी पढ़ें: Top 10 ओपनिंग वीकेंड लिस्ट में बधाई हो की एंट्री, यह फ़िल्म हुई बाहर

तय तारीख़ से एक दिन पहले 18 अक्टूबर को रिलीज़ हुई 'बधाई हो' ने ₹7.35 करोड़ की ओपनिंग ली थी, हालांकि ट्रेड के जानकारों ने ₹5-6 करोड़ का ही अनुमान लगाया था। दूसरे दिन यानि 19 अक्टूबर को दशहरे की छुट्टी में 'बधाई हो' के लिए दर्शक सिनेमाघरों में टूट पड़े और शुक्रवार को ₹11.85 करोड़ का कलेक्शन हुआ, जो ओपनिंग के मुकाबले तकरीबन 60 फीसदी का उछाल था। आंकड़ों की यह बढ़त रिलीज़ के तीसरे दिन यानि शनिवार को जारी रही और 'बधाई हो' ने ₹12.80 करोड़ का कलेक्शन किया। रविवार को 'बधाई हो' को ₹13.70 करोड़ मिले और इसके साथ ही 4 दिन लंबे ओपनिंग वीकेंड में फ़िल्म ने ₹45.70 करोड़ का शानदार कलेक्शन कर लिया था।

22 अक्टूबर (सोमवार) को वर्किंग वीक शुरू हो गया, फिर भी बधाई हो ने ₹5.65 करोड़ का कलेक्शन किया था। पहले सोमवार का टेस्ट पास करने के बाद 23 अक्टूबर (मंगलवार) को भी फ़िल्म ने ₹5.50 करोड़ जमा किये। 24 अक्टूबर (बुधवार) को बधाई हो ने ₹5 करोड़ का कलेक्शन किया था। वहीं, गुरुवार को ₹4.25 करोड़ का कलेक्शन किया। इसके साथ पहले हफ़्ते (आठ दिन) में फ़िल्म का नेट कलेक्शन ₹66.10 करोड़ हो चुका है।  फ़िल्म का 100 करोड़ क्लब में पहुंचना तय माना जा रहा है। बस देखना यह है कि कितने दिन लगते हैं। 

यह भी पढ़ें: आयुष्मान की 'बधाई हो' समेत इन 6 फ़िल्मों ने बदल दिया बॉक्स ऑफ़िस का गणित

पैरेंटल प्रेग्नेंसी की दिलचस्प कहानी

'बधाई हो' एक मध्यमवर्गीय परिवार की कहानी है, जो एक बेहद सामाजिक मुद्दे को एड्रेस करती है। जवान बच्चों के माता-पिता अगर संतानोत्पत्ति करते हैं, तो इसे हमारे समाज में सही नहीं समझा जाता। तरह-तरह की बातें की जाती हैं, मज़ाक उड़ाया जाता है। शादी की उम्र के बच्चों को ख़ुद यह बात बड़ी अजीब लगती है कि उनके माता-पिता यह क़दम कैसे उठा सकते हैं। बधाई हो ऐसी ही सोच पर मज़ाकिया अंदाज़ में आघात करती है। इस फ़िल्म के नायक आयुष्मान खुराना हैं, जबकि उनके साथ सान्या मल्होत्रा हैं, जिन्होंने आमिर ख़ान की फ़िल्म 'दंगल' से डेब्यू किया था और विशाल भारद्वाज की फ़िल्म 'पटाख़ा' में लीड रोल में नज़र आयीं। 'बधाई हो' में आयुष्मान के माता-पिता के रोल में नीना गुप्ता और गजराज राव हैं। दादी के किरदार में वेटरन एक्टर सुरेखा सीकरी को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। 

बहरहाल, आयुष्मान खुराना के लिए यह जॉनर नया नहीं है। इससे पहले 'शुभ मंगल सावधान' और 'विक्की डोनर' जैसी फ़िल्मों के ज़रिए वो भारतीय समाज में यौन से जुड़ी मान्यताओं और पूर्वाग्रहों को पर्दे पर पेश कर चुके हैं। आयुष्मान ने वक़्त के साथ ख़ुद को बतौर बॉलीवुड एक्टर स्थापित किया है। उनकी फ़िल्म का चयन उनकी सबसे बड़ी ताक़त है। 

यह भी पढ़ें: पिछले 5 सालों में दशहरे पर आयी फ़िल्मों का हुआ ऐसा हाल, पर इस बार बधाई हो

Posted By: Manoj Vashisth

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप