Move to Jagran APP

कौन थे एशिया का सबसे बड़ा फिल्म स्टूडियो बनाने वाले Ramoji Rao, जहां एक साथ होती थी कई फिल्मों की शूटिंग

एशिया की सबसे बड़ी फिल्म सिटी रामोजी फिल्म सिटी (Ramoji Film City) की स्थापना रामोजी राव ने की थी। रामोजी राव का 8 जून की सुबह हैदराबाद के एक अस्पताल में निधन हो गया। वो 87 साल के थे। रामोजी को सांस लेने में कुछ दिक्कत हुई थी जिसके बाद उन्हें 5 जून को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

By Surabhi Shukla Edited By: Surabhi Shukla Sat, 08 Jun 2024 01:45 PM (IST)
कौन थे एशिया का सबसे बड़ा फिल्म स्टूडियो बनाने वाले Ramoji Rao, जहां एक साथ होती थी कई फिल्मों की शूटिंग
Who was Ramoji Film city founder Ramoji Rao

एंटरटेनमेंट डेस्क, नई दिल्ली। रामोजी ग्रुप के चेयरमैन और ETV ग्रुप के प्रमुख रामोजी राव का हैदराबाद के एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 87 वर्ष के थे। 5 जून को उन्हें हाई ब्लड प्रेशर और सांस फूलने की दिक्कत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था और वहीं उन्होंने अंतिम सांस ली।

रामोजी का जन्म 16 नवंबर, 1936 को आंध्र प्रदेश के पेडापारुपुडी में एक किसान परिवार में हुआ था। इस वजह से रामोजी का खेती से शुरू से ही मजबूत जुड़ाव था। उनका असली नाम रामय्या था जिसे उन्होंने बाद में बदलकर रामोजी कर लिया। उन्होंने साहित्य की पढ़ाई की और बाद में एक सफल बिजनेसमैन और मीडिया एंटरप्रेन्योर बन गए। उन्होंने रमादेवी से शादी की थी जिससे उन्हें दो बेटे, सुमन प्रभाकर और किरण प्रभाकर हुए।

पढ़ाई पूरी करने के बाद रामोजी ने दिल्ली की एक विज्ञापन एजेंसी में काम करना शुरू किया। इसके बाद उन्होंने 10 अगस्त, 1974 को विशाखापत्तनम में तेलुगु न्यूजपेपर ईनाडु की स्थापना की। इस अखबार ने उस समय काफी लोकप्रियता हासिल की और चार साल भीतर ही ये वहां का एक प्रमुख प्रकाशन बन गया।

क्या-क्या है बिजनेस?

ईनाडु अखबार के अलावा रामोजी दुनिया के सबसे बड़े फिल्म प्रोडक्शन हाउस रामोजी फिल्म सिटी, रामोजी ग्रुप, ईटीवी नेटवर्क और फिल्म प्रोडक्शन कंपनी उषा किरण मूवीज के प्रमुख थे। रामोजी ग्रुप के पास मार्गादारसी चिट फंड, रामादेवी पब्लिक स्कूल, डॉल्फिन ग्रुप ऑफ होटल्स और प्रिया फूड्स जैसे अन्य बिजनेस भी हैं।

इन पुरस्कारों से किया जा चुका है सम्मानित

रामोजी राव को तेलुगु सिनेमा और मीडिया में उनके योगदान के लिए कई सारे पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। साल 2016 में उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा 'नुव्वे कवली'(2000) के लिए उन्हें तेलुगु में सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला। इसके अलावा उन्हें रामिनेनी फाउंडेशन पुरस्कार और फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार भी मिल चुके हैं।

यह भी पढ़ें: रामोजी फिल्म सिटी के संस्थापक Ramoji Rao का निधन, राजकीय सम्‍मान के साथ क‍िया जाएगा अंत‍िम संस्‍कार

1996 में किया फिल्म सिटी का निर्माण

रामोजी राव की सबसे बड़ी उपलब्धियों में उनके द्वारा बनाई गई रामोजी फिल्म सिटी को माना जाता है। इसकी स्थापना 1996 में हुई थी। इस फिल्म सिटी में कई बड़े-बडे स्टूडियो हैं जहां कई कई फिल्मों के सेट लगाए जाते हैं। फिल्म चेन्नई एक्सप्रेस से लेकर बाहुबली तक कई बड़ी फिल्मों की शूटिंग यहां हुई है। जी हां, फिल्म बाहुबली में दिखाया गया वो बड़ा सा झरना फिल्मसिटी के अंदर ही बनाया गया था।

इन फिल्मों की हुई है शूटिंग

फिल्म सिटा के अंदर कई सारे गार्डन, 50 से ज्यादा स्टूडियो फ्लोर,ऑथराइज्ड सेट्स, डिजिटल फिल्म बनाने की सुविधा,आउटडोर लोकेशन और हाई-टेक्नोलॉजी वाली लैब मौजूद हैं। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो रामोजी फिल्म सिटी करीब 1666 एकड़ में फैली हुई हैं।

फिल्म सिटी में पुष्पा 2, सालार, बाहुबली 1,2, पीएस 1, आरआरआर जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्मों की शूटिंग हुई है। इसके अलावा चेन्नई एक्सप्रेस फिल्म का गाना बन के तितली और विद्या बालन की फिल्म डार्टी पिक्चर का गाना ऊ ला ला भी यहीं शूट हुआ है।

यह भी पढ़ें: Ramoji Rao Death: रामोजी राव के निधन से शोक में डूबी इंडस्ट्री, Rajamouli ने कहा- भारत रत्न ही सच्ची श्रद्धांजलि