मुंबई। वो रोमांटिक हो तो चांदनी बन जाती है, चुलबुली हो तो चालबाज़। नाचे तो नगीना है। गुस्से में हो तो मॉम बन जाती है और अगर रूठ जाए तो उम्रभर का सदमा दे जाती है। श्रीदेवी चली गयी हैं, लेकिन दिल अभी भी मानने को तैयार नहीं। माने भी कैसे, 54 साल के जीवन में 50 साल तो सिनेमा को ही दिये हैं। 

श्रीदेवी का जन्म तमिलनाडु के शिवाकाशी में 13 अगस्त 1963 को हुआ था। माता-पिता ने उनका नाम श्री अम्मा अयंगर अयप्पन रखा। श्रीदेवी ने अपना करियर बाल कलाकार के रूप में तमिल, तेलुगु, कन्नड़ और मलयालम सिनेमा से शुरू किया था। चार साल की उम्र में श्रीदेवी ने भक्ति फ़िल्म Thunaivan से पर्दे की दुनिया में क़दम रखा था। 12 साल की उम्र में श्रीदेवी ने हिंदी सिनेमा का रुख़ किया। 1975 में आयी फ़िल्म 'जूली' में उन्होंने फीमेल लीड लक्ष्मी की छोटी बहन का किरदार निभाया था।

यह भी पढे़ं: उम्रभर का सदमा देकर अंधेरों में गुम चांदनी, श्रीदेवी के निधन से सकते में बॉलीवुड

1976 में आयी के बालाचंदर की फ़िल्म Moondru Mudichu से बतौर फीमेल लीड श्री की पहली फ़िल्म थी। दक्षिण भारतीय सिनेमा के दिग्गज कमल हासन और रजनीकांत उनके पहले हीरो थे। मुख्य नायिका के तौर पर पहली ही फ़िल्म में अदाकारी से श्रीदेवी ने संकेत दे दिया था कि सितारे का जन्म हो चुका है। सत्तर के दशक में कमल हासन और रजनीकांत के साथ श्रीदेवी ने कई यादगार फ़िल्में कीं। इन सभी फ़िल्मों में श्रीदेवी ने काफ़ी इंटेस किरदार निभाये थे। हिंदी सिनेमा श्रीदेवी को भले ही ग्लैमरस अभिनेत्री के तौर पर याद करता हो, लेकिन तमिल सिनेमा में अपने करियर के शुरुआती दौर में ही उन्होंने कुछ ऐसे किरदार निभा लिये थे, जो उनकी असीमित अभिनय क्षमता की मिसाल बने।

यह भी पढ़ें: चालबाज़ टीम ने श्रीदेवी को श्रद्धांजलि, मैंने सच्चा दोस्त खोया, इंडस्ट्री ने लीजेंड- रजनीकांत

हिंदी सिनेमा में बतौर लीड एक्ट्रेस उनकी शुरुआत 1979 की फ़िल्म 'सोलवां सावन' से हुई। 1983 में श्रीदेवी की 'सदमा' और 'हिम्मतवाला' रिलीज़ हुईं। दोनों फ़िल्में दक्षिण भारतीय फ़िल्मों का रीमेक थीं। सदमा और हिम्मतवाला, श्रीदेवी के सहज और विविधतापूर्ण अभिनय के उदाहरण हैं। अस्सी के दशक में श्रीदेवी मवाली, इंक़िलाब और तोहफ़ा जैसी कामयाब मसाला फ़िल्मों की हीरोइन बनीं। अस्सी का दशक उतर रहा था, मगर हिंदी सिनेमा के दर्शकों के सिर श्रीदेवी की ख़ूबसूरती और अदाकारी का सुरूर चढ़ रहा था।

1986 में आयी म्यूज़िकल थ्रिलर फ़िल्म 'नगीना' में इच्छादारी नागिन के किरदार में श्रीदेवी के डांसिंग स्किल्स ने उनका नाम घर-घर में पहुंचा दिया। इस वक़्त तक हिंदी सिनेमा के दर्शक  भूल चुके थे कि श्रीदेवी दक्षिण भारत से आयी एक अभिनेत्री हैं, जिनके हिंदी डायलॉग भी कोई दूसरी अभिनेत्री (नाज़) डब करती है। बॉक्स ऑफ़िस पर हिट-फ्लॉप का खेल चलता रहा, मगर श्रीदेवी की शोहरत का ग्राफ ऊपर चढ़ता रहा। शेखर कपूर की 'मिस्टर इंडिया' ने श्रीदेवी को एक अलग ही रूप में पेश किया। एक बेतरतीब रिपोर्टर के रूप में श्री ने बच्चों के दिल जीते तो 'काटे नहीं कटते दिन ये रात...' जैसे गाने से बड़ों को भी दीवाना बना लिया।

यह भी पढ़ें: श्रीदेवी को याद कर भावुक हुए राम गोपाल वर्मा, उनकी ये चिट्ठी आपको रुला देगी

फिर आयी 'चांदनी'। यश चोपड़ा के इस प्रेम त्रिकोण में श्रीदेवी ने ऋषि कपूर और विनोद खन्ना के साथ स्क्रीन स्पेस शेयर किया। इस रोमांटिक ड्रामा में एक बार फिर श्रीदेवी के डांस ने दर्शकों को थिरकने के लिए मजबूर किया। ये उनके स्टारडम का स्वर्णिम काल था। इस दौर में 'चालबाज़' रिलीज़ हुई, जिसमें उन्होंने डबल रोल निभाया और सनी देओल और रजनीकांत के साथ स्क्रीन स्पेस शेयर किया। नब्बे का दशक शुरू होने के साथ हिंदी सिनेमा माधुरी दीक्षित की मोहक मुस्कान की गिरफ़्त में आने लगा था। श्रीदेवी की फ़िल्मों की कामयाबी फीकी पड़ने लगी थी। 'लम्हे' और 'ख़ुदागवाह' जैसी फ़िल्मों ने श्रीदेवी के करियर को कुछ थामा तो 'रूप की रानी चोरों का राज़ा' और 'लाड़ला' जैसी फ़िल्मों के ज़रिए वो फिसलीं। 

1996 में उन्होंने बोनी कपूर से शादी करके तीन दशक लंबे करियर से ब्रेक लेने का मन बना लिया। 1997 में आयी 'कौन सच्चा कौन झूठा' में सदी बदलने से पहले श्रीदेवी आख़िरी बार पर्दे पर नज़र आयीं। 2004 में 'मेरी बीवी का जवाब नहीं' 10 साल की देरी के बाद रिलीज़ हुई। अक्षय कुमार के साथ ये फ़िल्म 1994 में ही बनकर तैयार हो गयी थी। लगभग 15 साल का वनवास ख़त्म करके 2012 में श्रीदेवी एक बार फिर पर्दे पर लौटीं और 'इंग्लिश विंग्लिश' के ज़रिए अपनी अदाकारी का दम दिखाया।

यह भी पढ़ें: पोस्टमार्टम के बाद ख़ास विमान से भारत पहुंचेगा श्रीदेवी का पार्थिव शरीर

श्रीदेवी के इस कमबैक को दर्शकों ने हाथोंहाथ लिया। श्रीदेवी पर्दे पर लौटीं तो, मगर फ़िल्में चुनने में कोई जल्दबाज़ी नहीं की। पांच साल बाद 2017 में उनकी 300वीं फ़िल्म 'मॉम' रिलीज़ हुई थी और अब वो शाह रुख़ ख़ान के साथ 'ज़ीरो' में नज़र आने वाली थीं। श्रीदेवी चली गयी हैं, लेकिन सिनेमा को अपनी अदाकारी की विरासत से मालामाल कर गयीं। 

Posted By: Manoj Vashisth

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस