मुंबई। अमिताभ बच्चन और आमिर खान स्टारर फिल्म ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान को एक समय पाइरेट्स ऑफ कैरेबियन जैसी फिल्म बताया जा रहा था जहां समुद्री युद्ध को बड़े ही भव्य तरीके से दिखाया गया लेकिन भारत के ठगों की ये समुद्री लीला उम्मीदों के जहाज के साथ डूब गई और पांचवे दिन फिल्म को बस 5.50 करोड़ रूपये के आसपास की कमाई हुई है।

विजय कृष्ण आचार्य के निर्देशन में बनी इस फिल्म में अमिताभ और आमिर की पहली बार जुगलबंदी दिखाने के साथ कटरीना और फातिमा सना शेख़ जैसे सितारे भी रखे गए लेकिन पहले दिन के दिखावे के बाद बॉक्स ऑफ़िस पर ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के जहाज में जो छेद हुआ वो दिन ब दिन इस फिल्म को डूबोता गया। सोमवार को घरेलू बॉक्स ऑफ़िस पर फिल्म को सिर्फ पांच करोड़ 50 लाख रूपये के आसपास का कलेक्शन हुआ है और तमिल-तेलुगु को मिला कर  50 लाख । यानि ओपनिंग के 50 करोड़ 75 लाख (हिंदी) रूपये से करीब 90 प्रतिशत की गिरावट। भारतीय फिल्मों में इतिहास में करीब मेगा बजट वाली किसी भी फिल्म के साथ ऐसा कभी नहीं हुआ है। फिल्म को अब कुल मिलाकर हिंदी में 124 करोड़ 50 लाख रूपये और तमिल और तेलुगु में चार करोड़ 50 लाख रूपये ( कुल 129 करोड़ रूपये) का कलेक्शन मिला है। फिल्म की  200 या 300 करोड़ तक की कमाई तो भूल ही जाइये 150 करोड़ रूपये तक पहुंचना भी चुनौती होगी।

हाल के वर्षों में ठग्स ऑफ़ हिंदोस्तान पहली ऐसी फिल्म है जिसने डाउनवर्ड्स कलेक्शन यानि लगातार गिरावट का रिकॉर्ड बनाया है। आमतौर पर फिल्म की कमाई जितनी शुक्रवार को होती है उससे अधिक शनिवार और रविवार का कलेक्शन आता है लेकिन ठग्स के मामले में उल्टा हो गया है ।

ठग्स ऑफ हिंदोस्तान को पहले दिन हिंदी, तमिल और तेलुगु को मिला कर 52 करोड़ 25 लाख रूपये का कलेक्शन मिला था

दूसरे दिन तीनों भाषाओं  को मिलकर 29 करोड़ 25 लाख रूपये

तीसरे दिन हिंदी में 22 करोड़ 75 लाख और तमिल-तेलुगु में 75 लाख रूपये की कमाई हुई

चौथे दिन 17 करोड़ 25 लाख  करोड़ रूपये का कलेक्शन मिला

इस फिल्म को हिंदी में करीब 4600 स्क्रीन्स में रिलीज़ किया गया जबकि साऊथ की भाषाओं में 500 से आधिक स्क्रीन्स में और ओवरसीज़ में 2000 स्क्रीन्स में l लेकिन फ़ायदा क्या हुआ ये आंकड़े बता रहे हैं l Thugs Of Hindostan, अंग्रेजों से गुलामी के दौरान संघर्ष करते आज़ाद और एक ठग के बीच की कहानी है। फिल्म में अमिताभ और आमिर खान के अलावा कटरीना कैफ और फातिमा सना शेख़ का भी अहम् रोल हैं।

कहानी 1795 की है, जब ईस्ट इंडिया कंपनी भारत में व्यापार करने आई थी और उस बहाने भारत पर कब्ज़ा करने की मंशा थी l गोरों की गुलामी मंजूर न करने वालों ने इसके ख़िलाफ़ अपने अपने तरीके से आवाज़ उठाई जिसमें से एक आज़ाद/खुदाबक्श (अमिताभ बच्चन) था और उसकी अपनी समुद्री कबीले की फ़ौज l ठग्स ऑफ हिंदोस्तान को इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड का फील देने के लिए इसके स्पेशल इफ़ेक्ट्स पर काफ़ी खर्चा किया गया और इसी कारण फिल्म का बजट प्रचार को छोड़ कर करीब 275 करोड़ रूपये हो गया।

यह भी पढ़ें: Box Office: गिरते गिरते इतने गिर गए ‘ठग्स..’ के कलेक्शन, चौथे दिन बस इतने करोड़

Posted By: Manoj Khadilkar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप